Saturday, May 18, 2024
Homeदेश-समाजमौलाना ने कहा- हजरत आदम हिंदुओं के पिता... फिर फेसबुक पर Video किया अपलोड:...

मौलाना ने कहा- हजरत आदम हिंदुओं के पिता… फिर फेसबुक पर Video किया अपलोड: हाई कोर्ट का FIR रद्द करने से इनकार

प्राथमिकी के अनुसार मौलाना का वीडियो फेसबुक पर हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुँचाने के इरादे से अपलोड किया गया था।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय (Allahabad High Court) ने मंगलवार (8 फरवरी, 2022) को सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो को लेकर दर्ज FIR रद्द करने से इनकार कर दिया। कथित तौर पर इस वीडियो में एक गुमनाम मौलाना ने हिंदुओं के खिलाफ घृणित और अपमानजनक बयान दिया था। मौलाना ने टिप्पणी की थी कि ‘हज़रत आदम हिंदुओं के पिता’ हैं।

जस्टिस अश्विनी कुमार मिश्रा और जस्टिस अजय त्यागी की खंडपीठ ने याचिकाकर्ताओं के इस दावे को खारिज कर दिया कि उनके खिलाफ आरोप फर्जी थे और ऐसा कोई वीडियो कभी प्रसारित नहीं किया गया। कोर्ट ने कहा कि इस तरह के वायरल वीडियो में कोई आपत्तिजनक सामग्री है या नहीं, इसकी जाँच एजेंसियों द्वारा कराए जाने की जरूरत है, क्योंकि पहली नजर में यह अपराध की श्रेणी में आता है।

मामले में महेश पांडे नाम के शख्स ने FIR दर्ज करवाई थी। उनकी शिकायत के आधार पर तत्काल याचिकाकर्ता शकील खान सहित कई लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। पांडे ने आरोप लगाया था कि 23 अक्टूबर, 2021 को फेसबुक चलाते समय उनकी नजर एक वीडियो पर पड़ी। इसमें एक मौलाना द्वारा हिंदू समुदाय के लोगों के खिलाफ भड़काऊ और अपमानजनक बयान दिए गए थे।

पांडे के अनुसार, उक्त वायरल वीडियो में, मौलाना ने टिप्पणी की थी कि ‘हज़रत आदम हिंदुओं के पिता हैं’। पांडे ने आरोप लगाया था कि इस तरह की टिप्पणियाँ उनके और अन्य हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने वाली हैं। 

कथित तौर पर, यह वीडियो उत्तर प्रदेश के चित्रकूट के रायपुर गाँव में जाबिर खान द्वारा आयोजित कार्यक्रम का था। वीडियो 5 अक्टूबर को फेसबुक पर अपलोड किया गया था। पांडे की शिकायत के अनुसार, ऐसा हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुँचाने और उन्हें अपमानित करने के इरादे से ऐसा किया गया। FIR में यह भी उल्लेख है कि इस वीडियो की वजह से हिंदुओं में काफी आक्रोश है। मामले में खान सहित अन्य आरोपितों के खिलाफ आईपीसी की धारा 295-ए, 505 (2) और सूचना प्रौद्योगिकी (संशोधन) अधिनियम, 2008 की धारा 66 के तहत केस दर्ज किया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘₹100 करोड़ का ऑफर, ₹5 करोड़ एडवांस’: कॉन्ग्रेस नेता शिवकुमार की पोल खुली, कर्नाटक सेक्स सीडी में PM मोदी को बदनाम करने का दिया...

BJP नेता देवराजे गौड़ा ने कहा है कि पीएम मोदी को बदनाम करने के लिए कर्नाटक के डेप्यूटी सीएम डीके शिवकुमार ने उन्हें 100 रुपए का ऑफर दिया था।

‘जिसे कहते हैं अटाला मस्जिद, उसकी दीवारों पर त्रिशूल-फूल-कलाकृतियाँ’: ​कोर्ट पहुँचे हिंदू, कहा- यह माता का मंदिर

जौनपुर की अटाला मस्जिद पर हिंदुओं ने दावा पेश किया है। इसे माता का मंदिर बताया है। मस्जिद की दीवारों पर हिंदू चिह्न होने की बात कही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -