Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाज'जिहादी हत्या को स्थानीय झगड़ा दिखाने की थी साजिश': जानिए गो-भक्त किशन भरवाड को...

‘जिहादी हत्या को स्थानीय झगड़ा दिखाने की थी साजिश’: जानिए गो-भक्त किशन भरवाड को इस्लामी कट्टरपंथियों ने कैसे मौत के घाट उतारा

“वह बच्चे को देखने की आशा में मेरे भाई के घर से दूसरे घर जा रहा था। उसका चचेरा भाई बाइक चला रहा था और वह पीछे बैठ गया। वह शाम 4 बजे वापस आया और शाम 5:30 बजे उन्होंने उसे मार डाला।”

अहमदाबाद जिले में धंधुका तालुका (Dhandhuka Taluka) अहमदाबाद शहर से 100 किलोमीटर से थोड़ा ज़्यादा दूर है। आप सरखेज से बाहर निकलते हैं, जो सरखेज रोजा के मस्जिद और मकबरे के लिए जाना जाता है, धंधुका पहुँचने के लिए चांगोदर के औद्योगिक क्षेत्र और अन्य हिस्सों से गुजरना होता है। शहर से वहाँ पहुँचने में दो घंटे से थोड़ा अधिक समय लगता है। औद्योगिक क्षेत्र से बाहर निकलने के बाद, राजमार्ग के दोनों किनारों पर लहलहाती खेतों के साथ सुंदर ग्रामीण इलाकों को देखा जा सकता है।

ऐसे रास्तों से गुजरते हुए अगला पड़ाव 27 वर्षीय किशन बोलिया का घर था, जिसे किशन भरवाड भी कहा जाता है, जहाँ उनके माता-पिता अपने बेटे की असामयिक मृत्यु का शोक मना रहे हैं। उन्हें मौलानाओं (इस्लामी धार्मिक नेताओं) से प्रेरित कट्टरपंथियों ने गोली मार दी थी, जिनको तथाकथित ‘ईशनिंदा’ करने वाले व्यक्ति को जान से मारने की जिहादी गतिविधि को अंजाम देने के लिए उकसाया था।

दरअसल, किशन ने एक वीडियो शेयर किया था जिसमें पैगंबर मुहम्मद की तस्वीर दिखाई दे रही थी। मुसलमानों का दृढ़ विश्वास है कि पैगम्बर मुहम्मद का तस्वीर दिखाना या चित्र बनाना वर्जित है। इस्लामवादियों का मानना ​​​​है कि इस तरह का दृश्य दिखाना ईशनिंदा है और पैगम्बर मुहम्मद का ‘अपमान’ है, और ईशनिंदा करने वाले का सिर कलम करना उचित सजा है।

दुर्भाग्य से, कई लोग अभी भी हैं जो इस्लाम में ईशनिंदा के ऐसे भयावह कानूनों से अनजान हैं।

किशन बोलिया का घर

चचना बस स्टॉप के पास मुख्य सड़क के नजदीक ही किशन के परिवार का घर है। जहाँ आज दिन भर राजनीतिक नेताओं के आने की उम्मीद थी, इसलिए वहाँ मीडिया की भारी मौजूदगी थी। घर के बाहर गाय-भैंस बँधे हैं।

उनके पिता ने हाथ जोड़कर रोते हुए कहा, “किशन को गायों से प्यार था। उनका इंस्टाग्राम प्रोफाइल भी किशन शेफर्ड ही था। गाय, कुत्ते, वह एक पशु प्रेमी था। वह उनके साथ घंटों बिताता था। अगर वह किसी को दर्द में देखता है, तो वह उनकी मदद करने के लिए आगे बढ़ जाता था।”

किशन खेती में अपने पिता की मदद करता था और धंधुका में कोर्ट के पास एक छोटी सी फोटोकॉपी की दुकान भी चलाता था।

किशन की फोटोकॉपी की दुकान

किशन साधारण जीवन जीने वाला सीधा-साधा लड़का था

इससे पहले जनवरी में उन्होंने अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल पर एक वीडियो शेयर किया था। उनके पिता और अन्य रिश्तेदार मुझे बार-बार बताते हैं कि उन्होंने केवल उस पोस्ट को शेयर किया था, बनाया नहीं था। वीडियो में यीशु को ‘ईश्वर के पुत्र’ के रूप में, पैगंबर मुहम्मद को ‘ईश्वर के पैगंबर’ और श्री कृष्ण को ‘भगवान’ के रूप में दिखाया गया है। सभी धर्म समान हैं और सभी मनुष्य समान हैं। मेरे बेटे ने केवल इतना कहा कि श्रीकृष्ण बड़े भगवान हैं और वीडियो पोस्ट करने के 30 मिनट के भीतर ही उन्हें धमकियाँ मिलने लगीं। ग्रामीणों को इस बात की जानकारी नहीं थी कि पैगंबर मुहम्मद की तस्वीर ही सभी विवाद की सबसे बड़ी हड्डी है।

किशन को लगभग तुरंत ही जान से मारने की धमकियाँ मिलने लगीं

उनके पिता ने कहा, “500-1000 मुस्लिमों की भीड़ थाने पहुँची और किशन के खिलाफ कार्रवाई की माँग की। उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई और किशन और मैं थाने गए। इसके बाद भीड़ ने किशन की पिटाई कर दी। उसकी पिटाई में कुछ पुलिसकर्मी भी शामिल हो गए। उन्होंने किशन से माफी माँगने की माँग की। इसलिए उन्होंने माफी माँगी। हमने लिखित माफी के साथ-साथ वीडियो में भी माफ़ी माँगी।”

सिर्फ तीन दिन बाद ही उसे फिर से पुलिस स्टेशन से फोन आया। भीड़ वापस आ गई थी और ‘ईशनिंदा’ पर माफी माँगने से संतुष्ट नहीं थी। इसलिए वे चाहते थे कि उसे जेल हो और एक और प्राथमिकी दर्ज की गई। “उन्होंने (पुलिस) कहा कि उन्हें उसे गिरफ्तार करना होगा इसलिए मैंने कहा ठीक है। अगले दिन उसे जमानत मिल गई और फिर मैंने उसे कुछ दिनों के लिए गाँव से दूर रहने के लिए कहा, जब तक कि मामला शांत न हो जाए।” उसके पिता ने ऐसा हमें बताया। फिर किशन कुछ दिनों के लिए अपने चाचा के यहाँ चला गया।

जेल में डाले जाने के ठीक एक दिन बाद, उनकी पत्नी को सिजेरियन से गुजरना पड़ा और उन्होंने एक बच्ची को जन्म दिया।

किशन को अपनी बेटी का चेहरा कभी देखने को नहीं मिला।

उनके पिता ने कहा, “वह बच्चे को देखने की आशा में मेरे भाई के घर से दूसरे घर जा रहा था। उसका चचेरा भाई बाइक चला रहा था और वह पीछे बैठ गया। वह शाम 4 बजे वापस आया और शाम 5:30 बजे उन्होंने उसे मार डाला।”

वहीं उनके एक रिश्तेदार ने बताया, “इस हत्या को एक लोकल अपराध की तरह दिखाने की साजिश थी न कि जिहादी गतिविधि के रूप में। उन्होंने रैलियाँ कीं और पुलिस थाने जाकर अपना गुस्सा जाहिर करने के लिए शिकायत दर्ज कराई। लेकिन वास्तव में यह एक बड़ी साजिश का हिस्सा था। पूरे भारत से इतने सारे मौलानाओं का शामिल होना केवल यही दिखाता है।”

“मैं शर्त लगाने को तैयार हूँ कि अगर आप इन दरगाहों, मस्जिदों और मदरसों पर छापेमारी करते हैं, तो आपको इनमें से ज्यादातर में एके 47 मिल जाएगी। ये जिहादी प्रशिक्षण और गतिविधियों के केंद्र हैं। यहाँ तक ​​कि हत्या में प्रयुक्त पिस्टल और बाइक भी दरगाह के पास पाए गए।”

दरगाह जहाँ बाइक और पिस्टल मिली

ऑपइंडिया से बात करते हुए एक सूत्र ने कहा कि उस इलाके में दरगाहों और मस्जिदों में बड़े पैमाने पर वृद्धि हुई है, जहाँ बहुत सारी कट्टरपंथी गतिविधियाँ होती हैं। उन्होंने कहा कि इनमें से ज्यादातर पिछले 35-40 वर्षों में सामने आए हैं जब से तब्लीगी जमात ने इलाके में प्रचार करना शुरू किया है।

मस्जिद और दरगाह

धंधुका मामलातदार कार्यालय (Dhandhuka Mamlatdar office) के लगभग 2 किमी के दायरे में आधा दर्जन से अधिक मस्जिदें, दरगाह और यहाँ तक ​​कि कब्रिस्तान भी हैं। एक स्थानीय निवासी ने कहा कि कुछ साल पहले इस्लामवादियों ने मामलातदार कार्यालय का एक हिस्सा तोड़ दिया था क्योंकि यह कब्रिस्तान क्षेत्र में लगभग 3 फीट की दूरी पर था।

अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के रणछोड़ भरवाड ने ऑपइंडिया से बात करते हुए कहा, “यह हिंदुओं को चुपचाप भगाने के लिए कश्मीर का तरीका है। हम गुजरात को कश्मीर नहीं बनने देंगे। यह एक देशव्यापी साजिश है। सऊदी अरब सरकार द्वारा की गई कार्रवाई के बाद भी भारत सरकार को भी भारत में तब्लीगी जमात पर कार्रवाई करनी चाहिए।” उन्होंने कहा कि पुलिस किशन भरवाड हत्याकांड के आरोपित मौलानाओं के संगठनों की जाँच करे और इन संगठनों के खिलाफ भी कार्रवाई करे।

शंभूनाथ टुंडिया, पूर्व सांसद और विधायक और वर्तमान में भाजपा एससी मोर्चा की राज्य इकाई के अध्यक्ष ने ऑपइंडिया से बात करते हुए कहा, “यह महत्वपूर्ण है कि सभी को भारतीय संविधान और भारतीय दंड संहिता से अवगत कराया जाए। हत्यारे शरिया से प्रेरित थे, लेकिन भारत में संविधान है जो सबसे ऊपर है। इन दोनों को धार्मिक पुस्तकों के साथ-साथ बच्चों को भी पढ़ाया जाना चाहिए ताकि हर कोई अपने अधिकारों के साथ-साथ अपने कर्तव्यों को भी जान सके।”

परिवार के एक करीबी सूत्र ने हमें यह भी बताया, “उन्होंने न केवल किशन के परिवार को बल्कि उनके अपने परिवारों को भी बर्बाद कर दिया। एक आरोपित इतना गरीब है कि उसके पिता बीड़ी भी उधार लेकर पीतें हैं। उसने अपने परिवार के बारे में भी नहीं सोचा। आपको पता है कि वह कार क्लीनर का काम करता है?”

नवरंग सर्विस स्टेशन जहाँ एक आरोपित काम करता था

एक दूसरे सूत्र ने कहा, “उन्हें कोई पछतावा नहीं है। बल्कि मैं आपको बता दूँ कि उन्होंने अपने नाम पर मजार बनाने के लिए पैसे भी इकट्ठे कर लिए हैं। अगर उन्हें मौत की सजा मिलती है या जब भी वे मरते हैं, तो इन दोनों को इस्लाम के नाम जिहाद करने के लिए कुर्बानी के तौर पर सेलिब्रेट किया जाएगा।”

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि पाकिस्तान में, मुमताज कादरी, जिन्होंने राजनेता सलमान तासीर की हत्या की, जो ईशनिंदा कानूनों के खिलाफ थे, उनके नाम पर एक दरगाह है। कादरी ने 2011 में तासीर को मार गिराया था और अब उनके अनुयायियों का मानना ​​है कि उन्होंने पैगंबर मुहम्मद के बाद अपने लिए जगह बना ली है। लेकिन इससे पहले भी, भारत के विभाजन से पहले, रंगीला रसूल के प्रकाशक महाशय राजपाल की हत्या पैगंबर मुहम्मद पर व्यंग्यात्मक रूप से पुस्तक प्रकाशित करने के लिए की गई थी। अप्रत्याशित रूप से, उनके हत्यारे, इल्म उद दीन को भी सेलिब्रेट किया जाता है और लाहौर में उनकी दरगाह / मजार उनके अनुयायियों द्वारा बनवाई गई है।

किशन भरवाड की हत्या के बाद, कई इस्लामवादियों ने हत्यारों के लिए अपना समर्थन सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है।

सोशल मीडिया पोस्ट

एक पोस्ट में एक ‘बिगड़े नवाब’ ने हत्यारों को 100 सैल्यूट दिए और शेर कह कर उनकी तारीफ की। दूसरे पोस्ट में, एक ‘मिस्टर नवाब’ ने दिखाया कि उन्हें दोनों पर कितना गर्व है और दूसरों को ‘मुँह खोलने’ से पहले सौ बार सोचने की चेतावनी दी।

मैंने किशन के पिता से पूछा कि क्या मुस्लिम समुदाय के किसी व्यक्ति ने उनके लिए खेद व्यक्त किया है या उनके पास पहुँचा है और उनके बेटे की मृत्यु पर शोक में शामिल हैं। उन्होंने ना में जवाब दिया। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समुदाय से किसी ने भी उनके साथ एकजुटता नहीं दिखाई।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Nirwa Mehta
Nirwa Mehtahttps://medium.com/@nirwamehta
Politically incorrect. Author, Flawed But Fabulous.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -