Tuesday, April 16, 2024
Homeदेश-समाजसचिन वाजे जो मर्सिडीज चलाते थे, उसी से NIA को मिला बम वाला स्कॉर्पियो...

सचिन वाजे जो मर्सिडीज चलाते थे, उसी से NIA को मिला बम वाला स्कॉर्पियो का नंबर प्लेट, कार मालिक का है NCP कनेक्शन?

बरामद की गई मर्सिडीज सचिन वाजे इस्तेमाल कर रहे थे। इसमें से 5 लाख के करीब कैश निकला है। पेट्रोल, डीजल और काउंटिंग मशीन भी मिली है। साथ ही वो नंबर प्लेट भी मिली है, जो एंटीलिया के बाहर खड़ी स्कॉर्पियों पर थी।

एंटीलिया बम केस में पुलिस अधिकारी सचिन वाजे की भूमिका को लेकर आए दिन नए खुलासे हो रहे हैं। अब खबर है कि एंटीलिया के बाहर मिली स्कॉर्पियो का नंबर प्लेट एक ऐसी ब्लैक मर्सिडीज से मिला है, जिसे मंगलवार (मार्च 16, 2021) को राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) की टीम ने मुंबई क्राइम ब्रांच के ऑफिस के नजदीक क्रॉफर्ड बाजार क्षेत्र से बरामद किया। कथित तौर पर कार से कई और चीजें भी मिली है।

इंडिया टुडे के अनुसार, NIA के आईजी अनिल शुक्ला ने बताया है कि ये बरामद की गई मर्सिडीज सचिन वाजे इस्तेमाल कर रहे थे। इसमें से 5 लाख के करीब कैश निकला है। इसके अलावा कुछ कपड़े, पेट्रोल, डीजल और काउंटिंग मशीन भी मिली है। साथ ही वो नंबर प्लेट भी मिली है, जो एंटीलिया के बाहर खड़ी स्कॉर्पियों पर थी।

पूरे मामले में सबसे सनसनीखेज खुलासा ये भी हुआ है कि एंटीलिया बम मामले में सीसीटीवी फुटेज हाथ लगी है। इसमें सचिन एक पीपीई किट या लूज फिटिंग कुर्ता जैसी चीज पहने नजर आ रहे हैं, जिसे कथित तौर पर बाद में जला दिया गया।

सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि इस सीसीटीवी में नजर आ रहे वाजे और एंटीलिया के बाहर बम रखने वाले शख्स की फुटेज लगभग एक जैसी है। वह व्यक्ति भी सीसीटीवी में पीपीई किट पहने दिख रहा है। 

वहीं टाइम्स नाउ के अनुसार, सचिन वाजे के स्टाफ ने इस बात की पुष्टि भी कर दी है कि पीपीई किट में नजर आने वाला शख्स कोई और नहीं बल्कि खुद सचिन वाजे ही है, जिसने उस पीपीई किट को नष्ट कर दिया। हालाँकि पीपीई किट के अंदर पहने हुए कपड़े मिल चुके हैं। 

सोशल मीडिया पर इन्हीं खुलासों के साथ एक बड़ा दावा किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि वाजे जिस मर्सिडीज का इस्तेमाल कर रहे थे, वह उन सांरश भवसार की है, जिनके संबंध एनसीपी से जुड़े हैं। दावे को साबित करने के लिए लोगों ने सारंश के सोशल मीडिया पोस्ट और उनसे संबंधित जानकारी को रिवील किया है।

आधिकारिक तौर पर कार नंबर MH18BR9095, मनीषा महेंद्र भवसार के नाम पर रजिस्टर है। लेकिन सारंश उन्हीं के बेटे हैं और यूजर्स के मुताबिक वही इसके असली ओनर हैं। इस दावे के साथ ही सारंश की तस्वीर NCP नेता अनिल गोटे के साथ शेयर की जा रही है, जिन्हें देख साफ पता चल रहा है कि उनके और एनसीपी नेता में काफी अच्छे संबंध हैं।

सुनैना होले के ट्विटर अकॉउंट से इस संबंध में एक थ्रेड शेयर किया गया, जिसमें सारंश का पक्ष भी है। उसके अनुसार, सारंश ने इन इल्जामों पर कहा है कि वह ये कार Cars4india को बेच चुके हैं और उनका केस से कोई लेना देना नहीं है। उनके पास सारे पेपर हैं। वह एजेंसियों के साथ कॉपरेट करने को भी तैयार हैं।

गौरतलब है कि एंटीलिया केस की जाँच कर रही राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) द्वारा गिरफ्तार किए गए पुलिस अफसर सचिन वाजे को सस्पेंड कर दिया गया है। मुंबई पुलिस ने सोमवार (मार्च 15, 2021) को वाजे को सस्पेंड किया है। एडिशनल कमिश्नर ऑफ पुलिस के आदेश से सचिन वाजे का निलंबन हुआ है। फिलहाल सचिन वाजे 25 मार्च तक एनआईए की हिरासत में है। 

सचिन वाजे पर न केवल एंटीलिया केस का सूत्रधार होने के आरोप हैं बल्कि ये भी आरोप है कि अंबानी के आवास के बाहर मिली दोनों कारों के ड्राइवर पुलिस बल में काम कर रहे हैं और दागी पुलिस अधिकारी सचिन वाजे के संपर्क में थे।

ये भी पता चला है कि वाजे की सोसाइटी का जो सीसीटीवी फुटेज गायब हुआ था, वो किसी और ने नहीं बल्कि दागी पुलिस अधिकारी सचिन वाजे ने ही गायब किया था। उसने स्वयं ही सोसाइटी का सीसीटीवी फुटेज ये कह कर जब्त कर लिया था कि पुलिस द्वारा आधिकारिक उपयोग के लिए DVR की आवश्यकता है, जिसे बाद में उसने क्षतिग्रस्त कर दिया। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी की गारंटी’ भी होगी पूरी: 2014 और 2019 में किए इन 10 बड़े वादों को मोदी सरकार ने किया पूरा, पढ़ें- क्यों जनता...

राम मंदिर के निर्माण और अनुच्छेद 370 को निरस्त करने से लेकर नागरिकता संशोधन अधिनियम को अधिसूचित करने तक, भाजपा सरकार को विपक्ष के लगातार कीचड़ उछालने के कारण पथरीली राह पर चलना पड़ा।

‘वित्त मंत्री रहते RBI पर दबाव बनाते थे P चिदंबरम, सरकार के लिए माहौल बनाने को कहते थे’: बैंक के पूर्व गवर्नर ने खोली...

आरबीआई के पूर्व गवर्नर पी सुब्बाराव का दावा है कि यूपीए सरकारों में वित्त मंत्री रहे प्रणब मुखर्जी और पी चिदंबरम रिजर्व बैंक पर दबाव डालते थे कि वो सरकार के पक्ष में माहौल बनाने वाले आँकड़ें जारी करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe