Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की कालाबाजारी: मैट्रिक्स कंपनी के CEO गिरफ्तार, नवनीत कालरा अब भी फरार

ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की कालाबाजारी: मैट्रिक्स कंपनी के CEO गिरफ्तार, नवनीत कालरा अब भी फरार

मैट्रिक्स कंपनी के नाम से 20000 रुपए प्रति पीस ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर भारत में इम्पोर्ट हुए और फिर कीमतें बढ़ाकर इन्हें जरूरमंदों को बेचा गया। इसी संबंध में मैट्रिक्स के सीईओ गौरव खन्ना को गिरफ्तार किया गया है।

दिल्ली में ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की कालाबाजारी पर दिल्ली पुलिस ने मैट्रिक्स सेलुलर सर्विस लिमिटेड के सीईओ गौरव खन्ना को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने गौरव के खिलाफ़ ये कार्रवाई उसके संबंध नवनीत कालरा से जुड़े होने के चलते की। पूरा मामला खान मार्केट में स्थित खान चाचा रेस्ट्रां में बरामद हुए ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर से जुड़ा है।

समाचार एजेंसी एएनआई ने बताया, “खान मार्केट के खान चाचा रेस्ट्रां से ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की बरामदगी मामले में मैट्रिक्स सेलुलर सर्विस लिमेटेड के सीईओ गौरव खन्ना गिरफ्तार किए गए हैं।”

बताया जा रहा है कि ये मैट्रिक्स कंपनी गगन दुग्गल नाम के शख्स की है। वह लंदन में रहता है और उसकी कंपनी सिम बनाने का काम करती है। आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, इसी मैट्रिक्स कंपनी के नाम से 20 हजार रुपए प्रति पीस ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर भारत में इम्पोर्ट हुए और फिर इन्हें कीमतें बढ़ाकर जरूरमंदों को बेचा गया। मालूम हो कि गगन दुग्गल से जुड़े मंडी विलेज के खुल्लर फार्म हाउस से गुरुवार को पुलिस ने 387 ऑक्सीजन बरामद किए थे।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक अब तक जगह-जगह छापेमारी के दौरान कुल 524 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मिले हैं। इन उपकरणों को नवनीत कालरा ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से 71000 रुपयों में बेच रहा था। दिल्ली पुलिस का कहना है कि नवनीत अभी फरार है और जल्द ही उसे पकड़कर पूछताछ होगी। पुलिस को सिर्फ खान मार्केट से 429 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मिले हैं। मामले में अब तक चार लोगों को गिरफ्तारी भी हुई है। इसके अलावा एक अन्य जगह छापेमारी में 9 और ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मिले हैं।

बता दें कि कि दिल्ली की बदहाल हालत में कालाबाजारी का कारोबार चलाने वाले नवनीत कालरा के नाम कई खाने-पीने की दुकानें हैं। इसके अलावा दयाल ऑप्टिकल्स भी नवनीत का है। इसे नवनीत के पिता दयाल दास कालरा ने शुरू किया था। इनके रेस्ट्रां दिल्ली में सबसे जाने-माने होते हैं। यहाँ कई वीआईपी, सेलिब्रिटी और राजनेता आते हैं। खान मार्केट में मौजूद खान चाचा की दुकान इनकी सबसे मशहूर दुकानों में से एक है। पुलिस को यहाँ से भी 96 कंसन्ट्रेटर छापेमारी में मिले हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे ‘चाणक्य’ बताया, उसके समर्थन के बावजूद हारा मौजूदा MLC: महाराष्ट्र में ऐसे बिखरा MVA गठबंधन, कॉन्ग्रेस विधायकों ने अपनी ही पार्टी को दिया...

जिस जयंत पाटील के पक्ष में महाराष्ट्र की राजनीति के कथित चाणक्य और गठबंधन के अगुवा शरद पवार खुद खड़े थे, उन्हें ही हार का सामना करना पड़ा।

18 बैंक खाते, 95 करोड़ रुपए, अब तक 11 शिकंजे में… जनजातीय समाज का पैसा डकारने के मामले में कॉन्ग्रेस के पूर्व मंत्री गिरफ्तार,...

सीधे शब्दों में समझें तो पूरा मामला ये है कि ST निगम के कुछ अधिकारियों ने फर्जी हस्ताक्षरों का इस्तेमाल कर के अवैध रूप से 94,73,08,500 रुपए विभिन्न बैंक खातों में भेज दिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -