हनुमान के भेष में भीख माँग रहा नसीम गिरफ़्तार: हिन्दू इलाक़े की रेकी करने का आरोप

नसीम डेलापीड़ की झोपड़पट्टी में अपनी बीवी मुस्कान के साथ रहता है। पुलिस ने उसपर रूप बदल कर ठगी करने का मुक़दमा दर्ज किया है।

उत्तर प्रदेश के बरेली में एक भिखारी भगवान हनुमान की वेश-भूषा में भीख माँग रहा था। सुभाष नगर क्षेत्र में दोपहर के समय लोगों ने जब उसे हनुमान का भेष धर कर भीख माँगते देखा तो आपत्ति जताई। हिन्दू युवा वाहिनी के सदस्यों ने इस बात की सूचना पुलिस को दी। इस दौरान बजरंग दल के कार्यकर्ता भी वहाँ पर जमा हो गए। बजरंग दल के संयोजन वरुण ने भी इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलने का बाद पुलिस वहाँ पर पहुँची।

पुलिस ने जब हनुमान के भेष में भीख माँग रहे युवक से पूछताछ की, तो कुछ और ही सामने आया। उसने अपना नाम नसीम बताया। वह मुरादाबाद के लालटीकर रोड का रहने वाला है। पुलिस ने जब सख्ती से पूछ्ताछ की तो उसने दावा किया कि वह हिन्दू धर्म में आस्था रखता है। उसने पुलिस को बताया कि उनकी माँ और बीवी, दोनों ही हिन्दू धर्म से ताल्लुक रखती हैं। उसने बताया कि वो पहले लैला-मजनू के भेष में भीख माँगा करता था और उसने पहली बार हनुमान का रूप धरा था।

पुलिस ने बजरंग दल और हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं की तहरीर पर मामला दर्ज कर लिया है। जबकि लोगों का कहना है कि वह कई बार हनुमान के भेष में इधर-उधर चक्कर लगा चुका है। बजरंग दल के महानगर संयोजन वरुण ने बताया कि वो अपने मित्र अधिवक्ता आलोक प्रधान के साथ घर जा रहे थे, तभी उन्हें नसीम दिखा। वह हनुमान के भेष में भीख माँग रहा था। बकौल वरुण, ऐसा लग रहा था जैसे नसीम हिन्दू इलाक़े की रेकी करने आया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

नसीम डेलापीड़ की झोपड़पट्टी में अपनी बीवी मुस्कान के साथ रहता है। पुलिस ने उसपर रूप बदल कर ठगी करने का मुक़दमा दर्ज किया है। पुलिस को मुक़दमे में धाराएँ लगाने के लिए काफ़ी माथापच्ची करनी पड़ी। आरोपित के पास से आधार कार्ड भी जब्त किया गया है। नसीम के एक और साथी के बारे में पता चला है, जो फरार बताया जा रहा है। नसीम ने बताया कि वो कुलदेवी को भेंड़ की बलि देता है और काली माता को मदिरा चढ़ाता है। उसने बताया कि जब उसके पिता नदीम जिन्दा थे, तभी से वह ऐसा करता आ रहा है। नदीम की 7 वर्ष पूर्व मृत्यु हो गई थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शाहीन बाग़, शरजील इमाम
वे जितने ज्यादा जोर से 'इंकलाब ज़िंदाबाद' बोलेंगे, वामपंथी मीडिया उतना ही ज्यादा द्रवित होगा। कोई रवीश कुमार टीवी स्टूडियो में बैठ कर कहेगा- "क्या तिरंगा हाथ में लेकर राष्ट्रगान गाने वाले और संविधान का पाठ करने वाले देश के टुकड़े-टुकड़े गैंग के सदस्य हो सकते हैं? नहीं न।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,546फैंसलाइक करें
36,423फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: