Tuesday, June 18, 2024
Homeदेश-समाज'जिस दिन मिल गया छेद डालेंगे... जानता नहीं हमें': खालिस्तानियों ने सिख कार्यकर्ता की...

‘जिस दिन मिल गया छेद डालेंगे… जानता नहीं हमें’: खालिस्तानियों ने सिख कार्यकर्ता की हत्या की रची साजिश, ‘क्लब हाउस ऐप’ का नाम आया सामने

खालिस्तानी विचारधारा से असहमत लोगों को दबाने का खालिस्तानियों का एक लंबा इतिहास रहा है। इसी साल जनवरी में ऑपइंडिया ने बताया था कि किस तरह से हिंदुओं को टार्गेट करने के लिए खालिस्तानी धड़ल्ले से क्लब हाउस ऐप का इस्तेमाल कर रहे हैं।

सिख कार्यकर्ता पुनीत साहनी ने 6 अप्रैल 2022 को ट्विटर स्पेस की एक रिकॉर्डिंग शेयर की है, जिसमें खालिस्तानी तत्वों को उनकी हत्या की साजिश करते हुए सुना जा सकता है। अपने ट्वीट में साहनी ने कहा, “मैं खालिस्तानियों से बौद्धिक रूप से निपटने में असमर्थ हूँ, जो मुझे प्रवासी गुरुद्वारों में धर्म का दुश्मन घोषित करते हैं और ऑनलाइन हत्या की साजिश रच रहे हैं। @utf8tty को सुनिए ‘मेरे 2 प्राइवेट इन्वेस्टिगेटर हैं, जिस दिन हमें लगेगा, उस दिन हम उसका पता ढूँढ लेंगे’।”

सोशल मीडिया यूजर utf8tty (जिसका ‘Eintmaar’ के रूप में जिक्र है। इसका अर्थ है पत्थर फेंकने वाला), जिसका जिक्र साहनी ने किया है, उसे 7 अप्रैल को निलंबित कर दिया गया है। इस यूजर की प्रोफाइल के cached version के अंतिम ट्वीट में लिखा था, “इंद्रधनुषी पगड़ी वाली बहन डर गई। मुझे अभी तक उसका पता नहीं मिला है।”

साहनी द्वारा शेयर की गई क्लिप

वायरल क्लिप में जो व्यक्ति बोल रहा है, उसकी डिस्प्ले पिक्चर (DP) और नाम ट्विटर हैंडल utf8tty की तरह ही है। क्लिप में वह व्यक्ति कहता है, “वो नहीं जानता कि मैं कौन हूँ। मेरी बात सुनो। पुनीत साहनी का पता लगाने के लिए मैंने दो प्राइवेट इन्वेस्टिगेटरों को रखा है। जिस दिन भी उसका पता मिल गया, मैं उसे छेद डालूँगा। ये मेरे सामने कुछ भी नहीं है।”

कौन हैं पुनीत साहनी

पुनीत साहनी एक सिख कार्यकर्ता हैं, जो कि सिख फॉर एनलाइटमेंट वैल्यूज एसोसिएशन (SEVA) पर कंटेंट कोऑर्डिनेटर हैं। वो सिखों के असली इतिहास को उजागर करने का मिशन चला रहे हैं। वो खालिस्तानी आंदोलन और उसके समर्थकों की आलोचना करते रहे हैं, जिस कारण से साहनी खालिस्तानियों के निशाने पर हैं।

सिखों के इतिहास की अच्छी जानकारी रखने वाले साहनी पंजाबी में पारंगत हैं। वो खालिस्तानियों के सबसे बड़े दुश्मन बन चुके हैं। उनके पर्सनल ट्विटर अकाउंट के साथ ही SEVA के अकाउंट को कई बार निशाना बनाया जा चुका है।

असहमत होने वालों को टार्गेट कर रहे खालिस्तानी

खालिस्तानी विचारधारा से असहमत लोगों को दबाने का खालिस्तानियों का एक लंबा इतिहास रहा है। इसी साल जनवरी में ऑपइंडिया ने बताया था कि किस तरह से हिंदुओं को टार्गेट करने के लिए खालिस्तानी धड़ल्ले से क्लब हाउस ऐप का इस्तेमाल कर रहे हैं। यहाँ वो हिंदू देवी-देवताओं को गाली देते हैं, हिंदू नरसंहार की बात करते हैं और हिंदू समुदाय के खिलाफ नफरत फैलाते हैं। ऐसे तत्वों के खिलाफ कई शिकायतें की गईं। यहाँ तक कि उनके खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज की गई। इसके बावजूद उनकी गतिविधियों में कमी नहीं आई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हज यात्रियों पर आसमान से बरस रही आग, अब तक 22 मौतें: मक्का की सड़कों पर पड़े हुए हैं शव, सऊदी अरब के लचर...

ये वीडियो कथित तौर पर एक पाकिस्तानी ने बनाया है, जिसमें वो पाकिस्तानी सरकार को भी खरी-खोटी सुनाता दिख रहा है।

पाकिस्तान से ज्यादा हुए भारत के एटम बम, अब चीन को भेद देने वाली मिसाइल पर फोकस: SIPRI की रिपोर्ट में खुलासा, ड्रैगन के...

वर्तमान में परमाणु शक्ति संपन्न देशों में भारत, चीन, पाकिस्तान के अलावा अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस, उत्तर कोरिया और इजरायल भी आते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -