Thursday, April 18, 2024
Homeदेश-समाज70000 फरिश्ते अगर नहीं बचा पाए तो डॉक्टर क्या करेगा? निज़ामुद्दीन के तबलीगी मौलाना...

70000 फरिश्ते अगर नहीं बचा पाए तो डॉक्टर क्या करेगा? निज़ामुद्दीन के तबलीगी मौलाना का लॉजिक

मौलवी का कहना है कि अगर बीमारी है तो 70 हज़ार फरिश्तों से दुआ करो, किसी भी डॉक्टर से नहीं। वो कहता है कि अगर 70 हज़ार फ़रिश्ते साथ हैं तब बचाव नहीं हो पाया तो कोई मेडिकल विशेषज्ञ या डॉक्टर क्या कर लेगा? वो बार-बार लोगों को कहता है कि जब ऐसी आपदा आए तो अल्लाह की ज्यादा इबादत करो।

कोरोना वायरस को लेकर समुदाय विशेष में किस तरह से गलतफहमी फैलाई जा रही है और ये काम उनके मौलाना-मौलवी ही कर रहे हैं, ये आपको निजामुद्दीन मरकज मौलाना के एक वीडियो से पता चल जाएगा। इस वीडियो में उसके ‘उपदेश’ सुने जा सकते हैं जो मजहब वालों के लिए हैं। इसमें वो कहता है कि दुनिया में कौन सी ऐसी जगह है, जहाँ आपदा नहीं आई है? क्या वहाँ से भाग जाओगे? इसके बाद वो कुरआन की आयतों का हवाला देते हुए पूछता है कि मौत से भाग कर कहाँ जाओगे, वो तो तुम्हारे आगे-आगे चल रही है, पीछे नहीं। मौत इंसान के आगे रखा है अल्लाह ने, सामने, पीछे नहीं। इसीलिए, मौलाना ‘न भागने’ की सलाह देता है।

इस वीडियो में मौलाना कहता है कि इस हालात में भागना अल्लाह के गुस्से को और बढ़ा देगा। इसके बाद उसने एक कहानी सुनाई। इस कहानी में एक कातिल होता है, जो खून करने के बाद अदालत में पेश किया जाता है तो जज को ही मार डालने की धमकी देता है। इसके बाद मौलाना ने पूछा कि क्या उस मुजरिम को छोड़ दिया जाएगा? फिर वो बताता है कि अदालत में अपील की जाती है, माफ़ी माँगी जाती है, जज का क़त्ल नहीं किया जाता। फिर वो समझाता है कि अल्लाह की तरफ़ से जब ऐसी कोई स्थिति आए तो ये मौका अल्लाह-ताला से माफ़ी माँगने का है।

साथ ही मौलवी लोगों को डॉक्टरों की सलाह न मानने की भी सलाह देता है। वो कहता है कि उनके कहने पर मिलना-जुलना नहीं छोड़ना चाहिए और नमाज भी जारी रखना चाहिए। मौलवी का कहना है कि अगर बीमारी है तो 70 हज़ार फरिश्तों से दुआ करो, किसी भी डॉक्टर से नहीं। वो कहता है कि अगर 70 हज़ार फ़रिश्ते साथ हैं तब बचाव नहीं हो पाया तो कोई मेडिकल विशेषज्ञ या डॉक्टर क्या कर लेगा? वो बार-बार लोगों को कहता है कि जब ऐसी आपदा आए तो अल्लाह की ज्यादा इबादत करो।

ये ‘दिल्ली मरकज’ के यूट्यब पेज पर मौलाना के भाषण का पूरा वीडियो का स्क्रीनशॉट है

मौलवी ने कहा कि आज मस्जिदों को बंद करने को कहा जा रहा है, जो ग़लत है। उसने डॉक्टरों की सलाहों की बात करते हुए लोगों से पूछा कि उन्हें इस बात पर कैसे यकीं आ गया कि मिलेंगे-जुलेंगे तो बीमारी फैलेगी, उन्हें इस बात पर यकीन क्यों नहीं आया कि इस समय अल्लाह उनकी हिफाजत करेगा? मौलाना ने कोरोना पर डॉक्टरों की सलाहों को इस्लाम के ख़िलाफ़ साज़िश करार दिया। उसने कहा कि ये सब एक तय कार्यक्रम के तहत किया जा रहा है ताकि मजहब के लोग एक थाली में न खाएँ और साथ न बैठें।

https://www.youtube.com/watch?v=24yPKrrDmKU
मौलाना निजामुद्दीन मरकज का कोरोना पर अजोबोग़रीब भाषण

मौलाना ने समुदाय के लोगों को दिलासा दिया कि ये बीमारी तो गुजर जाएगी लेकिन उनका इस्लाम में यकीन बने रहना चाहिए। उसने कोरोना को मजहब के लोगों को अलग करने की साज़िश करार दिया। उसने सलाह दी कि मजहब के लोगों को एक-दूसरे के साथ रहना चाहिए और नमाज पढ़ना कभी बंद नहीं करना चाहिए। वीडियो में 3 मिनट के बाद आप सुन सकते हैं, कैसे मौलाना फरिश्तों की बातें कर के डॉक्टरों को नकार रहा है। मौलाना का कहना है कि दुनिया की कोई भी बीमारी लाइलाज नहीं है। उसका दावा है कि नई बीमारियाँ इसीलिए पैदा हो रही है, क्योंकि गुनाह भी नए-नए हो रहे हैं। बकौल मौलाना, ऐसी बीमारी दवा नहीं बल्कि दुआ से ठीक होती है। इस पूरे तक़रीर में जमात के लोगों को खाँसते हुए भी सुना जा सकता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल-हराम के जाल में फँसा कनाडा, इस्लामी बैंकिंग पर कर रहा विचार: RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारत में लागू करने की...

कनाडा अब हलाल अर्थव्यवस्था के चक्कर में फँस गया है। इसके लिए वह देश में अन्य संभावनाओं पर विचार कर रहा है।

त्रिपुरा में PM मोदी ने कॉन्ग्रेस-कम्युनिस्टों को एक साथ घेरा: कहा- एक चलाती थी ‘लूट ईस्ट पॉलिसी’ दूसरे ने बना रखा था ‘लूट का...

त्रिपुरा में पीएम मोदी ने कहा कि कॉन्ग्रेस सरकार उत्तर पूर्व के लिए लूट ईस्ट पालिसी चलाती थी, मोदी सरकार ने इस पर ताले लगा दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe