Thursday, September 29, 2022
Homeदेश-समाजउस बिशप पर FIR, जिसने कहा था- नार्कोटिक जिहाद की शिकार बनाई जा रही...

उस बिशप पर FIR, जिसने कहा था- नार्कोटिक जिहाद की शिकार बनाई जा रही लड़कियाँ: केरल कोर्ट का आदेश

बिशप ने कहा था कि केरल में ‘लव जिहाद’ होने से इनकार करने का कोई भी प्रयास सच्चाई से मुँह मोड़ लेने जैसा है।

केरल की एक अदालत ने सोमवार (2 नवंबर 2021) को पाला बिशप मार जोसेफ कल्लारंगट के खिलाफ नारकोटिक जिहाद वाले बयान को लेकर केस दर्ज करने का आदेश दिया। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि पाला (कोट्टायम) में न्यायिक प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट अदालत ने पुलिस को कैथोलिक बिशप के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत मामला दर्ज करने का निर्देश दिया है। इसमें धारा 153 (ए) (विभिन्न समूहों के बीच धर्म, जाति या भाषा के आधार पर नफरत फैलाने या विभाजन पैदा करने) के अलावा अन्य धाराएँ शामिल हैं। अदालत ने यह आदेश इमाम काउंसिल ऑफ इंडिया की ओर से दायर एक याचिका पर दिया है। इस संबंध में कुराविलांगड पुलिस थाने ने प्राथमिकी दर्ज की है।

वहीं, बिशप के एक प्रवक्ता ने कहा कि इस बारे में हमें अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है और नोटिस मिलने के बाद चर्च कानूनी रूप से इससे निपटेगा। बिशप के खिलाफ केस दर्ज करने के वाले कोर्ट के आदेश का केरल छात्र संघ सहित कई मुस्लिम संगठनों ने स्वागत किया है।

दरअसल, सितंबर 2021 को कोट्टयम में चर्च के एक समारोह को संबोधित करते हुए जोसेफ कल्लारंगट ने कहा था केरल में ईसाई लड़कियाँ ‘लव और नारकोटिक्स जिहाद‘ का शिकार हो रही हैं। उन्होंने कहा था कि केरल में ‘लव जिहाद’ होने से इनकार करने का कोई भी प्रयास सच्चाई से मुँह मोड़ लेने जैसा है। बिशप ने कहा था कि मुस्लिम विचारों को जबरदस्ती लाने की योजना चल रही है। सभी कैथोलिकों को इसके बारे में पता होना चाहिए और सतर्क रहना चाहिए। इसको लेकर केरल के सीएम विजयन ने कहा था कि जिम्मेदार पदों पर कार्यरत व्यक्तियों को इस तरह के बयान देने में सावधानी बरतनी चाहिए। समाज में धर्म के आधार पर विभाजन पैदा करने वाले बयान नहीं दिए जाने चाहिए।

गौरतलब है कि ‘नारकोटिक्स जिहाद’ वाले बयान के कुछ दिनों बाद केरल के सायरो मालाबार कैथोलिक चर्च के बिशप जोसेफ कल्लारंगट ने केरल में बढ़ती कट्टरता और साम्प्रदायिकता पर भी चिंता जताई थी। उन्होंने कहा था, “छद्म धर्मनिरपेक्षता भारत को तबाह कर देगी। इसलिए असली धर्मनिरपेक्षता की रक्षा करने की आवश्यकता है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कैसा है वह ‘साहेब कोना’ जहाँ पहली बार हिंदू बने ईसाई: 1906 में जहाँ से भागे थे पादरी, 2022 में हमें भागना पड़ा

छत्तीसगढ़ के खड़कोना में 1906 में पहली बार हिंदुओं का धर्मांतरण हुआ। उसके बाद जो सिलसिला शुरू हुआ, उसने जशपुर को ईसाई धर्मांतरण के बड़े केंद्र में बदल दिया।

‘गौमूत्र पियो, गोबर खाओ हरा@*$’: बर्मिंघम में ‘अल्लाह-हू-अकबर’ बोल हिंदू मंदिर पर टूटी कट्टरपंथियों की भीड़, PM मोदी को दी माँ की गाली; Videos...

ब्रिटेन के बर्मिंघम में हिंदू मंदिर पर इस्लामी भीड़ ने हमला किया। वहाँ हिंदुओं को तो गंदी गालियाँ दी ही गईं। साथ में पीएम मोदी की माँ को भी गाली बकते कट्टरपंथी सुनाई पड़े।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,129FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe