Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाज'दोनों रात भर बात कर रहे, मुझे हो रही घबराहट': बॉयफ्रेंड और उसकी महिला...

‘दोनों रात भर बात कर रहे, मुझे हो रही घबराहट’: बॉयफ्रेंड और उसकी महिला मित्र की भी जासूसी करवा चुकी हैं महुआ मोइत्रा, CBI को शिकायत

CBI के भेजे गए पत्र में कहा गया है कि महुआ मोइत्रा ने पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ मिल कर अवैध सर्विलांस की साजिश रची।

TMC की महुआ मोइत्रा पर घूस लेकर संसद में सवाल पूछने के आरोप लगे, जिसके बाद उन्हें लोकसभा से निलंबित कर दिया गया। उनके पूर्व पार्टनर सुप्रीम कोर्ट के वकील जय अनंत देहाद्राई ने अपना कुत्ता ‘हेनरी’ चोरी करने का आरोप लगाया था। हालाँकि, विवादों के बाद ये कुत्ता लौटा दिया गया। खुलासा हुआ कि महुआ मोइत्रा ने कारोबारी दर्शन हीरानंदानी से कैश और महँगे गिफ्ट लेकर संसद में अडानी को निशाना बनाने वाले सवाल पूछे। महुआ मोइत्रा पर जय को धमकी देने के आरोप भी लगे थे।

अब CBI को सुप्रीम कोर्ट के वकील जय अनंत देहाद्राई द्वारा भेजे गए एक शिकायती पत्र में बड़ा खुलासा हुआ है कि महुआ मोइत्रा ने अपने पूर्व बॉयफ्रेंड सुहान मुखर्जी की जासूसी भी करवाई थी। ‘The Hawk Eye’ नामक ट्विटर हैंडल ने बताया है कि न सिर्फ सुहान मुखर्जी, बल्कि उनकी एक महिला मित्र को भी अवैध सर्विलांस का शिकार बनाया गया। ये अजीब है, क्योंकि खुद महुआ मोइत्रा इजरायली सॉफ्टवेयर ‘पेगासस’ के जरिए विपक्षी नेताओं की जासूसी का आरोप मोदी सरकार पर लगाती रही हैं।

शुक्रवार (29 दिसंबर, 2023) को CBI के भेजे गए पत्र में कहा गया है कि महुआ मोइत्रा ने पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ मिल कर अवैध सर्विलांस की साजिश रची। वो ये भी पता लगाती रहीं कि सुहान मुखर्जी या उनकी महिला मित्र किस वक्त कहाँ पर हैं। इसके लिए उनके फोन नंबरों का इस्तेमाल किया गया। आरोप है कि उन्होंने एक प्राइवेट सिटीजन का CDR (कॉल रिकॉर्ड) अपने पीछा करने की अपनी व्यक्तिगत इच्छा को पूरा करने के लिए निकलवाया।

बता दें कि पुलिस संदिग्धों और अपराधियों पर नज़र रखने के लिए CDR का इस्तेमाल करती रही है। सुहान मुखर्जी के जिस महिला मित्र की जासूसी करवाई गई, उनका नाम हेलेना लेर्श (Helena Lersch) है और वो जर्मनी की रहने वाली हैं। पत्र के अनुसार, महुआ मोइत्रा को शक था कि सुहान और हेलेना रिलेशनशिप में हैं। पत्र में लिखा है कि महुआ मोइत्रा ने कहा था, “मुखर्जी और लेर्श रात-रात भर बातें कर रहे हैं, इसीलिए भयंकर चिंता और घबराहट के कारण मुझे नींद नहीं आ रही है।”

कथित तौर पर महुआ मोइत्रा ने ऐसा लिख कर भेजा था, जिसका स्क्रीनशॉट इस पत्र के साथ उपलब्ध कराया गया है। बता दें कि सुहान मुखर्जी नामी वकीलों में से एक हैं जो ‘PLR चैंबर्स’ नामक कंपनी चलाते हैं। साथ ही वो 2012-14 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कानूनी सलाहकारों में से एक था। कोयला घोटाले में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के भी वो वकील थे। साथ ही वो पश्चिम बंगाल के स्टैंडिंग काउंसल भी रहे हैं।

इतना ही नहीं, महुआ मोइत्रा ने 2019 के लोकसभा चुनाव में सुहान मुखर्जी को अपना ‘इलेक्शन एजेंट’ बनाया था। साथ ही ये दोनों एक कंपनी में साथ में डायरेक्टर भी थे। पत्र में आरोप है कि महुआ मोइत्रा ने हेलेना लेर्श के खिलाफ ByteDance में भी शिकायत की जहाँ वो काम करती थीं। उन पर कंपनी के वकील सुहान के साथ रिलेशनशिप में जाकर ‘हितों के टकराव’ का आरोप लगाया। ByteDance ने ही ‘TikTok’ एप बनाया है।

पत्र के अनुसार, महुआ मोइत्रा का मानना था कि पश्चिम बंगाल के पुलिस अधिकारियों पर उनके एहसान हैं और इसीलिए वो उनका कहा नहीं टाल सकते। पत्र में आरोप है कि एक बार महुआ मोइत्रा को पता चला कि सुहान मुखर्जी किसी होटल में हैं तो वो ‘कारवाँ’ पत्रिका के संपादक अनंत नाथ के साथ बिना बताए वहाँ पहुँच गईं। उन्होंने धमकाने के लिए वहाँ अपने लिए एक कमरा बुक कर लिया। पत्र के अनुसार, महुआ मोइत्रा को अपनी इन हरकतों और अपने रसूख पर बड़ा नाज है। ऑपइंडिया के पास शिकायत की कॉपी मौजूद है।

जय अनंत देहाद्राई ने इस शिकायत में बताया है कि उन्हें पूरा यकीन है कि महुआ मोइत्रा अपने रसूख का इस्तेमाल कर के उनकी भी जासूसी करवा रही हैं। उन्होंने कहा कि वो जिन-जिन के संपर्क में हैं, उन पर भी नज़र रखी जा रही है। उन्होंने अपनी सुरक्षा को लेकर चिंता जताते हुए कहा है कि महुआ मोइत्रा सुहान मुखर्जी वाला प्रकरण उन्हें सुनाती थी, ताकि वो ये एहसास दिला सकें कि वो जब चाहें तब जय को प्रताड़ित कर सकती हैं। उन्होंने लिखा कि महुआ मोइत्रा कई बार उन्हें कह चुकी हैं कि उनके लोकेशन के बारे में उन्हें सब पता है, वो जिन परिचितों से मिलते हैं उसकी खबर भी निलंबित सांसद को है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -