Wednesday, June 26, 2024
Homeदेश-समाजमहाराष्ट्र सरकार ने कोविड खत्म मानकर 25% संविदा स्वास्थ्य कर्मियों को कर दिया था...

महाराष्ट्र सरकार ने कोविड खत्म मानकर 25% संविदा स्वास्थ्य कर्मियों को कर दिया था बर्खास्त, अब कर्मचारियों की भारी किल्लत

“हम काम करने आए थे क्योंकि मुख्यमंत्री ने लोगों से आगे आने और मदद करने की अपील की थी। उस समय, अस्पतालों में स्थायी कर्मचारी काम पर नहीं आ रहे थे, लेकिन हमने अपने परिवारों की परवाह नहीं की और कोविड रोगियों के साथ काम किया। हमें बदले में क्या मिल रहा हैं बर्खास्तगी से पहले एक दिन का नोटिस। हम सरकार से माँग करते हैं कि वह हमें बहाल करे और स्थाई नौकरी दे।"

महाराष्ट्र सरकार ने इस साल जनवरी में यह सोचते हुए कि कोविड-19 संकट खत्म हो गया है एक दिन की बर्खास्तगी की सूचना के साथ 25 फीसदी संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों को हटा दिया। जैसे ही राज्य में कोविड मामलों में कमी आने लगी, महा विकास अघाड़ी सरकार ने अचानक ही उन स्वास्थ्य कर्मचारियों को जाने को कह दिया जिन्हें पिछले साल अप्रैल महीने के दौरान राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत काम पर रखा गया था।

इस कदम ने उन्हें टीकाकरण अभियान के लिए अयोग्य बना दिया जो फ्रंटलाइन श्रमिकों के लिए शुरू होना था। कोरोना योद्धा कर्मचारी परिषद के अध्यक्ष प्रमोद केट ने कहा, “हम काम करने आए थे क्योंकि मुख्यमंत्री ने लोगों से आगे आने और मदद करने की अपील की थी। उस समय, अस्पतालों में स्थायी कर्मचारी काम पर नहीं आ रहे थे, लेकिन हमने अपने परिवारों की परवाह नहीं की और कोविड रोगियों के साथ काम किया। हमें बदले में क्या मिल रहा हैं बर्खास्तगी से पहले एक दिन का नोटिस। हम सरकार से माँग करते हैं कि वह हमें बहाल करे और स्थाई नौकरी दे।”

इन 10,000 संविदात्मक कर्मचारियों में से, 1,000 मुंबई के विभिन्न अस्पतालों में कार्यरत थे, जबकि 5000 से अधिक पूर्वी विदर्भ में काम पर रखे गए थे।

पूजा डोइफोड़े, जिन्होंने बीएमसी के ई वार्ड में एक बहुउद्देश्यीय कार्यकर्ता के रूप में काम किया, ने कहा, “जब हमने जॉइन किया था, तो हमने अपने परिवारों को जोखिम में डाल दिया था। हम में से कई कोविड -19 संक्रमित हो गए थे। हमने ऐसे समय में काम किया जब कोई भी अपने घरों से बाहर निकलने के लिए तैयार नहीं था। हमने पीपीई किट में घंटों बिताए और कोविड पॉजिटिव शवों को स्थानांतरित किया। जब आवश्यकता पूरी हो गई तो हमें छोड़ने के लिए कहने के बजाय हम एक गरिमापूर्ण व्यवहार के हकदार हैं।”

स्वास्थ्य कर्मचारियों को डॉक्टरों, एनेस्थेसियोलॉजिस्ट, मेडिकल ऑफिसर, हॉस्पिटल मैनेजर, नर्स, एक्स-रे तकनीशियन, ईसीजी तकनीशियन, प्रयोगशाला तकनीशियन, दवा निर्माता, स्टोर कीपर, डेटा एंट्री ऑपरेटर, वार्ड बॉय श्रेणियों में कोविड-19 अस्पतालों और कोविड देखभाल सुविधा केंद्रों पर मरीजों की आमद का प्रबंधन करने के लिए नियुक्त किया गया था।

इन स्वास्थ्य कर्मियों ने अपनी निर्बाध और नि: स्वार्थ सेवा के लिए स्थायी रोजगार की माँग करते हुए राज्य भर में कई विरोध प्रदर्शन किए।

महाराष्ट्र में स्वास्थ्य कर्मचारियों की भारी कमी

हालाँकि, कर्मचारियों की छंटनी का कदम राज्य सरकार के लिए उल्टा पड़ गया क्योंकि कोरोनोवायरस की दूसरी लहर के आने के साथ ही राज्य स्वास्थ्य सेवा कर्मचारियों की कमी से जूझने लगा।

महाराष्ट्र जो नए कोरोनोवायरस मामलों में अचानक तेजी से प्रभावित होने वाले सबसे पहले राज्यों में से एक था, वर्तमान में स्वास्थ्य सेवा कर्मियों की बड़ी कमी का सामना कर रहा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री राजेश भूषण ने इस महीने की शुरुआत में अपने असंतोषजनक प्रदर्शन को लेकर महाराष्ट्र सरकार को सावधान किया था। मंत्री ने संविदा कर्मियों की भर्ती में तेजी लाने के लिए महाराष्ट्र राज्य को खत लिखा। उन्होंने पत्र में जानकारी देते हुए कहा, औरंगाबाद, नंदुरबार, यवतमाल, सतारा, पालघर, जलगाँव, जालना जिलों की टीमों द्वारा स्वास्थ्यकर्मी कार्यबल की बड़ी संख्या में कमी की सूचना दी गई है।”

भूषण ने महामारी की दूसरी लहर के प्रति महाराष्ट्र के सुस्त रवैए की भी आलोचना की। केंद्रीय टीम से प्राप्त मूल फीडबैक के बाद, भूषण ने लिखा कि सतारा, सांगली और औरंगाबाद में कंटेनमेंट ऑपरेशन को औसत पाया गया जोकि संतोषजनक नहीं था, सतारा, औरंगाबाद और नांदेड़ में निगरानी और कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग को औसत पाया गया, इसकी मुख्य वजह इस कार्य में लगी सीमित जनशक्ति को पाया गया।

महाराष्ट्र में मंगलवार को कोरोना वायरस के 66,358 नए मामले सामने आए और 895 मौतें हुईं, इससे राज्या में कुल मृतकों की संख्या 66,179 हो गई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -