Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजनाबालिग को घर से उठाया, गैंगरेप के बाद मर्डर: 7 दिन बाद मिली लाश,...

नाबालिग को घर से उठाया, गैंगरेप के बाद मर्डर: 7 दिन बाद मिली लाश, पोस्टमार्टम के लिए MP पुलिस ने माँगी रिश्वत

परिजनों के मुताबिक 18 जनवरी को बदमाशों ने लड़की को उसके घर से अगवा कर लिया। 25 जनवरी को उसका सड़ा गला शव जंगल में मिला। परिजनों के अनुसार पोस्टमार्टम करवाने के लिए पुलिस ने ₹5000 की रिश्वत मॉंगी। पैसे नहीं दिए तो शव ले जाने को कहा।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के गृह जिले छिंदवाड़ा में नाबालिग आदिवासी लड़की की बलात्कार के बाद हत्या का मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार शव जंगल से बरामद किया गया। मृतका के परिजनों का कहना है कि पोस्टमार्टम के लिए पुलिस ने उनसे रिश्वत की मॉंग की।

परिजनों के मुताबिक 18 जनवरी को बदमाशों ने लड़की को उसके घर से अगवा कर लिया। 25 जनवरी को उसका सड़ा गला शव जंगल में मिला। मृतका पांढुर्णा क्षेत्र के पाटई गाँव की रहने वाली थी। परिजनों के अनुसार पोस्टमार्टम करवाने के लिए पुलिस ने ₹5000 की रिश्वत मॉंगी। परिजनों ने पैसे नहीं दिए तो उन्हें शव ले जाने को कहा। पुलिस ने शव ले जाने के लिए वाहन देने के बदले में भी 1 हजार की रिश्वत माँग की।

जानकारी के मुताबिक नाबालिग के माता-पिता 18 जनवरी को खाना खाने के बाद खेत में सिंचाई करने के लिए चले गए थे। नाबालिग घर में अकेली थी और उसकी दादी दूसरे कमरे में सो रही थी। तभी रात के 11 बजे आरोपित लड़की को उठाकर जंगल में ले गए और उसकी हत्या कर दी। शव को छोड़कर आरोपित वहाँ से फरार हो गए। परिजनों ने इसकी शिकायत पुलिस से की, लेकिन स्थानीय पुलिस ने उनकी कोई मदद नहीं की। इसके बाद वो शनिवार (फरवरी 1, 2020) को शिकायत लेकर छिंदवाड़ा के एसपी के पास पहुँचे और घटना की जानकारी देते हुए आरोपितों के लिए फाँसी की सजा की माँग की।

बीजेपी नेता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस घटना पर आक्रोश व्यक्त करते हुए एक के बाद एक लगातार तीन ट्वीट किए। उन्होंने अपने पहले ट्वीट में लिखा, “नरपिशाचों के हौसले इतने बुलंद हैं कि मुख्यमंत्री कमलनाथ जी के क्षेत्र पांढुर्णा के पाटई गाँव से 17 साल की बेटी को उठा ले गए। बलात्कार के बाद नृशंस हत्याकर जंगल में फेंक दिया। बेटी की आत्मा को तब तक शांति नहीं मिलेगी, जब तक अपराधियों को फाँसी के फँदे पर नहीं लटका दिया जाता है।”

दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, “पांढुर्णा के पाटई गाँव की बेटी की आत्मा की शांति और परिजनों को यह गहन पीड़ा सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूँ। बेटी के सम्मान और जीवन से खेलने वाले नराधामों को उनके किये की सज़ा दिलाए बिना चैन से नहीं बैठूँगा।”

उन्होंने अपने तीसरे ट्वीट में इस घटना को निर्भया गैंगरेप से बड़ी घटना बताते हुए लिखा, “यह निर्भया कांड से ज़्यादा बड़ी घटना है। यह निकृष्टता की पराकाष्ठा है, क्रूरता की परिसीमा है। अभी भोपाल के मनुआभान टेकरी की दिवंगत पीड़िता को न्याय नहीं मिला, एक के बाद एक प्रदेश में ऐसी घटनाएँ हो रही हैं और सरकार चैन की नींद सो रही है। सरकार कब तक अपनी अकर्मण्यता का परिचय देगी?”

वहीं लावाघोंघरी थाना प्रभारी कौशल सूर्या का कहना है कि मृतका के परिजनों ने लड़की के लापता होने के बाद शिकायत नहीं कराई थी। उन्हें इसकी जानकारी 25 जनवरी को हुई। उन्होंने कहा कि अब तक दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है। दो युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। जल्द ही पूरे मामले का खुलासा किया जाएगा।

नई दुनिया के छिंदवाड़ा संस्करण में 2 फरवरी 2020 को प्रकाशित खबर

नई दुनिया के मुताबिक कौशल सूर्या ने बताया कि नाबालिग के विजय और महेंद्र नाम के युवकों से प्रेम संबंध थे। विजय और महेंद्र 18 जनवरी को पीड़िता को उठाकर जंगल ले गए और फिर वहाँ पर हुई कहासुनी के बाद दोनों आरोपितों ने नाबालिग की गला घोंटकर हत्या कर दी और फरार हो गए। बताया जा रहा है कि दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है और फिर न्यायालय में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया। पुलिस आगे की जाँच कर रही है।

नाबालिग छात्रा से जावेद, मेराज और आरिफ ने किया रेप, कोचिंग के बाथरूम में बेहोश मिली

महबूर मियाँ ने नाबालिग लड़की को प्रेमजाल में फँसाया, फिर 2 दोस्तों के साथ रेप के बाद पेट्रोल से जला डाला

नाबालिग से गैंगरेप पर लोगों का फूटा गुस्सा: अरबाज गिरफ्तार, कलाम और सिकंदर अब भी फरार

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दामाद के परिवार का दिवालिया कॉलेज खरीदेगी भूपेश बघेल सरकार: ₹125 करोड़ का कर्ज, मान्यता भी नहीं

छत्तीसगढ़ की कॉन्ग्रेस सरकार ने एक ऐसे मेडिकल कॉलेज के अधिग्रहण की तैयारी शुरू की, जो सीएम भूपेश बघेल की बेटी दिव्या के ससुराल वालों का है।

5 या अधिक हुए बच्चे तो हर महीने पैसा, शिक्षा-इलाज फ्री: जनसंख्या बढ़ाने के लिए केरल के चर्च का फैसला

केरल के चर्च के फैसले के अनुसार, 2000 के बाद शादी करने वाले जिन भी जोड़ों के 5 या उससे अधिक बच्चे हैं, उन्हें प्रत्येक माह 1500 रुपए की मदद दी जाएगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,580FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe