Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजअब J&K में संगीत और DJ के खिलाफ फतवा: मौलवियों ने कहा- जनाजे में...

अब J&K में संगीत और DJ के खिलाफ फतवा: मौलवियों ने कहा- जनाजे में भी नहीं आएँगे, भाजपा नेता ने कहा- आतंकवाद के खिलाफ तो नहीं जारी किया फतवा

इससे पहले उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में उलेमाओं ने कहा था कि जिस शादी में नाच-गाना होगा और डीजे बजेगा, उसमें वे निकाह नहीं पढ़ाएँगे। उलेमाओं ने कहा था कि इस्लाम में नाच-गाना और डीजे बजाने की कोई जगह नहीं है। ऐसे में जो लोग इस्लाम के नियमों का पालन नहीं करेंगे, उनका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले के बाद अब जम्मू-कश्मीर के पूंछ जिले में डीजे को ‘गैर-इस्लामी’ घोषित कर दिया गया है। यहाँ पर इस्लामी विद्वानों ने निकाह समारोहों के दौरान गीत-संगीत, डीजे और ढोल बजाने के खिलाफ फतवा जारी किया है। यह फतवा मेनकोट में जारी किया गया है। इस दौरान मौलवियों ने चेतावनी दी है कि अगर कोई भी परिवार निकाह के दौरान संगीत बजाता है तो निकाह या नमाज-ए-जनाजा नहीं किया जाएगा।

इस फतवा के बाद मुस्लिमों में आक्रोश फैल गया है। फतवे पर लोग तरह-तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं। भाजपा नेता युद्धवीर सेठी ने टाइम्स नॉउ से बातचीत में आश्चर्य व्यक्ति किया। उन्होंने कहा कि ये फतवा क्यों नहीं जारी किया गया कि जम्मू-कश्मीर के बच्चे ‘बंदूक छोड़ें और लैपटॉप उठाएँ’ और शिक्षा लेकर अच्छी कमाई करें। जम्मू-कश्मीर भाजपा के उपाध्यक्ष ने पूछा, “उन्हें उन लोगों से समस्या क्यों है, जो डीजे आदि का काम करते हैं और जीविकोपार्जन करते हैं?” 

गौरतलब है कि इससे पहले उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में उलेमाओं ने कहा था कि जिस शादी में नाच-गाना होगा और डीजे बजेगा, उसमें वे निकाह नहीं पढ़ाएँगे। उलेमाओं ने कहा था कि इस्लाम में नाच-गाना और डीजे बजाने की कोई जगह नहीं है। ऐसे में जो लोग इस्लाम के नियमों का पालन नहीं करेंगे, उनका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा। यह फतवा उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले की स्वर तहसील के खेमपुर गाँव में ‘रज-ए-मोहम्मद मुस्तफा’ नामक इस्लामी संगठन ने दिया था।

दहेज और डीजे डांस पार्टियों को ‘गैर-इस्लामी’ करार देते हुए मौलवियों की समिति ने कहा था कि निकाह में जो भी इस फतवे को नहीं मानेगा उनके परिवार में किसी की अमृत होने पर भी मौलवी वहाँ दसवें, तीजे, बीसवें, चालीसवें और कफन-दफन तक में शामिल नहीं होंगे। इन निर्णयों का पालन हो इसके लिए आसपास के क्षेत्रों में हर एक गाँव में एक कमेटी भी बनाई गई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -