Thursday, April 2, 2020
होम देश-समाज मुसलमानों ने सिर्फ हाथ काटा, चर्च ने तो जिंदगी तबाह कर दी, पत्नी ने...

मुसलमानों ने सिर्फ हाथ काटा, चर्च ने तो जिंदगी तबाह कर दी, पत्नी ने कर ली आत्महत्या: एक प्रोफेसर की आपबीती

"चर्च ने इस्लामी कट्टरवाद और मेरे साथ हुए हमले का समर्थन किया, जिसकी वजह से PFI ने मुझ पर हमला किया और मुझे अपने हाथ गँवाने पड़े। चर्च के अधिकारियों ने मुझे इस्लामोफोबिया के साथ एक आतंकवादी के रूप में दिखाने का प्रयास किया।"

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

टीजे जोसेफ केरल के इदुकी जिले के एक कॉलेज में मलयालम पढ़ाते थे। 4 जुलाई 2010 को ईशनिंदा के आरोप में मुस्लिम कट्टरपंथियों ने उनका दाहिना हाथ काट दिया। कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन के 7 युवकों ने ​उन पर तब हमला किया जब वे अपने परिवार के साथ चर्च से प्रार्थना कर लौट रहे थे। कट्टरपंथियों का आरोप था कि जोसेफ ने परीक्षा के लिए जो प्रश्न तैयार किए थे उसमें ईशनिंदा वाले सवाल पूछे गए थे।

इस हमले के बाद जोसेफ का जीवन सामान्य नहीं रह गया था। हाल ही में जोसेफ की ऑटोबायोग्राफी रिलीज हुई है। इसके बाद एक फिर से धार्मिक असहिष्णुता कि मुद्दा गर्म हो गया। इसका कारण उन्हें निशाना बनाने वाले इस्लामिक कट्टरपंथी नहीं हैं। बल्कि, जोसेफ के खुद के ईसाई समुदाय ने उनकी जिंदगी तबाह कर दी। बकौल जोसेफ, उन्होंने अपना हाथ अपनी समुदाय की वजह से खोया है।

जोसेफ ने अपनी पुस्तक के विमोचन के बाद एक साक्षात्कार में हफपोस्ट इंडिया से बात करते हुए कहा, “इस्लामिक कट्टरपंथियों ने तो मुझ पर एक बार हमला किया। मगर जिस ईसाई संप्रदाय से मेरा संबंध है, उसने मुझे बहिष्कृत करके मेरा जीवन बर्बाद कर दिया। बिना किसी उचित कारण के मुझे नौकरी से निकाल दिया। मेरी नौकरी छूटने के कारण हुए सामाजिक अलगाव और आर्थिक संकट से तंग आकर मेरी पत्नी ने आत्महत्या कर ली।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

खुद को ‘ईसाई कट्टरता का जीवित शहीद’ बताते हुए 63 वर्षीय जोसेफ ने चर्च पर आरोप लगाया कि उसने मुस्लिम समूहों के साथ सीधे टकराव से बचने के लिए उन्हें बलि का बकरा बनाया। बता दें कि जोसेफ द्वारा सेट किए गए पेपर पर विवाद बढ़ने के बाद वो गिरफ्तारी के डर से अंडरग्राउंड हो गए थे। पुलिस ने उनके खिलाफ सांप्रदायिक घृणा फैलाने का मामला दर्ज कर लिया था। बचने के लिए जोसेफ एक शहर से दूसरे शहर भाग रहे थे। आखिरकार उन्हें पलक्कड़ जिले में एक मुस्लिम के लॉज में आसरा मिला। 1 अप्रैल 2010 को उन्हें यहाँ से गिरफ्तार कर लिया गया। कुछ समय बाद ही जोसेफ जमानत पर रिहा हो गए थे, लेकिन उनके पास नौकरी नहीं थी। उसी साल मार्च में उन्हें जॉब से सस्पेंड कर दिया गया। जोसेफ बताते हैं कि वो तीन बार हमले से बच गए, लेकिन चौथी बार हमलावरों ने उनका हाथ काट दिया।

जोसेफ कहते हैं, “शुरुआत में जब प्रश्न को लेकर विवाद हुआ तो साइरो मालाबार चर्च और इसके तहत आने वाले कॉलेज मैनेजमेंट ने मेरा पूर्ण समर्थन दिया था। हालाँकि मार्च 2010 में ही केरल में चर्च के अधिकारियों की एक दूसरी हाई-लेवल मीटिंग हुई थी। इसके बाद हर किसी ने अपना स्टैंड बदल लिया। इस बैठक में PFI और अन्य कट्टरपंथी इस्लामी संगठनों का विरोध नहीं करने का निर्णय लिया गया। इसके बाद मैं बिल्कुल अकेला रह गया।” उन्होंने आगे कहा, “चर्च ने इस्लामी कट्टरवाद और मेरे साथ हुए हमले का समर्थन किया, जिसकी वजह से PFI ने मुझ पर हमला किया और मुझे अपने हाथ गँवाने पड़े।”

हमले में अपना दाहिना हाथ खोने के बाद उन्होंने बाएँ हाथ से पुस्तक लिखी। जोसेफ ने बताया कि चर्च ने शुरुआत में समर्थन करने के बाद उन्हें बहिष्कृत कर दिया। इसका साफ मतलब था कि चर्च ने आधिकारिक तौर पर यह घोषित कर दिया कि वो अब इसके सदस्य नहीं रहे। उनके साथ-साथ उनकी पत्नी, दो बच्चे और बुजुर्ग माँ को भी बहिष्कृत कर हाशिए पर खड़ा कर दिया।

जोसेफ कहते हैं, “चर्च के अधिकारियों ने मुझे इस्लामोफोबिया के साथ एक आतंकवादी के रूप में दिखाने का प्रयास किया। उन्होंने मुझे बहिष्कृत किया और पादरियों और धर्मात्माओं को मेरे पास आने और किसी भी प्रकार की मदद करने से रोका। यहीं से तकलीफें शुरू हुईं, जो अभी भी मेरे जीवन को प्रभावित कर रहा है।” वो कहते हैं, “चर्च के फैसले की वजह से मेरे बच्चों ने अपनी माँ को खो दिया। अब वो कभी वापस नहीं आएगी।”

उन्होंने आगे कहा, “मुस्लिम संगठन ने मेरे ऊपर हमला किया, लेकिन मेरे अपने लोगों ने मुझे जॉब से निकाल दिया, मेरे परिवार को बहिष्कृत कर दिया। चर्च और कॉलेज ने जो मेरे साथ किया वो कट्टरपंथियो के किए से भी भयानक सजा है।”

एकेडमिक और लेखक शाजी जैकब का कहना है कि जोसेफ के हाथ काट दिए जाने और फिर उनकी पत्नी द्वारा आत्महत्या कर लिए जाने के बाद से ही केरल में मजहबी कट्टरवाद अत्यंत चिंता का विषय बनकर उभरा। उन्होंने कहा, “अब उनकी (टीजे जोसेफ की) आत्मकथा साबित करती है कि कोई भी धार्मिक समूह असहिष्णुता और रुढिवादिता से मुक्त नहीं है। कैथोलिक चर्च ने अदालतों द्वारा उन्हें ईशनिंदा के आरोप से मुक्त करने के बाद भी उनके साथ बुरा व्यवहार किया है।”

पैगंबर मो. पर सवाल पूछने वाले प्रोफेसर का नजीब ने काटा था हाथ, NIA ने दोबारा किया गिरफ्तार

डॉक्टर बनना चाहती थी केरल की निमिषा, लव जिहादियों ने पहले फातिमा बनाया फिर फिदायीन बम

बढ़ रहा लव जिहाद, धर्मांतरण करवा ईसाई लड़कियों का हो रहा निकाह: केरल का चर्च

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ताज़ा ख़बरें

Covid-19: दुनियाभर में 45000 से ज़्यादा मौतें, भारत में अब तक 1637 संक्रमित, 38 मौतें

विश्वभर में कोरोना संक्रमण के अब तक कुल 903,799 लोग संक्रमित हो चुके हैं जिनमें से 45,334 लोगों की मौत हुई और 190,675 लोग ठीक भी हो चुके हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण सबसे अधिक प्रभावित देश अमेरिका, इटली, स्पेन, चीन और जर्मनी हैं।

तबलीगी मरकज से निकले 72 विदे‍शियों सहित 503 जमातियों ने हरियाणा में मारी एंट्री, मस्जिदों में छापेमारी से मचा हड़कंप

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने बताया कि सभी की मेडिकल जाँच की जाएगी। उन्होंने बताया कि सभी 503 लोगों के बारे में पूरी जानकारी मिल चुकी है, लेकिन उनकी जानकारी को पुख्ता करने के लिए गृह विभाग अपने ढंग से काम करने में जुटा हुआ है।

फैक्ट चेक: क्या तबलीगी मरकज की नौटंकी के बाद चुपके से बंद हुआ तिरुमला तिरुपति मंदिर?

मरकज बंद करने के फ़ौरन बाद सोशल मीडिया पर एक खबर यह कहकर फैलाई गई कि आंध्रप्रदेश में स्थित तिरुमाला के भगवान वेंकेटेश्वर मंदिर को तबलीगी जमात मामला के जलसे के सामने आने के बाद बंद किया गया है।

इंदौर: कोरोनो वायरस संदिग्ध की जाँच करने गई मेडिकल टीम पर ‘मुस्लिम भीड़’ ने किया पथराव, पुलिस पर भी हमला

मध्य प्रदेश का इंदौर शहर सबसे अधिक कोरोना महामारी की चपेट में है, जहाँ मंगलवार को एक ही दिन में 20 नए मामले सामने आए, जिनमें 11 महिलाएँ और शेष बच्चे शामिल थे। साथ ही मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 6 हो गई है।

योगी सरकार के खिलाफ फर्जी खबर फैलानी पड़ी महँगी: ‘द वायर’ पर दर्ज हुई FIR

"हमारी चेतावनी के बावजूद इन्होंने अपने झूठ को ना डिलीट किया ना माफ़ी माँगी। कार्रवाई की बात कही थी, FIR दर्ज हो चुकी है आगे की कार्यवाही की जा रही है। अगर आप भी योगी सरकार के बारे में झूठ फैलाने के की सोच रहे है तो कृपया ऐसे ख़्याल दिमाग़ से निकाल दें।"

बिहार की एक मस्जिद में जाँच करने पहुँची पुलिस पर हमले का Video, औरतों-बच्चों ने भी बरसाए पत्थर

विडियो में दिख रही कई औरतों के हाथ में लाठी है। एक लड़के के हाथ में बल्ला दिख रहा है और वह लगातार मार, मार... चिल्ला रहा। भीड़ में शामिल लोग लगातार पत्थरबाजी कर रहे हैं। खेतों से किसी तरह पुलिसकर्मी जान बचाकर भागते हैं और...

प्रचलित ख़बरें

रवीश है खोदी पत्रकार, BHU प्रोफेसर ने भोजपुरी में विडियो बनाके रगड़ दी मिर्ची (लाल वाली)

प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार को सलाह देते हुए कहा कि वो थोड़ी सकारात्मक बातें भी करें। जब प्रधानमंत्री देश की जनता की परेशानी के लिए क्षमा माँग रहे हैं, ऐसे में रवीश क्या कहते हैं कि देश की सारी जनता मर जाए?

800 विदेशी इस्लामिक प्रचारक होंगे ब्लैकलिस्ट: गृह मंत्रालय का फैसला, नियम के खिलाफ घूम-घूम कर रहे थे प्रचार

“वे पर्यटक वीजा पर यहाँ आए थे लेकिन मजहबी सम्मेलनों में भाग ले रहे थे, यह वीजा नियमों के शर्तों का उल्लंघन है। हम लगभग 800 इंडोनेशियाई प्रचारकों को ब्लैकलिस्ट करने जा रहे हैं ताकि भविष्य में वे देश में प्रवेश न कर सकें।”

जान-बूझकर इधर-उधर थूक रहे तबलीग़ी जमात के लोग, डॉक्टर भी परेशान: निजामुद्दीन से जाँच के लिए ले जाया गया

निजामुद्दीन में मिले विदेशियों ने वीजा नियमों का भी उल्लंघन किया है, ऐसा गृह मंत्रालय ने बताया है। यहाँ तबलीगी जमात के मजहबी कार्यक्रम में न सिर्फ़ सैकड़ों लोग शामिल हुए बल्कि उन्होंने एम्बुलेंस को भी लौटा दिया था। इन्होने सतर्कता और सोशल डिस्टन्सिंग की सलाहों को भी जम कर ठेंगा दिखाया।

बिहार के मधुबनी की मस्जिद में थे 100 जमाती, सामूहिक नमाज रोकने पहुँची पुलिस टीम पर हमला

पुलिस को एक किमी तक समुदाय विशेष के लोगों ने खदेड़ा। उनकी जीप तालाब में पलट दी। छतों से पत्थर फेंके गए। फायरिंग की बात भी कही जा रही। सब कुछ ऐसे हुआ जैसे हमले की तैयारी पहले से ही हो। उपद्रव के बीच जमाती भाग निकले।

मंदिर और सेवा भारती के कम्युनिटी किचेन को ‘आज तक’ ने बताया केजरीवाल का, रोज 30 हजार लोगों को मिल रहा खाना

सच्चाई ये है कि इस कम्युनिटी किचेन को 'झंडेवालान मंदिर कमिटी' और समाजसेवा संगठन 'सेवा भारती' मिल कर रही है। इसीलिए आजतक ने बाद में हेडिंग को बदल दिया और 'कैसा है केजरीवाल का कम्युनिटी किचेन' की जगह 'कैसा है मंदिर का कम्युनिटी किचेन' कर दिया।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

170,349FansLike
52,784FollowersFollow
209,000SubscribersSubscribe
Advertisements