Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजमध्यप्रदेश: दिनदहाड़े पत्रकार पर जानलेवा हमला, कॉन्ग्रेस नेता गोविंद सिंह पर लगा आरोप, लिबरल...

मध्यप्रदेश: दिनदहाड़े पत्रकार पर जानलेवा हमला, कॉन्ग्रेस नेता गोविंद सिंह पर लगा आरोप, लिबरल गैंग मौन

ये पहला मामला नहीं है जब मध्यप्रदेश में पत्रकार को बेहरमी से मारा गया हो। इससे पहले मध्यप्रदेश में कॉन्ग्रेस नेता का नाम जबलपुर में पत्रकार पर हुए हमले में भी आया था। जहाँ कॉन्ग्रेस नेता एवं बिल्डर सत्यम जैन और मयूर जैन ने पत्रकार आलोक दिवाकर पर जानलेवा हमला किया था और उन्हें बुरी तरह मारा था।

मध्यप्रदेश के भिंड जिले में स्थानीय पत्रकार रीपू धवन से मारपीट की एक वीडियो सोशल मीडिया पर कल (सितंबर 30, 2019) वायरल हुई। वीडियो में दिखा कि दिनदहाड़े कुछ बदमाश पत्रकार को जमीन पर लिटाकर बेरहमी से लगातार मार रहे हैं। पत्रकार लाचार जमीन पर पड़ा है और उसपर चारों ओर से लाठियाँ बरस रही हैं।

हालाँकि, पूरे मामले की वीडियो कैमरे में कैद हो गई लेकिन देखा जा सकता है कि इन सभी बदमाशों ने अपने मुँह पर कपड़ा बाँधा हुआ था, जिससे इनकी पहचान नहीं हो पा रही है। मामले में पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। आगे की जाँच जारी है। अभी तक पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। पत्रकार का आरोप है कि उसपर ये हमला कॉन्ग्रेस नेता गोविंद सिंह के आदेश पर हुआ हैं।

गौरतलब है कि ये पहला मामला नहीं है जब मध्यप्रदेश में पत्रकार को बेहरमी से मारा गया हो। इससे पहले मध्यप्रदेश में कॉन्ग्रेस नेता का नाम जबलपुर में पत्रकार पर हुए हमले में भी आया था। जहाँ कॉन्ग्रेस नेता एवं बिल्डर सत्यम जैन और मयूर जैन ने पत्रकार आलोक दिवाकर पर जानलेवा हमला किया था और उन्हें बुरी तरह मारा था।

पत्रकार आलोक दिवाकर पर हमला (तस्वीर साभार: पंजाब केसरी)

इस घटना की वीडियो सोशल मीडिया पर बहुत तेजी से वायरल हुई थी। जिसमें देखा जा सकता था कि पत्रकार को मारने के बाद किस तरह उसे नग्न किया गया। अंत में हालत ऐसी कर दी गई कि पत्रकार सड़क पर नंगा पड़ा रहा और उसका खून बहता रहा।

बाद में पता चला कि इस हमले का कारण ये था कि दिवाकर ने सत्यम जैन के ख़िलाफ़ कोई नकारात्मक रिपोर्ट लिख दी थी। जिस कारण उसे घर लौटते समय बेरहमी से मारा गया।

वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर लोग आश्चर्य व्यक्त कर रहे हैं कि दिनदहाड़े पत्रकार के पीटे जाने के बाद भी बात-बे-बात पर शोर मचाने वाली लिबरल गैंग मौन है क्योंकि यहाँ शासन कॉंग्रेस का है, सत्ता में कमलनाथ और आरोपित कॉन्ग्रेस नेता गोविंद सिंह। लोगों ने जल्द से जल्द आरोपितों पर कार्रवाई की अपील की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चौटाला से मिल नीतीश पहुँचे पटना, कुशवाहा ने बता दिया ‘पीएम मैटेरियल’, बीजेपी बोली- अगले 10 साल तक वैकेंसी नहीं

कुशवाहा के बयान पर पलटवार करते हुए भाजपा नेता सम्राट चौधरी ने कहा कि अगले दस साल तक प्रधानमंत्री पद के लिए कोई वैकेंसी नहीं हैं

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe