Sunday, April 21, 2024
Homeदेश-समाजकोरोना से लड़ाई में PM मोदी ने की मीडिया की तारीफ, कहा: यही है...

कोरोना से लड़ाई में PM मोदी ने की मीडिया की तारीफ, कहा: यही है असली राष्ट्रभक्ति

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को आज मीडिया से बातचीत के दौरान मीडिया का आभार जताया। उन्‍होंने इस कठिन समय में मीडिया के कार्यों की प्रशंसा करते हुए इसे राष्ट्रसेवा कहा और आभार जताया।

कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम में केंद्र सरकार समेत सभी राज्य सरकारें अपनी भूमिकाओं का निर्वहन करने में लगी हुई हैं। ज्यादातर राज्यों ने जहाँ खुद को लॉकडाउन कर लिया है वहीं देश के 75 जिलों को भी इस महामारी के चलते लॉकडाउन कर दिया गया है। ऐसे हालात में देश में आवश्यक सुविधाओं तथा सेवाओं की आपूर्ति करने वाले बिना डरे बिना हिचके अपनी अपनी ड्यूटी में मुस्तैद हैं। इन लोगों में वो मीडियाकर्मी भी शामिल हैं जो कोरोना से निपटने के लिए जारी किए जा रहे सरकारी पहलों और निर्देशों को आम लोगों तक पहुँचा रहे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को आज मीडिया से बातचीत के दौरान मीडिया का आभार जताया। उन्‍होंने इस कठिन समय में मीडिया के कार्यों की प्रशंसा करते हुए इसे राष्ट्रसेवा कहा और आभार जताया। मोदी ने मीडिया को सम्बोधित करते हुए कहा, “आप लोगों ने बहुत बहादुरी और दिलेरी से काम किया है। सही मायने में यही राष्‍ट्र सेवा है।”

इस दौरान कोरोना से लड़ने में सोशल डिस्टेंसिंग की महत्ता बतलाते हुए उन्होंने कहा, “हमारे लिए आगे अभी बड़ी जंग है। इसके लिए सोशल डिस्‍टैसिंग काफी अहम है। आप जानते हैं कि कैसे बातचीत करनी है। लोगों से घर पर रहने के संदेश को तेजी से फैलाएँ। जापान और दक्षिण करिया ने अनुशासन अपनाकर इस पर कुछ हद वतक कंट्रोल किया है।” पीएम मोदी ने आगे अपने सम्बोधन में कहा कि कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में भय और निराशा का कोई स्‍थान नहीं हैं, हमारे हौसले बुलंद रहने चाहिए।

पीएम मोदी ने स्वास्थ्य सेवाओं में जुटे लोगों को याद करते हुए कहा, “हमें मेडिकल या स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं में जुटे लोगों का हौसला बढ़ाना होगा। वे बिना किसी स्‍वार्थ के अपनी जिंदगी खतरे में डालकर लोगों के लिए काम कर रहे हैं।” याद रहे कि भारत में अबतक कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 450 पार कर चुकी है जिसमें से 9 की मौत हो चुकी है।  


Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रावण का वीडियो देखा, अब पढ़िए चैट्स (वायरल और डिलीटेड): वाल्मीकि समाज की जिस बेटी ने UN में रखा भारत का पक्ष, कैसे दिया...

रोहिणी घावरी ने बताया था कि उनकी हँसती-खेलती ज़िंदगी में आकर एक व्यक्ति ने रात-रात भर अपने तकलीफ-संघर्ष की कहानियाँ सुनाई और ये एहसास कराया कि उसे कभी प्यार नहीं मिला।

‘जब राष्ट्र में जगता है स्वाभिमान, तब उसे रोकना असंभव’: महावीर जयंती पर गूँजा ‘जैन समाज मोदी का परिवार’, मुनियों ने दिया ‘विजयी भव’...

"हम कभी दूसरे देशों को जीतने के लिए आक्रमण करने नहीं आए, हमने स्वयं में सुधार करके अपनी ​कमियों पर विजय पाई है। इसलिए मुश्किल से मुश्किल दौर आए और हर दौर में कोई न कोई ऋषि हमारे मार्गदर्शन के लिए प्रकट हुआ है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe