Thursday, May 30, 2024
Homeदेश-समाजतीन बच्चों की माँ शबाना ने अपने प्रेमी जीजा हकीम के साथ मिलकर लिव...

तीन बच्चों की माँ शबाना ने अपने प्रेमी जीजा हकीम के साथ मिलकर लिव इन पार्टनर संजय को बेरहमी से मारा, गिरफ्तार

दोनों आरोपितों जीजा और साली ने उस युवक के सिर पर पहले सिलबट्टे से और फिर ब्लेड से गर्दन पर वार किए। इसके बाद भी जब वह नहीं मरा तो उन्होंने तकिए से उसका गला घोंट दिया।

मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में तीन बच्चों की माँ ने अपने प्रेमी जीजा के साथ मिलकर लिव इन पार्टनर को मौत के घाट उतार दिया है। बताया जा रहा है कि संजय नाम के शख्स के साथ शबाना नाम की महिला लिव इन रिलेशनशिप में रहती थी। यह युवक शबाना और उसके प्रेमी जीजा के बीच रोड़ा बन रहा था। इसलिए दोनों ने उसे दर्दनाक मौत देने की योजना बनाई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोनों आरोपितों जीजा और साली ने उस युवक के सिर पर पहले सिलबट्टे से और फिर ब्लेड से गर्दन पर वार किए। इसके बाद भी जब वह नहीं मरा तो उन्होंने तकिए से उसका गला घोंट दिया।

इस वारदात को सोमवार (28 जून 2021) रात को खंडवा के रामनगर के मल्टी में अंजाम दिया गया था। पुलिस ने बुधवार (30 जून 2021) को बताया कि उन्होंने 26 वर्षीय संजय का शव उसी रात तालाब से बरामद किया था। उन्होंने बताया कि संजय पिता तुलसीराम बामने करीब 2 साल से रामनगर स्थित चीरा खदान मल्टी में किराए के मकान में रह रहा था। एक रिपोर्ट के मुताबिक, संजय ने शबाना नाम की महिला से शादी भी कर ली थी।

पुलिस ने हत्या का केस दर्ज कर लिया है। उन्हें जाँच में युवक की गर्दन पर धारदार हथियार से वार के निशान और मल्टी नंबर 15 में खून के धब्बों के निशान मिले हैं। पुलिस के अनुसार, संजय के साथ शबाना लिव इन रिलेशनशिप में रह रही थी। उन्होंने शक के आधार पर महिला को हिरासत में लेकर उससे पूछताछ शुरू की। हालाँकि, सख्ती बरतने पर महिला ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर संजय की हत्या करने की बात कबूल कर ली है।

कोतवाली TI बीएल मंडलोई ने बताया, ”शबाना ने पहले संजय को अपने प्रेम के जाल में फँसाया था। इसके बाद युवक अपने माता-पिता को छोड़कर महिला के साथ लिव इन में रहने लगा। महिला अपने पति को छोड़ चुकी थी, लेकिन उसके तीन बच्चों का खर्च ठीक चल रहा था।” उन्होंने बताया कि शबाना की बहन के साथ हुए विवाद के बाद से उसका जीजा हकीम अकेला पड़ गया। इसके बाद उसने मल्टी नंबर 15 में आना-जाना शुरू कर दिया। घर में हकीम को देखने के बाद संजय आगबबूला हो जाता था। इसको लेकर उसका कई बार शबाना से झगड़ा भी हुआ था। वहीं, शबाना और उसके जीजा का प्यार धीरे-धीरे परवान चढ़ने लगा था। महिला अब संजय से छुटकारा पाने की कोशिश कर रही थी। इस बीच जीजा और साली ने मिलकर अपने प्यार में बाधा बन रहे संजय को रास्ते से हटाने की योजना बनाई।

बताया जा रहा है कि 28 जून की रात करीब एक बजे शबाना ने हकीम के साथ मिलकर संजय को मौत के घाट उतार दिया। उन्होंने युवक की जान लेने के लिए उसकी गर्दन पर सात वार किए थे। मल्टी का कमरा खून से भर गया था। हत्या के बाद दो-तीन घंटे तक उन्होंने साक्ष्य मिटाने का प्रयास किया। इसके बाद खून से सने कपड़ों और लाश को बोरे में भरकर दोनों ने तालाब में फेंक दिया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -