Tuesday, February 7, 2023
Homeदेश-समाजमसरूर ने डॉ. अमित बनकर छात्रा को प्रेमजाल में फँसाया, शादी का झाँसा देकर...

मसरूर ने डॉ. अमित बनकर छात्रा को प्रेमजाल में फँसाया, शादी का झाँसा देकर दुष्कर्म किया, इसके बाद धर्मांतरण करा दिया

एसपी दिनेश कुमार ने बताया कि किशोरी की माँ की तहरीर पर थाना सुनगढ़ी में चार नामजद समेत सात के खिला

उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। ताजा मामला पीलीभीत के सुनगढ़ी इलाके का है। यहाँ मशरूर नाम के डॉक्टर ने खुद को अमित बताकर एक छात्रा को दवाई देने के बहाने पहले अपने प्रेमजाल में फँसाया फिर उसके बाद उसका धर्मांतरण करा दिया। इस काम में आरोपित के परिवार वालों ने भी उसका साथ दिया। उन्होंने मिलकर किशोरी को बालिग दिखाने के लिए आधार कार्ड में उसका नाम और जन्मतिथि बदलवा दी।

पुलिस ने किशोरी की माँ की शिकायत पर थाना सुनगढ़ी में सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पीड़िता की माँ ने आरोप लगाया है कि डॉक्टर अमित (असली नाम डॉ. मसरूर) ने इलाज करने के बहाने उनकी बेटी को फँसाया और फिर दुष्कर्म करने के बाद उसका धर्मांतरण करा दिया।

सुनगढ़ी पुलिस को किशोरी की माँ ने अपनी शिकायत में बताया कि उनकी 16 साल की बेटी 12वीं कक्षा में पढ़ती है। खुद को अमित बताने वाला मसरूर उसकी बेटी से कॉलेज के गेट पर मिला था। उसने बताया था कि वह जिला अस्पताल में डॉक्टर कहता है। पीड़िता की माँ ने बताया कि आरोपी ने उसकी बेटी का इलाज करने और उसे दवा देने के बहाने अपने कमरे पर बुलाया। आरोपी ने इस तरह पीड़िता को कई बार कमरे पर बुलाया। ऐसा करके आरोपित ने बेटी को अपने प्रेमजाल में फँसा लिया और शादी का झाँसा देकर उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया।

माँ ने अपनी शिकायत में आगे कहा कि जब इससे भी आरोपित का मन नहीं भरा तो उसने दुष्कर्म का वीडियो बना लिया। आरोपित ने अपने परिवार के साथ मिलकर बेटी का धर्मांतरण कराकर नया आधार कार्ड भी बना दिया। पीड़िता की माँ ने बताया कि 25 अक्टूबर की दोपहर को सूचना मिली की उसकी बेटी आरोपित के कमरे पर है। जब परिजनों को लेकर वह आरोपी के कमरे पर पहुँची तो वहाँ पीड़िता बेहोशी की हालात में मिली। जब पीड़िता को होश आया तो उसने पूरे घटनाक्रम के बारे में बताया।

इसके बाद आरोपित ने बताया कि उसकी बेटी ने धर्मांतरण कर लिया है। साथ ही उसने धमकी दी कि अगर इसकी शिकायत पुलिस में की तो वह जान से मार देगा। धमकी देने के बाद आरोपी भाग गया। छात्रा की माँ के अनुसार, बेटी के आधार कार्ड में उसकी जन्मतिथि 2 मई 2005 लिखी थी, लेकिन कथित डॉक्टर ने आधार कार्ड में उसकी जन्मतिथि बदलवाकर 2 मई 2003 करा दी थी। पुलिस ने डॉ. मसरूर, मूबीना बेगम उर्फ बीना बेगम मतलूफ, डॉक्टर का भाई और तीन अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट कर जाँच शुरू कर दी है।

आरोपी डॉक्टर मूल रूप से गजरौला थाना क्षेत्र का रहने वाला है। पुलिस ने जब उसके घर दबिश दी, उसके पहले ही वह फरार हो गया। आरोपियों की तलाश में पुलिस उसके रिश्तेदारों के यहाँ दबिश दे रही है। एसपी दिनेश कुमार ने बताया कि किशोरी की माँ की तहरीर पर थाना सुनगढ़ी में चार नामजद समेत सात के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आफताब ने श्रद्धा की हड्डियों को पीस कर बनाया पाउडर, जला डाला चेहरा, डस्टबिन में डाल दी थी आँतें, ₹2000 की ब्रीफकेस में पैक...

आफताब ने पुलिस को यह भी बताया है कि उसने जिस दिन श्रद्धा की हत्या की थी। उसी दिन श्रद्धा के अकांउट से अपने अकाउंट में 54000 रुपए भेजे थे।

‘मैं रामचरितमानस को नहीं मानती, तुलसीदास कोई संत नहीं’: सपा MLA को तुलसीदास के ग्रन्थ से दिक्कत, कहा – हिम्मत है तो मेरी ताड़ना...

सपा विधायक पल्लवी पटेल ने कहा है कि वह रामचरितमानस को नहीं मानती हैं और इसमें शूद्र शब्द हटाने के लिए आंदोलन करेंगी। उनके लिए तुलसीदास संत नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
244,281FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe