Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजकोई तोड़फोड़ नहीं हुई, सिर्फ खंभे हटाए हैं: गुजरात के पालीताना में मंदिर विवाद...

कोई तोड़फोड़ नहीं हुई, सिर्फ खंभे हटाए हैं: गुजरात के पालीताना में मंदिर विवाद को लेकर महंत ने दी सफाई, वायरल हुई थी ‘हमले’ की खबर

दावा किया गया था कि कुछ बदमाशों ने सूरजकुंड में लगे सीसीटीवी कैमरों के खंभे को क्षतिग्रस्त कर दिया, जिसके बाद जैन समुदाय के लोग रोष में आ गए।

गुजरात के भावनगर जिले अंतर्गत पालीताना में शत्रुंजय पहाड़ी पर लगे बोर्ड और लोहे के खंभे को क्षतिग्रस्त किया गया था। पूरी घटना खंबे में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई थी। इसके बाद से दो समुदायों, सेठ आनंदजी कल्याणजी ट्रस्ट और नीलकंठ महादेव सेवा समिति के बीच तनावपूर्ण माहौल बना हुआ है।

इस मामले में गृह विभाग की ओर से हाई लेवल मीटिंग की गई। वहीं, दूसरी ओर समस्त जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक तप गच्चा महासंघ ने पालीताना में रैली निकालकर डिप्टी कलेक्टर को ज्ञापन भी सौंपा है।

क्या है पालीताना मंदिर विवाद?

रिपोर्ट्स के अनुसार, यह पूरा विवाद मंदिर के पास लगे सीसीटीवी कैमरे के खंभे को हटाने के बाद शुरू हुआ था। लंबे समय से यहाँ पवित्र पहाड़ी पर शिव मंदिर के लिए आंदोलन हो रहा था। देश भर के महंतों ने इस आंदोलन में भाग लेकर सरकार से हस्तक्षेप की माँग की थी। हालाँकि, इस बीच दावा किया गया कि कुछ बदमाशों ने सूरजकुंड में लगे सीसीटीवी कैमरों के खंभे को क्षतिग्रस्त कर दिया, जिसके बाद जैन समुदाय के लोग रोष में आ गए। दूसरी ओर शिव मंदिर ट्रस्ट ने अवैध अतिक्रमण का आरोप लगाते हुए कहा है कि सेठ आनंदजी कल्याणजी ट्रस्ट ने उनके परिसर में बिजली के पोल ​​लगवा दिए हैं।

अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो पर शिव मंदिर के महंत ने सफाई दी है कि कोई तोड़-फोड़ नहीं हुई, सिर्फ सीसीटीवी कैमरे लगे लोहे के खंभे हटाए गए।

गृह मंत्री हर्ष सांघवी ने सख्त कार्रवाई का किया वादा

राज्य के गृह मंत्री हर्ष सांघवी ने सोशल मीडिया पर जानकारी दी है कि सरकार ने घटना का संज्ञान लिया है और जाँच शुरू कर दी गई है। संघवी ने कहा है कि उन्होंने मामले को लेकर आला अधिकारियों के साथ बैठक की है। मामले की सख्ती से जाँच करने के आदेश दिए हैं।

इस मामले में श्रीमहासंघ अहमदाबाद के अध्यक्ष महेंद्र शाह का कहना है कि मंदिर के आसपास खनन बंद होना चाहिए। पहले भी इस तरह का कृत्य करके जैन और हिंदुओं की आस्था को ठेस पहुँचाई गई थी। सिर्फ 2-5 लोगों को गिरफ्तार करने से काम नहीं चलेगा, ये साजिश बंद होनी चाहिए। समाज के नेता 10 सूत्री माँगों को लेकर मुख्यमंत्री से मिलेंगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

वामपंथी सरकार ने चलवाई गोली, मारे गए 13 कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता: जानें क्यों ममता बनर्जी मना रहीं ‘शहीद दिवस’, TMC ने हाईजैक किया कॉन्ग्रेस का...

कभी शहीद दिवस कार्यक्रम कॉन्ग्रेस मनाती थी, लेकिन ममता बनर्जी ने कॉन्ग्रेस पार्टी से अलग होने के बाद युवा कॉन्ग्रेस के 13 कार्यकर्ताओं की हत्या को अपने नाम के साथ जोड़ लिया और उसका इस्तेमाल कम्युनिष्टों की जड़ काटने में किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -