Monday, November 29, 2021
Homeदेश-समाजकेरल: गर्भवती भैंस काटकर पूर्ण विकसित भ्रूण निकालकर खाया, अबू और सुहैल समेत 6...

केरल: गर्भवती भैंस काटकर पूर्ण विकसित भ्रूण निकालकर खाया, अबू और सुहैल समेत 6 गिरफ्तार

राज्य के वन अधिकारियों ने 10 अगस्त को हुई इस घटना के सिलसिले में मलप्पुरम जिले के छह मूल निवासियों को गिरफ्तार किया है। पुल्लारा अबू उर्फ ​​नानिप्पा, मुहम्मद बुस्तान, मुहम्मद अंसिफ, आशिक और सुहैल समेत एक अन्य आरोपित बाबू को गिरफ्तार किया है।

केरल में गर्भवती हथिनी की मौत की खबर के बाद एक गर्भवती जंगली भैंस को मारने की घटना सामने आई है। सैकड़ों लोगों ने मिलकर क्रूरतापूर्ण तरीके से गोली मारकर एक गर्भवती जंगली भैंस को मार दिया।

ऑर्गेनाइजर की एक रिपोर्ट के अनुसार, राज्य के वन अधिकारियों ने 10 अगस्त को हुई इस घटना के सिलसिले में मलप्पुरम जिले के छह मूल निवासियों को गिरफ्तार किया है। पुल्लारा अबू उर्फ ​​नानिप्पा (47), मुहम्मद बुस्तान (30), मुहम्मद अंसिफ (23), आशिक (27) और सुहैल ( 28) समेत एक अन्य आरोपित बाबू को रविवार (अगस्त 16, 2020) को गिरफ्तार किया है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, आरोपितों ने न केवल भैंस का माँस आपस में बाँटा बल्कि भैंस को चीरकर उसके पेट में पूर्ण विकसित भ्रूण के माँस को भी बाँट लिया।

इस मामले के आरोपित अबू ने अपनी ही बंदूक से जंगली भैंस को गोली मारी। भैंस को मारने के बाद उन्होंने उसके पेट से पूरी तरह से विकसित भ्रूण को भी निकाल लिया, और अपनी टीम के अन्य सदस्यों के बीच बाँट लिया। आरोपितों ने खोपड़ी सहित भैंस के शेष हिस्सों को जंगल में अलग-अलग स्थानों पर फेंक दिया।

इस क्रूर घटना के मामले में पहले आरोपित अबू के घर से 25 किलो माँस बरामद हुआ है। इस गिरोह के शेष सदस्य भी हिरासत में हैं। रेंज अधिकारी का अनुमान है कि इस घटना में इनके साथ और भी सहयोगी मौजूद थे। शुरूआती कार्रवाई पूरी करने के बाद आरोपितों को मंजेरी अदालत में पेश किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि कुछ माह पहले ही केरल के साइलेंट वैली नेशनल पार्क की एक गर्भवती हथिनी को कुछ लोगों ने पटाखों से भरा अनानास खिला दिया था। अनानास चबाते ही उसमें हुए विस्फोट से हथिनी का जबड़ा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था।

हफ्तेभर बाद 27 मई को पलक्कड़ में वेल्लियार नदी में हथिनी की मौत हो गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला कि हथिनी गर्भवती थी। इस घटना को लेकर देशभर में लोगों ने बड़े स्तर पर अपना विरोध प्रकट किया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,335FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe