Monday, June 24, 2024
Homeदेश-समाजसीकर में प्रवासी मजदूरों का कमाल: जिस स्कूल में क्वारंटाइन कर रखे गए हैं...

सीकर में प्रवासी मजदूरों का कमाल: जिस स्कूल में क्वारंटाइन कर रखे गए हैं बदल दिया उसका रूप

54 प्रवासी मजदूर सीकर के पलसाना गॉंव के एक स्कूल में क्वारंटाइन कर रखे गए हैं। स्कूल के प्रधानचार्य ने बताया कि 9 साल से रंग-रोगन नहीं हुआ था। मजदूरों ने पुताई करने की इच्छा जताई तो शिक्षकों ने वेतन से सामग्री लाकर उन्हें दी। इस काम के लिए मजदूरों ने भी पैसे लेने से मना कर दिया।

कोरोना वायरस के संक्रमण पर काबू पाने के लिए जब से लॉकडाउन हुआ है प्रवासी मजदूरों के फॅंसने की खबरें अलग-अलग शहरों से आती रही है। लेकिन, राजस्थान के सीकर में प्रवासी मजदूरों ने अपनी मेहनत से एक स्कूल का रूप ही बदल दिया है।

सीकर के पलसाना गॉंव के एक स्कूल में प्रवासी मजदूरों को क्वारंटाइन कर रखा गया था। पुताई कर प्रवासी मजदूरों ने इस इस स्कूल को नया रूप दे दिया है।

राजस्थान पत्रिका की रिपोर्ट के अनुसार पलसाना कस्बे के शहीद सीताराम कुमावत व सेठ केएल ताम्बी राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है। यहाँ इस समय हरियाणा, राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश के 54 मजदूर रखे गए हैं। मजदूरों के मुताबिक, वे मेहनतकश लोग हैं। खाली बैठने से बीमार हो जाते। इसलिए स्कूल की पुताई कर दी।

राजस्थान पत्रिका के सीकर संस्करण में प्रकाशित खबर

मजदूरों का कहना है कि गाँव के सरपंच और गाँव के भामाशाहों ने उनके रहने-खाने-पीने की इतनी अच्छी व्यवस्था की, जिसकी वे कभी कल्पना भी नहीं कर सकते थे। बस इसी के बदले उनके मन में गाँव वालों के लिए कुछ करने की बात आई और उन्होंने स्कूल की पुताई शुरू कर दी।

खबर के मुताबिक उन्होंने बीते शुक्रवार को खुद पहल करके सरपंच से रंग-रोगन का सामान लाकर देने का कहा। इसके बाद सरपंच और विद्यालय स्टाफ की ओर से सामग्री उपलब्ध कराने के बाद मजदूरों ने अपना काम शुरू किया। इस दौरान शिविर का निरीक्षण करने के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव जगत सिंह पँवार भी सेंटर पर पहुँचे। उन्होंने निरीक्षण के बाद सेंटर पर ठहरे लोगों से काफी देर तक बात की। वे इन प्रवासी मजदूरों को काम करता देख काफी खुश भी हुए। जगत सिंह पँवार ने कहा कि यहाँ के सरपंच, विद्यालय स्टाफ एवं भामाशाहों के साथ प्रवासी लोगों की ओर से एक परिवार की तरह किया जा रहा कार्य अन्य सेंटर्स के लिए रोल मॉडल है।

बता दें, जिस तरह गाँव वालों के सेवाभाव को देखकर सभी मजदूर बेहद खुश है, उसी तरह उनके इस काम को देखकर गाँव वाले भी मुग्ध हैं। पलसाना के सरपंच रूप सिंह शेखावत बताते है, प्रशासन की ओर से सेंटर स्थापित करने के बाद प्रवासी लोगों के भोजन पानी व ठहरने की जिम्मेदारी दी गई। अब प्रवासी लोगों ने खुद कार्य करने की इच्छा जताई, तो उन्हें पुताई के लिए सामान उपलब्ध करवा दिया गया। उनके इस व्यवहार से पूरा गाँव अभिभूत है।

स्कूल के प्रधानचार्य का कहना है कि पिछले 9 साल से रंग-रोगन का काम नहीं हुआ था। जब मजदूरों ने अपनी ओर से इच्छा व्यक्त की तो सभी शिक्षकों ने वेतन से सामग्री लाकर दी। इस काम के लिए मजदूरों ने भी पैसे लेने से मना कर दिया।

गौरतलब है कि जिस राजस्थान से ये सुखद खबरें आई हैं। उसी राजस्थान से बीते दिनों पुलिसकर्मियों पर हमले की खबर आई थी। जहाँ स्थानीयों द्वारा कोरोना योद्धाओं को बेहरमी से पीटा गया था। इस दौरान उनपर लाठी-डंडे और तलवार से हमला हुआ था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -