Friday, June 14, 2024
Homeदेश-समाजCM उद्धव ठाकरे के मेडिकल असिस्टेंस सेल के चीफ कोरोना से बढ़ती मौतों के...

CM उद्धव ठाकरे के मेडिकल असिस्टेंस सेल के चीफ कोरोना से बढ़ती मौतों के बारे में बताते हुए रोते बिलखते आए नजर, वीडियो वायरल

शेटे ने कहा कि सीएम ठाकरे के पास निर्णय लेने की विवेकाधीन शक्ति है और यह उनकी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि सभी आशाओं को खोने के बाद उन्होंने अब अदालत का दरवाजा खटखटाया है। बिलखते हुए शेटे ने लड़खड़ाती जबान में कहा, “लोग मर रहे हैं क्योंकि उनके पास पैसा नहीं है। मैंने अदालत से उनकी मदद करने का अनुरोध किया है।"

सोशल मीडिया पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के मेडिकल असिस्टेंस सेल के प्रमुख ओम प्रकाश शेटे का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में शेटे राज्य में कोरोनावायरस महामारी की स्थिति के बारे में मीडिया से बात करते हुए रोते बिलखते हुए नजर आ रहे है। कोरोना वायरस के चलते राज्य में बढ़ते मौतों के आँकड़ों की वजह से शेटे की हालत खराब दिखाई दे रही है। फिलहाल यह वीडियो कब की है अभी इसकी जानकारी नहीं हो पाई है।

शेटे ने कहा रोते हुए कहा, “मैं सो नहीं पा रहा हूँ। आम आदमी मर रहा है। यह बुरा लगता है।” उन्होंने कहा, हर दिन उन्हें सैकड़ों संदेश मिलते हैं और वह उन पर प्रतिक्रिया देते हुए थक जाते हैं। शेटे ने कहा कि सीएम ठाकरे के पास निर्णय लेने की विवेकाधीन शक्ति है और यह उनकी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि सभी आशाओं को खोने के बाद उन्होंने अब अदालत का दरवाजा खटखटाया है। बिलखते हुए शेटे ने लड़खड़ाती जबान में कहा, “लोग मर रहे हैं क्योंकि उनके पास पैसा नहीं है। मैंने अदालत से उनकी मदद करने का अनुरोध किया है।”

ओमप्रकाश शेटे के वीडियो का उल्लेख आज बॉम्बे उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता द्वारा राज्य में धार्मिक स्थलों को फिर से खोलने की माँग वाली जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान किया गया।

राज्य सरकार के फैसले में हस्तक्षेप करने से इनकार करते हुए, मुख्य न्यायाधीश दत्ता ने कहा कि यदि राज्य में सरकार की लापरवाह प्रणाली के बारे में शेटे के दावे सही थे, तो इस मामले में कुछ करने की जरूरत है। CJ दत्ता ने एडवोकेट जनरल आशुतोष कुंभकोनी को वीडियो की प्रामाणिकता का सत्यापन करने और यह जानने के लिए निर्देशित किया कि क्या वास्तव में शेटे मेडिकल सेल का हिस्सा थे और यदि वीडियो असली था और शेटे राज्य प्रणाली का हिस्सा थे, तो राज्य को इस स्थिति को संबोधित करना होगा।

गौरतलब है कि चीन के वुहान शहर से फैले इस जानलेवा महामारी से महाराष्ट्र सबसे अधिक प्रभावित राज्य है। केवल महाराष्ट्र में अब तक 12.60 लाख से अधिक कंफर्म मामले दर्ज किए गए हैं। देश में इस वक्त संक्रमण के कुल मामलों की तुलना में महाराष्ट्र की भागीदारी इसमें सबसे ज्यादा है। लगभग 34000 लोग संक्रमण से अपनी जान गँवा चुके हैं, वहीं संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित दूसरे नंबर पर तमिलनाडु राज्य है। जहाँ मौतों की संख्या लगभग 9000 है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -