Tuesday, March 9, 2021
Home देश-समाज कट्टरपंथियों ने सिर्फ हाथ काटा, चर्च ने तो जिंदगी तबाह कर दी, पत्नी ने...

कट्टरपंथियों ने सिर्फ हाथ काटा, चर्च ने तो जिंदगी तबाह कर दी, पत्नी ने कर ली आत्महत्या: एक प्रोफेसर की आपबीती

"चर्च ने इस्लामी कट्टरवाद और मेरे साथ हुए हमले का समर्थन किया, जिसकी वजह से PFI ने मुझ पर हमला किया और मुझे अपने हाथ गँवाने पड़े। चर्च के अधिकारियों ने मुझे इस्लामोफोबिया के साथ एक आतंकवादी के रूप में दिखाने का प्रयास किया।"

टीजे जोसेफ केरल के इदुकी जिले के एक कॉलेज में मलयालम पढ़ाते थे। 4 जुलाई 2010 को ईशनिंदा के आरोप में मुस्लिम कट्टरपंथियों ने उनका दाहिना हाथ काट दिया। कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन के 7 युवकों ने ​उन पर तब हमला किया जब वे अपने परिवार के साथ चर्च से प्रार्थना कर लौट रहे थे। कट्टरपंथियों का आरोप था कि जोसेफ ने परीक्षा के लिए जो प्रश्न तैयार किए थे उसमें ईशनिंदा वाले सवाल पूछे गए थे।

इस हमले के बाद जोसेफ का जीवन सामान्य नहीं रह गया था। हाल ही में जोसेफ की ऑटोबायोग्राफी रिलीज हुई है। इसके बाद एक फिर से धार्मिक असहिष्णुता कि मुद्दा गर्म हो गया। इसका कारण उन्हें निशाना बनाने वाले इस्लामिक कट्टरपंथी नहीं हैं। बल्कि, जोसेफ के खुद के ईसाई समुदाय ने उनकी जिंदगी तबाह कर दी। बकौल जोसेफ, उन्होंने अपना हाथ अपनी समुदाय की वजह से खोया है।

जोसेफ ने अपनी पुस्तक के विमोचन के बाद एक साक्षात्कार में हफपोस्ट इंडिया से बात करते हुए कहा, “इस्लामिक कट्टरपंथियों ने तो मुझ पर एक बार हमला किया। मगर जिस ईसाई संप्रदाय से मेरा संबंध है, उसने मुझे बहिष्कृत करके मेरा जीवन बर्बाद कर दिया। बिना किसी उचित कारण के मुझे नौकरी से निकाल दिया। मेरी नौकरी छूटने के कारण हुए सामाजिक अलगाव और आर्थिक संकट से तंग आकर मेरी पत्नी ने आत्महत्या कर ली।”

खुद को ‘ईसाई कट्टरता का जीवित शहीद’ बताते हुए 63 वर्षीय जोसेफ ने चर्च पर आरोप लगाया कि उसने मुस्लिम समूहों के साथ सीधे टकराव से बचने के लिए उन्हें बलि का बकरा बनाया। बता दें कि जोसेफ द्वारा सेट किए गए पेपर पर विवाद बढ़ने के बाद वो गिरफ्तारी के डर से अंडरग्राउंड हो गए थे। पुलिस ने उनके खिलाफ सांप्रदायिक घृणा फैलाने का मामला दर्ज कर लिया था। बचने के लिए जोसेफ एक शहर से दूसरे शहर भाग रहे थे। आखिरकार उन्हें पलक्कड़ जिले में एक मुस्लिम के लॉज में आसरा मिला। 1 अप्रैल 2010 को उन्हें यहाँ से गिरफ्तार कर लिया गया। कुछ समय बाद ही जोसेफ जमानत पर रिहा हो गए थे, लेकिन उनके पास नौकरी नहीं थी। उसी साल मार्च में उन्हें जॉब से सस्पेंड कर दिया गया। जोसेफ बताते हैं कि वो तीन बार हमले से बच गए, लेकिन चौथी बार हमलावरों ने उनका हाथ काट दिया।

जोसेफ कहते हैं, “शुरुआत में जब प्रश्न को लेकर विवाद हुआ तो साइरो मालाबार चर्च और इसके तहत आने वाले कॉलेज मैनेजमेंट ने मेरा पूर्ण समर्थन दिया था। हालाँकि मार्च 2010 में ही केरल में चर्च के अधिकारियों की एक दूसरी हाई-लेवल मीटिंग हुई थी। इसके बाद हर किसी ने अपना स्टैंड बदल लिया। इस बैठक में PFI और अन्य कट्टरपंथी इस्लामी संगठनों का विरोध नहीं करने का निर्णय लिया गया। इसके बाद मैं बिल्कुल अकेला रह गया।” उन्होंने आगे कहा, “चर्च ने इस्लामी कट्टरवाद और मेरे साथ हुए हमले का समर्थन किया, जिसकी वजह से PFI ने मुझ पर हमला किया और मुझे अपने हाथ गँवाने पड़े।”

हमले में अपना दाहिना हाथ खोने के बाद उन्होंने बाएँ हाथ से पुस्तक लिखी। जोसेफ ने बताया कि चर्च ने शुरुआत में समर्थन करने के बाद उन्हें बहिष्कृत कर दिया। इसका साफ मतलब था कि चर्च ने आधिकारिक तौर पर यह घोषित कर दिया कि वो अब इसके सदस्य नहीं रहे। उनके साथ-साथ उनकी पत्नी, दो बच्चे और बुजुर्ग माँ को भी बहिष्कृत कर हाशिए पर खड़ा कर दिया।

जोसेफ कहते हैं, “चर्च के अधिकारियों ने मुझे इस्लामोफोबिया के साथ एक आतंकवादी के रूप में दिखाने का प्रयास किया। उन्होंने मुझे बहिष्कृत किया और पादरियों और धर्मात्माओं को मेरे पास आने और किसी भी प्रकार की मदद करने से रोका। यहीं से तकलीफें शुरू हुईं, जो अभी भी मेरे जीवन को प्रभावित कर रहा है।” वो कहते हैं, “चर्च के फैसले की वजह से मेरे बच्चों ने अपनी माँ को खो दिया। अब वो कभी वापस नहीं आएगी।”

उन्होंने आगे कहा, “मुस्लिम संगठन ने मेरे ऊपर हमला किया, लेकिन मेरे अपने लोगों ने मुझे जॉब से निकाल दिया, मेरे परिवार को बहिष्कृत कर दिया। चर्च और कॉलेज ने जो मेरे साथ किया वो कट्टरपंथियो के किए से भी भयानक सजा है।”

एकेडमिक और लेखक शाजी जैकब का कहना है कि जोसेफ के हाथ काट दिए जाने और फिर उनकी पत्नी द्वारा आत्महत्या कर लिए जाने के बाद से ही केरल में मजहबी कट्टरवाद अत्यंत चिंता का विषय बनकर उभरा। उन्होंने कहा, “अब उनकी (टीजे जोसेफ की) आत्मकथा साबित करती है कि कोई भी धार्मिक समूह असहिष्णुता और रुढिवादिता से मुक्त नहीं है। कैथोलिक चर्च ने अदालतों द्वारा उन्हें ईशनिंदा के आरोप से मुक्त करने के बाद भी उनके साथ बुरा व्यवहार किया है।”

पैगंबर मो. पर सवाल पूछने वाले प्रोफेसर का नजीब ने काटा था हाथ, NIA ने दोबारा किया गिरफ्तार

डॉक्टर बनना चाहती थी केरल की निमिषा, लव जिहादियों ने पहले फातिमा बनाया फिर फिदायीन बम

बढ़ रहा लव जिहाद, धर्मांतरण करवा ईसाई लड़कियों का हो रहा निकाह: केरल का चर्च

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सोनिया जी रोई या नहीं? आवास में तो मातम पसरा होगा’: बाटला हाउस केस में फैसले के बाद ट्रोल हुए सलमान खुर्शीद

"सोनिया गाँधी, दिग्वियजय सिंह, सलमान खुर्शीद, अरविंद केजरीवाल और अन्य लोगों जिन्होंने बाटला हाउस एनकाउंटर को फेक बताया था, इस फैसले के बाद पुलिसवालों के परिवार व पूरे देश से माफी माँगेंगे।"

मिथुन दा के बाद क्या बीजेपी में शामिल होंगे सौरभ गांगुली? इंटरव्यू में खुद किया बड़ा खुलासा: देखें वीडियो

लंबे वक्त से अटकलें लगाई जा रही हैं कि बंगाल टाइगर के नाम से प्रख्यात क्रिकेटर सौरव गांगुली बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। गांगुली ने जो कहा, उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि दादा का विचार राजनीति में आने का है।

सलमान खुर्शीद ने दिखाई जुनैद की तस्वीर, फूट-फूट कर रोईं सोनिया गाँधी; पालतू मीडिया गिरते-पड़ते पहुँची!

पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद के एक तस्वीर लेकर 10 जनपथ पहुँचने की वजह से सारा बखेड़ा खड़ा हुआ है।

‘भारत की समृद्ध परंपरा के प्रसार में सेक्युलरिज्म सबसे बड़ा खतरा’: CM योगी की बात से लिबरल गिरोह को सूँघा साँप

सीएम ने कहा कि भगवान श्रीराम की परम्परा के माध्यम से भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को वैश्विक मंच पर स्थापित किया जाना चाहिए।

‘बलात्कार पीड़िता से शादी करोगे’: बोले CJI- टिप्पणी की हुई गलत रिपोर्टिंग, महिलाओं का कोर्ट करता है सर्वाधिक सम्मान

बलात्कार पीड़िता से शादी को लेकर आरोपित से पूछे गए सवाल की गलत तरीके से रिपोर्टिंग किए जाने की बात चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने कही है।

असमी गमछा, नागा शाल, गोंड पेपर पेंटिंग, खादी: PM मोदी ने विमेंस डे पर महिला निर्मित कई प्रॉडक्ट को किया प्रमोट

"आपने मुझे बहुत बार गमछा डाले हुए देखा है। यह बेहद आरामदायक है। आज, मैंने काकातीपापुंग विकास खंड के विभिन्न स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाया गया एक गमछा खरीदा है।"

प्रचलित ख़बरें

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘हराम की बोटी’ को काट कर फेंक दो, खतने के बाद लड़कियाँ शादी तक पवित्र रहेंगी: FGM का भयावह सच

खतने के जरिए महिलाएँ पवित्र होती हैं। इससे समुदाय में उनका मान बढ़ता है और ज्यादा कामेच्छा नहीं जगती। - यही वो सोच है, जिसके कारण छोटी बच्चियों के जननांगों के साथ इतनी क्रूर प्रक्रिया अपनाई जाती है।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

‘ठकबाजी गीता’: हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने FIR रद्द की, नहीं माना धार्मिक भावनाओं का अपमान

चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने कहा, "धारा 295 ए धर्म और धार्मिक विश्वासों के अपमान या अपमान की कोशिश के किसी और प्रत्येक कृत्य को दंडित नहीं करता है।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,347FansLike
81,968FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe