Friday, December 3, 2021
Homeदेश-समाज'ममता बनर्जी के वोट बैंक पर नहीं होता कोई नियम लागू': बंगाल के अयूब...

‘ममता बनर्जी के वोट बैंक पर नहीं होता कोई नियम लागू’: बंगाल के अयूब नगर से आई Video में उड़ी 2 गज दूरी की धज्जियाँ

“लॉकडाउन, कैसा लॉकडाउन? ये कोलकाता के मटियाबुर्ज का अयूब नगर है... बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को धन्यवाद कि यहाँ उनके ‘वोट बैंक’ के लिए कोई नियम लागू नहीं होता।”

कोरोना वायरस के कारण इन दिनों हर जगह सख्ती है। लॉकडाउन नियम का पालन कराने के लिए पुलिस पर जगह-जगह हमले तक हो रहे हैं। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ाते हुए बंगाल से एक वीडियो सामने आई है। ये वीडियो भाजपा बंगाल ने अपने ट्विटर पर शेयर की है।

वीडियो में हम देख सकते हैं कि लोग बिना किसी दूरी का परहेज किए बाजार में एकत्रित हुए हैं और दुकानों से खरीदादरी कर रहे हैं। ट्वीट के मुताबिक वीडियो कोलकाता के मटियाबुर्ज के अयूब नगर इलाके की है। इस वीडियो को भाजपा के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने भी रीट्वीट किया है।

भाजपा बंगाल के ट्वीट में इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा गया, “लॉकडाउन, कैसा लॉकडाउन? ये कोलकाता के मटियाबुर्ज का अयूब नगर है… बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को धन्यवाद कि यहाँ उनके ‘वोट बैंक’ के लिए कोई नियम लागू नहीं होता।”

यहाँ बता दें कि इस बात का मालूम अभी नहीं चल पाया है कि ये वीडियो कब शूट किया गया, लेकिन भाजपा बंगाल के ट्विटर अकॉउंट से इसे उस समय शेयर किया गया है जब ईद का त्यौहार नजदीक है और समुदाय विशेष के कुछ लोग अलग-अलग राज्यों में ईद की तैयारियों के लिए छूट की माँग कर रहे हैं। 

हाल की बात करें तो कॉन्ग्रेस नेता सीएम इब्राहिम ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर ईद के दिन नमाज पढ़ने के लिए छूट माँगी थी। साथ ही सीएम को पत्र लिखते हुए कहा था कि वे पूरे समुदाय की ओर से ये सुझाव पेश कर रहे हैं कि उनके सभी सुरक्षा नियमों की देखरेख में अगर ये संभव हो सकता है तो वो अनुरोध करते हैं कि इस माँग पर स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सलाह लेने के बाद विचार किया जाए।

उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी के समय में जब राज्य पर लगातार कोरोना आँकड़ों को लेकर सवाल उठ रहे हैं। उस समय ये पहला मामला नहीं है जहाँ भारी संख्या में समुदाय विशेष की भीड़ कहीं पर नजर आई हो।

इससे पहले तेलीनिपाड़ा में भी समुदाय विशेष इकट्ठा हुए थे और रमजान के पाक कहे जाने वाले महीने में हिंदुओं के घरों पर सॉकेट बम, सिलेंडर व धारधार हथियारों से हमला किया गया था। भाजपा नेता लॉकेट चटर्जी ने इस मामले में आरोप लगाया था कि समुदाय विशेष द्वारा ये हमला केवल इसलिए किया गया क्योंकि उन्होंने कोरोना महामारी से बचाव हेतु हिंदुओं ने इलाके में बैरिकेड्स लगा लिए थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस में खालिस्तान समर्थक सिंगर मूसेवाला: सिद्धू ने बताया ‘यूथ आइकॉन’, कैप्टन सरकार में हुआ था आर्म्स एक्ट का केस

पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला कॉन्ग्रेस में शामिल हो गए हैं। वो खालिस्तान समर्थक और आतंकी भिंडरावाले का प्रशंसक रहे हैं।

2 साल तक के बच्चों का यौन शोषण, बच्चियों के खरीदे अश्लील वीडियो: सब कुछ जानकर भी चुप रही CIA, ‘गोपनीयता’ बनी बहाना

अमेरिका की सीक्रेट सर्विस एजेंसी सीआईए को अपने कम-से-कम 10 कर्मचारियों द्वारा बच्चों के यौन शोषण से संबंधित मामलों की जानकारी मिली है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,299FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe