Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाजमहाराष्ट्र से औरंगाबाद लौट रहे ट्रैक पर सोए 17 प्रवासी मजदूरों पर चढ़ी मालगाड़ी,...

महाराष्ट्र से औरंगाबाद लौट रहे ट्रैक पर सोए 17 प्रवासी मजदूरों पर चढ़ी मालगाड़ी, मौके पर ही मौत

इस घटना के शिकार सभी मजदूर एक स्टील फैक्ट्री में काम करते थे। हादसा बदनापुर और करमाड के बीच हुआ। सभी मजदूर औरंगाबाद से गाँव जाने वाली ट्रेन पकड़ने के लिए जालना से औरंगाबाद पैदल जा रहे थे।

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में रेल पटरी पर सोए 17 प्रवासी मजदूरों पर से ट्रेन गुजरने के कारण उनकी मौत हो गई। यह हादसा औरंगाबाद जालना रेलवे लाइन (Jalna aurangabad railway line) पर शुक्रवार (मई 08, 2020) सुबह 6.30 बजे हुआ।

इस दर्दनाक हादसे में फ्लाईओवर के पास पटरियों पर सो रहे 17 प्रवासी मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई।

बताया जा रहा है कि प्रवासी मजदूर रेल की पटरियों पर सोए थे और अचानक उनके ऊपर से मालगाड़ी गुजर गई। नींद में होने की वजह से किसी को भी संभलने का मौका नहीं मिला।

ये सभी प्रवासी मजदूर अपने घर छत्तीसगढ़ पैदल निकले थे। घटना के बाद स्थानीय प्रशासन और रेलवे के अधिकारी मौके पर पहुँचे।

रिपोर्ट्स के अनुसार, दक्षिण सेंट्रल रेलवे की चीफ पब्लिक रिलेशन ऑफिसर का कहना है कि औरंगाबाद में करमाड के पास इस दुर्घटना में मालगाड़ी का एक खाली डब्बा कुछ लोगों के ऊपर चढ़ गया था।

इस घटना के शिकार सभी मजदूर एक स्टील फैक्ट्री में काम करते थे। हादसा बदनापुर और करमाड के बीच हुआ। सभी मजदूर औरंगाबाद से गाँव जाने वाली ट्रेन पकड़ने के लिए जालना से औरंगाबाद पैदल जा रहे थे।

इन मजदूरों ने रात अधिक होने के चलते सभी ने सटाना शिवार इलाके में पटरी पर ही अपना बिस्तर लगा लिया। सुबह इसी पटरी से एक माल गाड़ी गुजरी और ये सभी मजदूर उसकी चपेट में आ गए।

कोरोना वायरस के कारण जारी देशव्यापी बन्द के कारण कई लोग अपने घरों से दूर फंस गए थे। इसके बाद दिल्ली, महाराष्ट्र, राजस्थान, कई राज्यों से इन प्रवासी मजदूरों ने पैदल ही घर की ओर चलना शुरू कर दिया था।

श्रमिकों को उनके घर पहुँचाने के लिए केंद्र सरकार ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन की भी व्यवस्था की है। राज्य सरकारों की ओर से जो लिस्ट दी जाती हैं, उन्हें ही ट्रेन में सफर करने की इजाजत दी जा रही हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K में योग दिवस मनाएँगे PM मोदी, अमरनाथ यात्रा भी होगी शुरू… उच्च-स्तरीय बैठक में अमित शाह का निर्देश – पूरी क्षमता लगाएँ, आतंकियों...

2023 में 4.28 लाख से भी अधिक श्रद्धालुओं ने बाबा अमरनाथ का दर्शन किया था। इस बार ये आँकड़ा 5 लाख होने की उम्मीद है। स्पेशल कार्ड और बीमा कवर दिया जाएगा।

परचून की दुकान से लेकर कई हजार करोड़ के कारोबार तक, 38 मुकदमों वाले हाजी इक़बाल ने सपा-बसपा सरकार में ऐसी जुटाई अकूत संपत्ति:...

सहारनपुर में मिर्जापुर का रहने वाला मोहम्मद इकबाल परचून की दुकान से काम शुरू कर आगे बढ़ता गया। कभी शहद बेचा, तो फिर राजनीति में आया और खनन माफिया भी बना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -