Sunday, May 22, 2022
Homeदेश-समाजPFI के लीगल इंचार्ज मोहम्मद दिलशाद को यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार: सोशल मीडिया...

PFI के लीगल इंचार्ज मोहम्मद दिलशाद को यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार: सोशल मीडिया के जरिए सांप्रदायिक तनाव भड़काने का आरोप

पुलिस ने बीते कुछ दिनों से उसकी गतिविधियों पर नज़र रखी थी। जैसे ही मोहम्मद दिलशाद ने भड़काऊ बातें साझा की वैसे ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल इस मामले में पुलिस उससे आगे की पूछताछ कर रही है।

उत्तर प्रदेश पुलिस ने लखनऊ में पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया (पीएफआई) पर बड़ी कार्रवाई की है। पुलिस ने पीएफआई और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ़ इंडिया (एसडीपीआई) के उत्तर प्रदेश लीगल इंचार्ज मोहम्मद दिलशाद को गिरफ्तार किया है। उस पर सोशल मीडिया के माध्यम से समाज में भड़काऊ और नफ़रत फैलाने वाली बातें करने का आरोप लगा है। सामने आई जानकारी के मुताबिक़ वह सोशल मीडिया पर ऐसी चीज़ें ही साझा करता था जिससे सांप्रदायिक सद्भाव बिगड़े।  

पुलिस ने मोहम्मद दिलशाद को राजधानी लखनऊ के कृष्णा नगर क्षेत्र से गिरफ्तार किया था। उसकी गिरफ्तारी बुधवार (26 अगस्त 2020) को देर रात के आस-पास हुई थी। दिलशाद उत्तर प्रदेश में पीएफआई का लीगल इंचार्ज है। उस पर आरोप लगाया गया है कि वह व्हाट्सएप, फेसबुक और ट्विटर के ज़रिए माहौल बिगाड़ने वाली भड़काऊ विषय वस्तु साझा करता था। फ़िलहाल पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।    

पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में मोहम्मद दिलशाद ने बताया कि पिछले काफी समय से पीएफआई के लिए काम कर रहा है। इतना ही नहीं वह वह राजनीतिक दल एसडीपीआई का सक्रिय सदस्य भी है। इसके अलावा सुजीत पाण्डेय मंडलायुक्त लखनऊ ने भी इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वह विज्ञान में स्नातक है लेकिन अभी कुछ नहीं कर रहा है। वह पीएफआई के प्रचार प्रसार का काम करता था।  

साथ ही उस पर यह ज़िम्मेदारी भी थी कि ज़्यादा से ज़्यादा नए लोगों को अपने संगठन में शामिल करे। पुलिस ने बीते कुछ दिनों से उसकी गतिविधियों पर नज़र रखी थी। जैसे ही मोहम्मद दिलशाद ने भड़काऊ बातें साझा की वैसे ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल इस मामले में पुलिस उससे आगे की पूछताछ कर रही है।    

गौरतलब है कि हाल ही में कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में भड़की हिंसा के पीछे सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) और पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया (PFI) का नाम सामने आया था। सूबे की येदियुरप्पा सरकार इस पर प्रतिबंध लगा सकती है। कर्नाटक के मंत्री केएस ईश्वरप्पा ने कहा कि SDPI एक बेकार संगठन है हम इसे बैन करने के बारे में विचार कर रहे हैं। एसडीपीआई इस्लामिक कट्टरपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) का राजनीतिक संगठन है। जो अक्सर देश विरोधी गतिविधियों में शामिल रहने की वजह से ख़बरों में बना रहता है। 

इसके पहले भी उत्तर प्रदेश के बहराइच से रामजन्मभूमि पूजन के दौरान एक घटना सामने आई थी। सोशल मीडिया पर लोगों को बरगलाने और उन्माद फैलाने के आरोप में पुलिस ने शुक्रवार (7 अगस्त, 2020) को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) से जुड़े एक डॉक्टर सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। पुलिस के अनुसार यह लोग अयोध्या राम मंदिर भूमिपूजन कार्यक्रम के दिन सोशल मीडिया पोस्ट जरिए समुदाय विशेष के लोगों में आक्रोश फैलाना चाह रहे थे। जिससे सांप्रदायिक हिंसा भड़क उठे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ज्ञानवापी में सिर्फ शिवलिंग ही नहीं, हनुमान जी की भी मूर्ति: अमेरिका के म्यूजियम में 154 साल पुरानी तस्वीर, नंदी भी विराजमान

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को लेकर जारी विवाद के बीच सामने आई तस्वीर में हनुमान जी के मिलने से हिन्दू पक्ष का दावा और मजबूत हो गया है।

नौगाँव थाने में आग लगाने वाले 5 आरोपितों के घरों पर चला असम सरकार का बुलडोजर: शराबी शफीकुल की मौत पर 2000 कट्टरपंथियों ने...

असम में एक व्यक्ति की मौत के शक में थाने को जलाने के 5 आरोपितों के घरों को प्रशासन ने बुलडोजर से ढहा दिया है। तीन को गिरफ्तार भी किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,078FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe