Tuesday, August 9, 2022
Homeदेश-समाज16 घंटे लगातार नींद में... या 4 बजे सुबह भाभी को कॉल: ND Tiwari...

16 घंटे लगातार नींद में… या 4 बजे सुबह भाभी को कॉल: ND Tiwari के बेटे की मौत के पीछे कई राज़

रोहित शेखर को एनडी तिवारी को अपना पिता साबित करने के लिए लम्बी क़ानूनी लड़ाई लड़नी पड़ी थी। उन्होंने रोहित की माँ से 88 वर्ष की उम्र में शादी भी की थी।

तीन बार उत्तर प्रदेश व एक बार उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रह चुके नारायण दत्त तिवारी का निधन हुए अभी 6 महीने ही हुए हैं, तभी उनके बेटे रोहित शेखर की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु हो गई। ख़बरों के अनुसार, रोहित की नाक से ख़ून आ रहा था, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया। वहाँ उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। दिल्ली की डिफेंस कॉलोनी पुलिस फिलहाल तो किसी नतीजे पर नहीं पहुँची है लेकिन हर एंगल से इस घटना की छानबीन की जा रही है। आज गुरुवार (अप्रैल 18, 2019) को पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट भी आनी है, जिसके बाद काफ़ी कुछ पता चल जाएगा। फिलहाल रोहित के पार्थिव शरीर को उनके परिवार को सौंप दिया गया है। डॉक्टरों की टीम भी इस बात से हैरान है कि रोहित की नाक से ख़ून क्यों आ रहा था?

सबसे पहले जानते हैं कि रोहित मौत से पहले कहाँ थे और उन्होंने क्या-क्या किया था। दरअसल, रोहित और उनका पूरा परिवार वोट डालने उत्तराखंड के कोटद्वार गए थे। वहाँ से वो लोग रात के 11 बजे डिफेंस कॉलोनी स्थित अपने घर लौटे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार रोहित ने शराब भी पी रखी थी। घर पहुँच कर वो सो गए। अगले दिन शाम 4 बजे तक वो सोए ही रहे। उसी समय किसी नौकर ने देखा कि उनकी नाक से ख़ून निकल रहा था। इसकी जानकारी उनकी माँ और मैक्स अस्पताल को दी गई। पुलिस का सीधा सवाल है कि एक व्यक्ति 16 घंटे तक सोया रहता है और घर में कोई उसकी सुध भी नहीं लेता, क्यों?

नवभारत टाइम्स में छपी रिपोर्ट के अनुसार, रोहित की पत्नी व परिवार के अन्य लोग घर में ही थे। पुलिस को पता चला है कि रोहित नींद की गोलियाँ भी लेते थे। पुलिस इसे पॉइज़निंग (ज़हर) वाले एंगल से भी देख रही है। उनके कमरे के अंदर ढेर सारी दवाओं के रैपर मिले हैं। हाल ही में उनकी बाईपास सर्जरी हुई है। उनके कमरे में इतनी सारी दवाइयाँ थी, जैसे कि वो कोई छोटा सा मेडिकल स्टोर हो। परिवार की तरफ से हत्या जैसी कोई बात नहीं कही गई है। पोस्टमॉर्टम प्रक्रिया की वीडियोग्राफी कराई गई है। रिपोर्ट की मानें तो रोहित के नौकर ने यह भी बताया कि उसने सुबह 9 बजे भी उनके कमरे में जाने की कोशिश की थी।

वहीं अगर रोहित की माँ के बयान को देखें तो वो अवसादग्रस्त थे। राजनीतिक करियर परवान न चढ़ पाने के कारण रोहित शेखर तिवारी डिप्रेशन में थे। वो अपने पिता की राजनीतिक विरासत को आगे ले जाना चाहते थे। जबकि आजतक की वेबसाइट पर प्रकाशित एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार, रोहित ने सुबह 4 बजे अपनी भाभी कुमकुम को फोन किया था। वह उन्हें कुछ बताना चाहते थे। अगर रोहित उस दिन शाम तक सोए रहे थे (जैसा कि नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट में दावा किया गया है) तो उन्होंने सुबह कॉल कैसे किया? अगर उन्होंने कॉल किया तो क्या घर वालों की तरफ से वापस कॉलबैक आया था?

आजतक की रिपोर्ट में कहा गया है कि आमतौर पर रोहित जिस कमरे में सोते थे, उस दिन वो वहाँ न सोकर दूसरे कमरे में सोए हुए थे। इस बारे में घर वालों का कहना है कि उनकी पत्नी को दिक्कत न हो, इसीलिए वो दूसरे कमरे में सोए थे। रोहित के परिवार का मानना है कि ये प्राकृतिक मौत है। अमर उजाला ने पुलिस अधिकारियों के हवाले से लिखा है कि रोहित के घर के आसपास कई सीसीटीवी कैमरे लगे हुए थे लेकिन उनमें से एक भी चालू नहीं था। क्या किसी ने सीसीटीवी बंद कर दिया था या वो लम्बे समय से बंद था?

बता दें कि रोहित शेखर को एनडी तिवारी को अपना पिता साबित करने के लिए लम्बी क़ानूनी लड़ाई लड़नी पड़ी थी। सालों तक ना-नुकुर के बाद तिवारी ने उन्हें अपना बेटा स्वीकार कर अपने घर में जगह दी थी। उन्होंने रोहित की माँ से 88 वर्ष की उम्र में शादी भी की थी। आंध्र प्रदेश के राज्यपाल रहे एनडी तिवारी पिछले वर्ष 18 अक्टूबर 2018 को अपने जन्मदिवस के दिन ही चल बसे थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केजरीवाल ने दिए 9 साल में सिर्फ 857 ऑनलाइन जॉब्स, चुनावी राज्यों में लाखों नौकरियों के वादे: RTI से खुलासा

केजरीवाल के रोजगार को लेकर बड़े-बड़े वादों और विज्ञापनों की पोल दिल्ली में नौकरियों पर डाले गए एक RTI ने खोल दी है।

जब सिंध में हिन्दुओं-सिखों का हो रहा था कत्लेआम, 10000 स्वयंसेवकों के साथ पहुँचे थे ‘गुरुजी’: भारत-Pak विभाजन के समय कहाँ थे कॉन्ग्रेस नेता?

विभाजन के दौरान पाकिस्तान में हिन्दुओं-सिखों की मदद के लिए न आई कोई राजनीतिक पार्टियाँ और ना ही आए वह नेता, जो उस समय इतिहास में खुद को दर्ज कराना चाहते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,564FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe