Monday, November 29, 2021
Homeदेश-समाजगोधरा में 'जय श्री राम' न बोलने पर मुस्लिम युवकों की पिटाई की खबर...

गोधरा में ‘जय श्री राम’ न बोलने पर मुस्लिम युवकों की पिटाई की खबर झूठी: SP

एसपी लीना पाटिल ने बताया कि शुरुआती जाँच से यह बात सामने आई है कि झगड़ा किसी धार्मिक नारे को लेकर नहीं हुआ। सीसीटीवी फुटेज से साफ़ है कि बाइक साइड से चलाने को लेकर दोनों पक्षों के बीच बहस हुई थी।

एक बार फिर से जय श्री राम न बोलने पर पिटाई करने का आरोप झूठा निकला है। ताजा मामला गुजरात के गोधरा का है। यहाँ के 3 मुस्लिम युवकों ने आरोप लगाया था कि जय श्री राम नहीं बोलने पर उनकी पिटाई की गई। जाँच के बाद पुलिस ने इस आरोप को झूठा बताया है।

खबर के मुताबिक, शहर के मोहम्मदी मुहल्ला के रहने वाले 40 वर्षीय मोटर मैकेनिक सिद्दिकी अब्दुल सलाम ने कल (अगस्त 1, 2019) देर रात गोधरा ए डिवीजन पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इसमें उसने आरोप लगाया था कि बाबा नी माधी इलाके के पास उसके बेटे समीर और उसके दो दोस्तों सलमान और सोहेल की 20 से 30 साल के 6 लड़कों ने जय श्री राम न बोलने पर पिटाई कर दी।

सिद्दिकी ने शिकायत में कहा था कि कल रात तकरीबन 10 बजे उसका बेटा अपने दोस्त के साथ बाजार गया था। इसी दौरान दो मोटरसाइकिल पर सवार 6 लोगों ने उन्हें रोका और जय श्री राम बोलने को मजबूर किया। मना करने पर उनलोगों ने मारपीट की।

सिद्दिकी का कहना है कि स्थानीय लोगों के जमा होते ही हमलावर भाग गए। उन्होंने कहा कि समीर, सलमान और सोहेल को इलाज के लिए स्थानीय सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बाद में सिद्दिकी ने पत्रकारों को बताया कि घटना हिंदू बहुल इलाके में हुई, जो उसके घर से करीब एक किलोमीटर दूर है।

एसपी लीना पाटिल ने उसके दावे को गलत बताया है। उन्होंने कहा कि शुरुआती जाँच से ये बात सामने आई है कि झगड़ा किसी धार्मिक नारे को लेकर नहीं हुआ। सीसीटीवी फुटेज से साफ़ है कि बाइक साइड से चलाने को लेकर दोनों पक्षों के बीच बहस हुई थी।

गौरतलब है कि, इससे पहले भी जय श्री राम न बोलने पर मारपीट की कई ख़बरें झूठी निकल चुकी है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,346FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe