Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजबीमार नहीं बल्कि फिट है डॉन, मुख़्तार अंसारी की मेडिकल रिपोर्ट नॉर्मल: 14 घंटे...

बीमार नहीं बल्कि फिट है डॉन, मुख़्तार अंसारी की मेडिकल रिपोर्ट नॉर्मल: 14 घंटे टेस्टिंग के बाद अस्पताल से फिर भेजा गया जेल, ज़ाकिर अली त्यागी उड़ा रहा था जहर वाली अफवाह

अस्पताल में मुख़्तार लगभग 14 घंटे रहा। उसके स्वास्थ्य पर डॉक्टरों ने कड़ी निगरानी रखी। कुछ ही घंटों में मुख़्तार अंसारी की तमाम जाँच रिपोर्ट्स भी सामने आ गईं।

माफिया मुख़्तार अंसारी की सेहत को ले कर उठ रही तमाम अटकलों और अफवाहों पर उस समय विराम लग लगा जब वह मेडिकल जाँच में पूरी तरह से फिट निकला। जेल प्रशासन की तरफ से मुख़्तार अंसारी का ब्लड, CBC, LFT, सुगर और इलेक्ट्रोलाइट आदि की जाँच करवाई गई थी। बुधवार (27 मार्च, 2024) को इन सभी जाँचों की रिपोर्ट नॉर्मल आईं हैं। 3 डॉक्टरों की टीम ने मुख़्तार अंसारी का इलाज किया था।

आज तक के मुताबिक, मंगलवार (26 मार्च, 2024) को तबियत खराब होने की शिकायत पर मुख़्तार अंसारी को बाँदा जेल से अस्पताल में शिफ्ट किया गया था। मुख़्तार अंसारी का इलाज बाँदा जिले के ही रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज में करवाया गया था। मुख़्तार ने अपने स्टूल सिस्टम में समस्या बताई थी। इस दौरान 3 डॉक्टरों ने मुख़्तार अंसारी के खून के सैम्पल लिए। इसमें सोडियम, पोटैशियम और कैल्शियम आदि की जाँच हुई। माफिया मुख़्तार के पेट का 2 बार एक्सरे करवाया गया।

अस्पताल में मुख़्तार लगभग 14 घंटे रहा। उसके स्वास्थ्य पर डॉक्टरों ने कड़ी निगरानी रखी। कुछ ही घंटों में मुख़्तार अंसारी की तमाम जाँच रिपोर्ट्स भी सामने आ गईं। ये तमाम रिपोर्ट्स नॉर्मल थीं। मुख़्तार अंसारी को जरूरी दवाएँ और इंजेक्शन दिए गए। रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉक्टर सुनील कौशल ने आज तक से बातचीत में मुख़्तार की रिपोर्ट नॉर्मल आने की पुष्टि की है। मंगलवार को ही शाम लगभग 6 बजे मुख़्तार अंसारी को कड़ी सुरक्षा के साथ मेडिकल कॉलेज से बाँदा जेल भेज दिया गया। फिलहाल मुख़्तार अंसारी की सेहत पर जेल डॉक्टरों की भी नजर है।

अफवाहों उड़ाने वालों में ज़किर अली त्यागी भी

बताते चलें कि इस से पहले मुख़्तार अंसारी के बेटे उमर अंसारी ने स्थानीय प्रशासन पर अपने अब्बा को स्लो पॉइजन दिए जाने का आरोप लगाया था। इसकी शिकायत अदालत तक में की गई थी। वहीं अफ़ज़ाल ने यहाँ तक कह दिया था कि जेल प्रशसन की मिलीभगत से उनके भाई मुख्तार की हत्या के 7 प्रयास किए जा चुके हैं लेकिन खुदा ने उसे बचा लिया। इन लोगों के बयानों के बाद अफवाहों का बाजार गर्म हो गया था। मुख़्तार के समर्थन में खुद को पत्रकार बताने वाले ज़ाकिर अली त्यागी जैसे लोग भी कूद पड़े थे।

इन सभी ने जीवन में कई बार अमानवीय अपराध करने वाले इस सजायाफ्ता माफिया के लिए मानवीयता आदि की दुहाई दी। ज़ाकिर अली जैसे लोगों की बातों में आ कर कुछ समर्थकों ने तो मुख़्तार की लम्बी उम्र की दुआएँ भी माँगनी शुरू कर दी थीं। फिलहाल माफिया की तमाम मेडिकल रिपोर्ट नॉर्मल आने के बाद अफवाहों के बाजर पर विराम लग गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

3 आतंकियों को घर में रखा, खाना-पानी दिया, Wi-Fi से पाकिस्तान करवाई बात: शौकत अली हुआ गिरफ्तार, हमलों के बाद OGW नेटवर्क पर डोडा...

शौकत अली पर आरोप है कि उसने सेना के जवानों पर हमला करने वाले आतंकियों को कुछ दिन अपने घर में रखा था और वाई-फाई भी दिया था।

नई नहीं है दुकानों पर नाम लिखने की व्यवस्था, मुजफ्फरनगर पुलिस ने काँवड़िया रूट पर मजहबी भेदभाव के दावों को किया खारिज: जारी की...

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में पुलिस ने ताजी एडवायजरी जारी की है, जिसमें दुकानों और होटलों पर मालिकों के नाम लिखने को ऐच्छिक कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -