Thursday, May 6, 2021
Home देश-समाज दि प्रिंट की बेशर्मी ने बनाया रिंकू शर्मा को गुनहगार, मन्नू ने बताया मीडिया...

दि प्रिंट की बेशर्मी ने बनाया रिंकू शर्मा को गुनहगार, मन्नू ने बताया मीडिया में चल रहे झूठे नैरेटिव का सच: देखें वीडियो

एक ओर रिंकू शर्मा और उनका परिवार रह रहकर जहाँ केवल इंसाफ माँग रहा है। वहीं द प्रिंट आरोपितों के कुकर्म पर नया एंगल देकर सफाई पेश कर रहा है और दैनिक भास्कर बता रहा है कि हिंदू संगठनों के लोग रिंकू के घर की चौखट पर माथा टेककर बदला लेने की बात कर रहे हैं जबकि रिंकू का कहना है कि...

दिल्ली के मंगोलपुरी में पिछले दिनों हुई रिंकू शर्मा की निर्मम हत्या ने पूरे देश को हिला कर रख दिया। हर किसी के जहन में ये सवाल रह गए कि क्या हिंदुस्तान में हिंदू होने का हासिल आज भी इतना बर्बर है? रिंकू की आखिरी समय की तस्वीरें, उनके साथ हुई वीभत्सता, परिजनों के आँसू, हिंदुओं के सवाल हर किसी को रह-रहकर परेशान कर रहे हैं।

ऐसे में एक तथाकथित सेकुलर गुट है जो पूरी तरह से इस मुद्दे पर चुप्पी बनाए हुए हैं और दूसरी ओर वो मीडिया गिरोह है जो इतना सब होने के बावजूद इस घटना की निंदा करना तो दूर अब भी अपना प्रोपगेंडा फैलाने से बाज नहीं आ रहा है।

रिंकू शर्मा

दि प्रिंट की खबर में रिंकू शर्मा को दिखाया गया दोषी

दि प्रिंट की बेशर्मी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि एक तरफ जब पूरा देश रिंकू के हत्यारों को सख्त से सख्त सजा दिलाने के लिए एकजुट होकर सामने आया, तब इस मीडिया पोर्टल ने माहौल को बैलेंस करने के लिए अपनी रिपोर्ट में तथ्य लिखने के नाम पर पाठकों को आरोपित परिवार का पक्ष पढ़ाकर एक नई थ्योरी दे दी।

इसमें बताया गया कि रिंकू की हत्या जिस चाकू से हुई वो चाकू वो खुद लेकर आया था और उसी ने लड़ाई शुरू की थी। इतना ही नहीं इस रिपोर्ट में आरोपित नसरुद्दीन के परिजनों का हवाला देकर कहा गया कि रिंकू ने उस दिन शराब भी पी रखी थी और विवाद तब शुरू हुआ जब वह जाहिद को जबरदस्ती शराब पिलाने लगा।

इसमें यह भी कहा गया कि रिंकू ने और उसके दोस्तों ने जाहिद को पार्टी में बुलाया था और शराब पीकर उससे मारपीट भी की थी। ऐसे में जब उन लोगों को ये पता चला कि उनके भतीजे के साथ ये हो रहा है तो वो बातचीत करने गए। वहाँ विवाद हुआ और रिंकू ने सिलेंडर मारने के लिए उठा लिया। इस रिपोर्ट की मानें तो पहले रिंकू की ओर से ही चाकू लाकर दूसरे पक्ष पर मारा गया था।

अब इस खबर को लिखने का तरीका देखिए, इसकी हेडलाइन पढ़िए और सोचिए एक 26 साल के हिंदू लड़के की असमय हुई निर्मम हत्या पर मीडिया संस्थान की संवेदनाएँ कहाँ है?

एक ओर एक नौजवान इतनी बेरहमी से मार दिया जाता है। उसके माँ-बाप के आँसू देख कर दूर प्रदेश में बैठे लोग सिहर जाते हैं। हिंदू संगठनों में वाजिब बात पर रोष उमड़ता है। छोटा भाई सिसकी भरते-भरते शांत नहीं हो पाता… फिर भी दि प्रिंट अपनी खबर में ये बता पाता है कि गलती आरोपितों की नहीं थी बल्कि रिंकू शर्मा की थी।

इस रिपोर्ट का उद्देश्य कहीं से भी पाठकों को निष्पक्ष रिपोर्ट दिखाना नहीं है। क्योंकि यदि ऐसा होता तो शीर्षक में जानबूझकर इस बात को शामिल नहीं किया जाता कि रिंकू शर्मा ही पूरी विवाद की जड़ था और उसी ने लड़ाई शुरू की थी।

दि प्रिंट की इस रिपोर्ट में उठाए गए ओछे एंगल का हमारे सेकुलर समाज में क्या मायने होंगे इस पर बात करने का कोई फायदा नहीं है। जाहिर है कि इसे उसने अपने उन्हीं पाठकों के लिए लिखा जो खोज रहे थे कि पूरे मामले में कहीं से रिंकू की गलती निकल आए तो वो भी मुद्दे पर वोकल होकर शांति बनाए रखने की अपील कर सकें और बताएँ कि गलती दोनों पक्षों की थी।

हनुमान चालीसा का पाठ

लेकिन अफसोस! यह प्रोपगेंडा ज्यादा काम नहीं कर सकता। आरोपितों के ख़िलाफ़ सबूत किसी काल कोठरी में रखें संदूक में बंद नहीं है, वो खुलेआम सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म पर तैर रहे हैं। हर किसी के सामने वो सीसीटीवी फुटेज भी है जिसमें 15-20 लड़के बकायदा हाथ में हथियार लेकर रिंकू के घर की ओर बढ़ रहे थे और वो वीडियो भी है जिसमें महिला से गाली गलौच और पुरूषों से मारपीट हो रही थी

ये वीडियो यकीनन इतना तो स्पष्ट कर ही रही है कि यदि किसी को मारने की साजिश पहले से नहीं थी, मन में बदले की भावना नहीं थी, तो अचानक इतनी भीड़ कहाँ से इकट्ठा हो गई और कैसे उन सबके पास हथियार आ गए।

आज जो पीड़ा रिंकू शर्मा का परिवार झेल रहा है, उसे देख ऐसी निर्मम हत्या मामले में कोई भी एंगल रखकर आरोपितों के कृत्य को जस्टिफाई करना किसी प्रकार से प्रेस की नैतिकता का हिस्सा नहीं हो सकता। लेकिन मीडिया फिर भी झूठ फैला कर माहौल बैलेंस करने में लगा है।

रिंकू के जाने के बाद भी जारी है हनुमान चालीसा का पाठ

आज रिंकू की हत्या को लगभग एक हफ्ता हो गया है। लेकिन इलाके के लोगों की स्मृतियों से रिंकू का चेहरा थोड़ा बहुत भी धुँधला नहीं हुआ। सब रिंकू को याद कर रहे हैं और उन्हीं की हर जगह चर्चा है। कुछ लोग बताते हैं कि रिंकू ने अस्पताल जाते-जाते भी जय श्रीराम के नारे लगाए थे और अस्पातल पहुँचकर भी उनका जोश राम नाम लेने के लिए उतना ही बरकरार था। हालाँकि, वहाँ (अस्पताल) खड़े मुस्लिम परिवार के हत्यारोपितों में से दो ज़ाहिद और ताजुद्दीन ने रिंकू के दोस्तों पर हमला किया था और ज़ाहिद ने सबूत मिटाने के लिए पहले पीठ में धँसी चाकू निकालकर भागने की कोशिश की, जब फँसा हुआ चाकू नहीं निकला तो अंदर ही और घुमा दिया था।

दूसरी ओर जिन्हें आपत्ति थी कि राम मंदिर शिलान्यास के बाद से रिंकू शर्मा के कारण इलाके में हर मंगलवार को हनुमान चालीसा होने लगी, उन लोगों को जवाब देते हुए इलाके में उस परंपरा को रिंकू के जाने के एक हफ्ते बाद भी विधि विधान से निभाया गया।

ऑपइंडिया की मन्नू शर्मा से बात और मीडिया के झूठों का खुलासा

कल ऑपइंडिया के सीनियर एडिटर जब रिंकू शर्मा की मौत पर मीडिया में फैलाए जा रही बातों की सच्चाई जानने पहुँचे तो वहाँ हनुमान चालीसा का कार्यक्रम चालू था। हमारे सीनियर एडिटर उस जगह गए तो मन्नू शर्मा से बात करने थे। लेकिन उन्होंने वहाँ पाया कि कल से पहले तक जो आयोजन हनुमान भक्ति में आयोजित किया जाता था, कल उसी आयोजन का मकसद कहीं न कहीं रिंकू को याद करना भी था। वह उस कार्यक्रम में शामिल हुए और बाद में मन्नू शर्मा से मीडिया में फैले झूठों पर बात की।

मीडिया झूठ की पोल खोलते रिंकू शर्मा के भाई मन्नू शर्मा

जब उन्होंने मन्नू से पूछा कि आखिर जो बातें बर्थडे पार्टी और शराब आदि को लेकर मीडिया में कही जा रही हैं, उसकी सच्चाई क्या है? इस सवाल को सुन मन्नू ने कहा कि ये सब पूरी तरह फर्जी बातें हैं। रिंकू शर्मा ने न तो शराब पी थी, न पिलाई थी और न ही उनका जाहिद (आरोपितों में से एक) से झगड़ा था। जाहिद किसी और के साथ पार्टी में आया था और उसका झगड़ा भी किसी और से था। रिंकू शर्मा से कोई बात नहीं हुई थी। 

 मन्नू बताते हैं कि जो लोग ये कह रहे हैं कि उनके भैया की ओर से हमले हुए तो इस बात की सच्चाई ये है कि दूसरे पक्ष के सब लोग पहले लाठी डंडे लेकर घर में आए थे और उन्होंने ही गेट खोला था। इसके बाद उन सबने अपनी करनी की वीडियो नहीं बनाई और जब उनके भैया ने सिलेंडर बचाव में उठाया तो उसे कैमरे में कैद कर लिया।

बकौल मन्नू, वह लोग पूरे परिवार को तबाह करना चाहते थे लेकिन उनके भैया ने हिम्मत दिखाई और अकेले बलिदान हो गए। मन्नू के अनुसार, पुलिस पूरे मामले में उन्हें कॉपरेट कर रही है। वह चाहते हैं कि जितने बचे हुए आरोपित हैं सब पकड़े जाएँ। उनका या उनके संगठन का मकसद कहीं से भी तक प्रशासन के विरुद्ध कोई कार्य करने का नहीं है।

दैनिक भास्कर की खबर

गौरतलब है कि एक ओर रिंकू शर्मा और उनका परिवार रह रहकर जहाँ केवल इंसाफ माँग रहा है। वहीं द प्रिंट आरोपितों के कुकर्म पर नया एंगल देकर सफाई पेश कर रहा है और दैनिक भास्कर बता रहा है कि हिंदू संगठनों के लोग रिंकू के घर की चौखट पर माथा टेककर बदला लेने की बात कर रहे हैं जबकि मन्नू शर्मा का कहना है कि उनका ऐसा कोई उद्देश्य नहीं है।

यहाँ तक की डर कर मुस्लिमों के भाग जाने की बात भी सही नहीं है। रिंकू शर्मा की गली में उनके घर से महज 20 मीटर की दूरी पर स्थित हत्यारों के परिवार के अलावा और कोई नहीं भागा है। जो रिंकू शर्मा की हत्या में शामिल थे वही और उनका परिवार फरार है। जबकि गली के लगभग सभी लोगों का कहना है इन्हें फरार नहीं बल्कि जेल की सलाखों के पीछे होना चाहिए।

एक बात और इस मामले में जो सबसे शर्मनाक निकल कर सामने आ रही है, वो ये कि सीसीटीवी फुटेज के रूप से जितने भी सबूत मिले हैं वो प्राइवेट सीसीटीवी से लिए हुए बताए जा रहे हैं। रिंकू शर्मा के भाई ने भी इस बात को बताया है। उनके अनुसार जो कैमरे केजरीवाल सरकार द्वारा लगवाए गए थे, उनसे आरोपितों के विरुद्द कोई सबूत नहीं मिले है। घटना वाले दिन के बाद से उनके खराब होने की बात सामने आई है।

ठीक ऐसी ही बात दिल्ली दंगों के समय भी नजर आई थी जहाँ दंगा प्रभावित क्षेत्रों में ठीक उसी दिन से CCTV के ख़राब हो जाने का दावा किया गया था। फिलहाल, क्राइम ब्रांच इस पूरे मामले पर सघनता से जाँच कर रही है। पाँच- नसीरुद्दीन, मेहताब, ज़ाहिद, इस्लामुद्दीन, ताजुद्दीन जैसे आरोपित गिरफ्तार हैं। बाकी की भी जल्द से जल्द गिरफ़्तारी की माँग की जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

रवि अग्रहरि
अपने बारे में का बताएँ गुरु, बस बनारसी हूँ, इसी में महादेव की कृपा है! बाकी राजनीति, कला, इतिहास, संस्कृति, फ़िल्म, मनोविज्ञान से लेकर ज्ञान-विज्ञान की किसी भी नामचीन परम्परा का विशेषज्ञ नहीं हूँ!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

असम में भाजपा के 8 मुस्लिम उम्मीदवारों में सभी की हार: पार्टी ने अल्पसंख्यक मोर्चे की तीनों इकाइयों को किया भंग

भाजपा से सेक्युलर दलों की वर्षों पुरानी शिकायत रही है कि पार्टी मुस्लिम सदस्यों को टिकट नहीं देती पर जब उसके पंजीकृत अल्पसंख्यक सदस्य ही उसे वोट न करें तो पार्टी क्या करेगी?

शोभा मंडल के परिजनों से मिले नड्डा, कहा- ‘ममता को नहीं करने देंगे बंगाल को रक्तरंजित, गुंडागर्दी को करेंगे खत्म’

नड्डा ने कहा, ''शोभा मंडल के बेटों, बहू, बेटी और बच्चों को (टीएमसी के गुंडों ने) मारा और इस तरह की घटनाएँ निंदनीय है। उन्होंने कहा कि बीजेपी और उसके करोड़ों कार्यकर्ता शोभा जी के परिवार के साथ खड़े हैं।

‘द वायर’ हो या ‘स्क्रॉल’, बंगाल में TMC की हिंसा पर ममता की निंदा की जगह इसे जायज ठहराने में व्यस्त है लिबरल मीडिया

'द वायर' ने बंगाल में हो रही हिंसा की न तो निंदा की है और न ही उसे गलत बताया है। इसका सारा जोर भाजपा द्वारा इसे सांप्रदायिक बताए जाने के आरोपों पर है।

TMC के हिंसा से पीड़ित असम पहुँचे सैकड़ों BJP कार्यकर्ताओं को हेमंत बिस्वा सरमा ने दो शिविरों में रखा, दी सभी आवश्यक सुविधाएँ

हेमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट करके जानकारी दी कि पश्चिम बंगाल में हिंसा के भय के कारण जारी पलायन के बीच असम पहुँचे सभी लोगों को धुबरी में दो राहत शिविरों में रखा गया है और उन्हें आवश्यक सुविधाएँ मुहैया कराई जा रही हैं।

5 राज्य, 111 मुस्लिम MLA: बंगाल में TMC के 42 मुस्लिम उम्मीदवारों में से 41 जीते, केरल-असम में भी बोलबाला

तृणमूल कॉन्ग्रेस ने 42 मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया था, जिसमें से मात्र एक की ही हार हुई है। साथ ही ISF को भी 1 सीट मिली।

हिंसा की गर्मी में चुप्पी की चादर ही पत्रकारों के लिए है एयर कूलर

ऐसी चुप्पी के परिणाम स्वरूप आइडिया ऑफ इंडिया की रक्षा तय है। यह इकोसिस्टम कल्याण की भी बात है। चुप्पी के एवज में किसी कमिटी या...

प्रचलित ख़बरें

बंगाल में हिंसा के जिम्मेदारों पर कंगना रनौत ने माँगा एक्शन तो ट्विटर ने अकाउंट किया सस्पेंड

“मैं गलत थी, वह रावण नहीं है... वह तो खून की प्यासी राक्षसी ताड़का है। जिन लोगों ने उसके लिए वोट किया खून से उनके हाथ भी सने हैं।”

BJP की 2 पोल एजेंट से गैंगरेप की खबरों को बंगाल पुलिस ने नकारा

बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्याओं के बाद अब पार्टी की दो पोल एजेंट से गैंगरेप की खबर आ रही है। कई अन्य जगहों पर भी हिंसा की खबर है।

NDTV पत्रकार ने ABVP पर टीएमसी गुंडों के हमले को किया जस्टिफाई, गुल पनाग के पिता को ‘जश्न’ पर लगी लताड़

खबर थी एबीवीपी के ऑफिस पर टीएमसी के गुंडों ने हमला किया। भगवान हनुमान और माँ काली की मूर्ति क्षतिग्रस्त कर दी। NDTV पत्रकार ने लिखा- जैसी करनी, वैसी भरनी।

‘कपड़े उतारो, देखूँगा बॉडी रोल के लिए सही है या नहीं’ – कास्टिंग काउच पर ईशा अग्रवाल का खुलासा

ईशा अग्रवाल ने कास्टिंग काउच का खुलासा किया। ईशा अग्रवाल ने बताया, “मेरा सफर आसान नहीं रहा। मुझे इसमें कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा।"

वैज्ञानिक गोबर्धन दास परिवार सहित ‘नजरबंद’, घर को घेर TMC के गुंडों ने फेंके बम: गृह मंत्रालय भेज रहा CRPF

JNU में मॉलिक्यूलर मेडिसिन के प्रोफेसर गोबर्धन दास बंगाल विधानसभा चुनावों में बीजेपी के उम्मीदवार थे। उनके गाँव में कई भाजपा कार्यकर्ताओं के घरों को निशाना बनाया गया है।

जय भीम-जय मीम: न जोगेंद्रनाथ मंडल से सीखा, न मरीचझापी में नामशूद्रों के नरसंहार से

जोगेंद्रनाथ मंडल के साथ जो कुछ हुआ वह बताता है कि 'जय भीम-जय मीम' दलितों के छले जाने का ही नारा है। मजहबी उन्मादी उनकी आड़ लेते हैं। कॉन्ग्रेसी और वामपंथी उनकी लाशों पर चढ़ 'मीम' का तुष्टिकरण करते हैं। #CAA के नाम पर जो हो रहा है वह इससे अलग नहीं।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,362FansLike
89,327FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe