Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाज'तलवार से गुरु ग्रन्थ साहिब से छेड़छाड़ करना चाह रहा था युवक, कहासुनी में...

‘तलवार से गुरु ग्रन्थ साहिब से छेड़छाड़ करना चाह रहा था युवक, कहासुनी में हुई मौत’: स्वर्ण मंदिर मॉब लिंचिंग पर पंजाब पुलिस

एक कर्मचारी ने बताया कि उसने सोने की रेलिंग को पार कर के वहाँ रखी तलवार (सीरी साहिब) को उठा लिया और इसके बाद गॉर्डस और श्रद्धालुओं ने उसे पकड़ लिया। उक्त कर्मचारी ने कहा कि जो भी हुआ वो जल्दबाजी में हो गया।

पंजाब के अमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर परिसर में मॉब लिंचिंग को लेकर पुलिस का कहना है कि मृतक ने तलवार से गुरु ग्रन्थ साहिब की बेअदबी का प्रयास किया। डीसीपी परमिंदर सिंह भाण्डाल ने कहा कि 25 वर्षीय व्यक्ति स्वर्ण मंदिर में चला गया और जबरन उस जगह पर पहुँच गया जहाँ पवित्र पुस्तक गुरु ग्रन्थ साहिब रखी होती है। उन्होंने बताया कि उस व्यक्ति ने तलवार से गुरु ग्रन्थ साहिब के साथ छेड़छाड़ की कोशिश की। उन्होंने बताया कि संगत के लोगों ने उसे बाहर निकाला।

डीसीपी ने कहा कि कहासुनी में उस व्यक्ति की मौत हो गई और उसके शव को सिविल हॉस्पिटल में भेजा गया है। बताया जा रहा है कि उक्त व्यक्ति की हत्या ‘शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी (SGPC)’ के कर्मचारियों ने ही की है। एक कर्मचारी ने बताया कि उसने सोने की रेलिंग को पार कर के वहाँ रखी तलवार (सीरी साहिब) को उठा लिया और इसके बाद गॉर्डस और श्रद्धालुओं ने उसे पकड़ लिया। उक्त कर्मचारी ने कहा कि जो भी हुआ वो जल्दबाजी में हो गया।

जबकि पुलिस का कहना है कि SGPC मुख्यालय लाए जाने से पहले ही उक्त व्यक्ति की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि मौत कैसे हुई, इस सम्बन्ध में जाँच चल रही है। बता दें कि ‘रहरास साहिब (शाम की प्रार्थना)’ का लाइव प्रसारण एक प्राइवेट चैनल के जरिए दुनिया भर में होता है, इसीलिए ये घटना कैमरे में कैद हुई है। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि उस व्यक्ति से पहले लोगों से पूछताछ की और फिर व्हील चेयर में SGPC दफ्तर तक लाया गया और रास्ते भर उसकी पिटाई होती रही।

इसी बीच पुलिस को सूचना मिली और वो वहाँ पहुँची। बताया जा रहा है कि उसके पास कोई आईडी कार्ड नहीं था और पूछताछ में उसने अपने बारे में कुछ नहीं बताया SGPC अध्यक्ष हरजिंदर सिंह धामी ने इस घटना पर आक्रोश जताया है। इसी बीच उस व्यक्ति को हिरासत में लेने के लिए कुछ सिखों ने धरना शुरू कर दिया। सिख एक्टिविस्ट विरोध प्रदर्शन में लग गए। तभी उसका शव आया। कुछ दिनों पहले एक व्यक्ति द्वारा गुरबाणी की पुस्तक को सरोवर में फेंकने की बात सामने आई थी।

स्वर्ण मंदिर परिसर में मॉब लिंचिंग: क्या है मामला?

पंजाब के अमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर में गुरु ग्रन्थ साहिब की बेअदबी के आरोप में एक व्यक्ति की हत्या की बात सामने आई। ‘दरबार साहिब’ की इस घटना के बारे में जानकारी देते हुए एक ट्विटर हैंडल ने वीडियो भी जारी किया है, जिसमें भीड़ को एक व्यक्ति को घेरे हुए देखा जा सकता है। उक्त व्यक्ति जमीन पर पड़ा हुआ है। इस दौरान वहाँ मौजूद सिखों की भीड़ कुछ धार्मिक नारे लगाते हुए भी नजर आ रही है। ‘Panther’ नामक ट्विटर हैंडल ने शेयर किया वीडियो:

पत्रकार स्वाति गोयल शर्मा ने भी ‘न्यूज़ 18 पंजाबी’ का एक स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा, “ये अविश्वसनीय है। स्वर्ण मंदिर में एक व्यक्ति की भीड़ द्वारा हत्या कर दी गई, क्योंकि उस पर सिखों की पवित्र पुस्तक गुरु ग्रन्थ साहिब की बेअदबी (अपमान) का आरोप लगा था। पंजाबी में खबर में लिखा है ‘बेअदबी के मुल्जिम को भीड़ ने मार दिया।’ व्यथित करने वाले वीडियोज भी सामने आए हैं, जिसमें लोगों को भीड़ की इस करतूत के समर्थन में नारेबाजी करते हुए देखा जा सकता है।”

‘दैनिक भास्कर’ की खबर के अनुसार, मृत युवक उत्तर प्रदेश का रहने वाला था। आरोप है कि उसने मंदिर में सचखंड साहिब के अंदर बने जंगले को पार कर श्री गुरु ग्रंथ साहिब के अपमान का प्रयास किया और वहाँ रखी तलवार उठा ली। सेवादारों ने उसे पकड़ लिया और ‘शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी (SGPC)’ को सौंप दिया। लेकिन, वहाँ मौजूद लोगों ने पीट-पीट कर उसकी हत्या कर दी। शनिवार (18 दिसंबर, 2021) की शाम को रहरास (शाम को आदिग्रन्थ का पाठ) के दौरान ये घटना हुई।

बता दें कि बीच में एक बाउंड्री बनाई गई है, जिसके पार पाती पाठ करते हैं। इस दौरान एक व्यक्ति मत्था टेकने की अपनी बारी आने पर उसे पार के आदिग्रन्थ तक पहुँच गया। कुछ लोगों का कहना है कि वो वहाँ रखे फूल उठा रहा था तो कुछ ने कहा कि वो तलवार उठा रहा था। प्रदर्शनकारी भीड़ उसकी लाश देखना चाहती है और इसके लिए धरना भी दिया गया। मृत युवक का शव पोस्टमॉर्टम के लिए सिविल अस्पताल भेजा गया है। अमृतसर में घटना को लेकर तनाव है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -