निकाह से किया इनकार… तो प्रेमी रफ़ीक ने गला घोंटकर मार डाला

रफ़ीक के ख़िलाफ़ बलात्कार, हत्या की कोशिश, डकैती जैसे संगीन मामले भी दर्ज हैं। इन मामलों में रफ़ीक से पूछताछ जारी है।

पिछले दिनों मध्य प्रदेश से भाग कर राजस्थान के अजमेर आई एक महिला की हत्या की ख़बर सामने आई थी। इस मामले में पुलिस ने हत्या की गुत्थी को सुलझा ली है और फ़रार आरोपित को गिरफ़्तार कर लिया है। दरअसल, शाहिस्ता नाम की लड़की ने रफ़ीक से निकाह करने पर इनकार कर दिया था। इस बात से आहत रफ़ीक ने ही उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी थी। हत्या की इस वारदात को अंजाम देने वाली बात रफ़ीक ने अब क़बूल कर ली है।

ज़िला पुलिस कप्तान कुँवर राष्ट्रदीप के अनुसार, 15 जुलाई को गंज थाना क्षेत्र के पास स्थित होटल गुलाब पैलेस में शाहिस्ता नाम की महिला की हत्या कर दी गई थी। हत्या शाहिस्ता के ही प्रेमी रफ़ीक द्वारा किए जाने की बात सामने आई है। इस मामले की जाँच की गई और इस संदर्भ में मध्य प्रदेश की शाजापुर पुलिस को इसकी सूचना दी गई। इसके बाद उन्होंने आरोपित रफ़ीक की तलाश शुरू कर दी और उसे गिरफ़्तार कर अजमेर पुलिस के हवाले कर दिया।

ख़बर के अनुसार, यह बात भी सामने आई है कि रफ़ीक के ख़िलाफ़ बलात्कार, हत्या की कोशिश, डकैती जैसे संगीन मामले भी दर्ज हैं। इन मामलों में रफ़ीक से पूछताछ जारी है। 

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इससे पहले, पुलिस अधीक्षक सरिता ने सिंह ने मामले की जानकारी देते हुए बताया था कि मध्य प्रदेश की शाहिस्ता गुल, रफ़ीक के साथ घर से भागी थी। शुक्रवार (12 जुलाई 2019) को उन्होंने अजमेर के होटल में ठहरने के लिए कमरा लिया। लेकिन सोमवार (जुलाई 15, 2019) को दोनों में कहासुनी हो गई। झगड़े में बीच-बचाव करने के लिए होटल वाले भी वहाँ पहुँचे लेकिन रफ़ीक ने उन्हें निजी मामला कहकर वहाँ से जाने को कह दिया। कमरे के बाहर हुई दोनों की हाथापाई सीसीटीवी में भी कैद हुई थी।

घटना के थोड़ी देर बाद रफ़ीक मेडिकल की दुकान जाने की बात कहकर होटल से निकला और फिर फ़रार हो गया। कुछ देर बाद शक़ होने पर जब होटल कर्मचारियों ने कमरे में जाकर देखा तो महिला बेसुध बिस्तर पर पड़ी थी। उसे अस्पताल ले जाया गया लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया और बताया कि उसकी हत्या गला घोंटकर की गई है। सीसीटीवी फुटेज में आखिरी बार रफ़ीक को 10 बजे होटल में देखा गया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सबरीमाला मंदिर
सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के अवाला जस्टिस खानविलकर और जस्टिस इंदू मल्होत्रा ने इस मामले को बड़ी बेंच के पास भेजने के पक्ष में अपना मत सुनाया। जबकि पीठ में मौजूद जस्टिस चंद्रचूड़ और जस्टिस नरीमन ने सबरीमाला समीक्षा याचिका पर असंतोष व्यक्त किया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,578फैंसलाइक करें
22,402फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: