Wednesday, April 1, 2020
होम देश-समाज किसी ने काट लिया कलावा तो किसी ने फाड़ दिया 'जय श्री राम' का...

किसी ने काट लिया कलावा तो किसी ने फाड़ दिया ‘जय श्री राम’ का स्टीकर: पलायन करते हिन्दुओं का डर

"छोटी सी बच्ची है मेरी। आपने देखा ना 'जय श्री राम' वाला स्टीकर देख कर मुसलमानों ने विनोद का क्या किया? आज हम हिन्दुओं का ये हाल है कि हम राम का नाम भी नहीं ले सकते। जला कर मार डालते हैं।"

ये भी पढ़ें

Nupur J Sharma
Editor, OpIndia.com since October 2017

डर का आलम ऐसा कि गोपाल काँप रहे थे। थड़थड़ाती आवाज़ में वे बोलते हैं- “हिन्दुओं को मार रहे हैं जी।” अनिश्चितता के इस दौरान में निरंकुश अत्याचार की बानगी गोपाल के चेहरे पर साफ़ देखी जा सकती थी। यही स्थिति है, दिल्ली के हिन्दुओं की। अगर आप हिन्दू हैं, तो आप हिन्दू दिखने का रिस्क नहीं ले सकते। हिन्दू दिखेंगे तो मारे जाने का डर है। रुद्राक्ष, कलावा, गाड़ी पर हिन्दू स्टीकर या तिलक- ये सब किसी अनहोनी का कारण बन सकता है या इसे बनाया जा सकता है, ‘उनके’ द्वारा। बुधवार (फरवरी 26, 2020) के सुबह की बात है, जब गोपाल अपनी बाइक साफ़ कर रहे थे।

अब तक ये काम उनके छोटे भाई शिवा करते आ रहे थे। गोपाल की पत्नी जया घर के कुछ छोटे-मोटे सामान एक जगह रखने में लगी हुई थी। एक दो तौलिए, गणेश की छोटी सी प्रतिमा और एक फैमिली फोटो- सामान के नाम पर वो यही सब रख रही थीं। मुझसे उन्होंने कहा, “मैं जफराबाद जाना चाहती हूँ। यहाँ से ज्यादा दूर भी नहीं है। लेकिन कैसे जाएँ? क्योंकि बीच में मस्जिद ही मस्जिद है।” जया ग़लत नहीं कह रही थीं क्योंकि हिन्दू बहुल मौजपुर के आसपास कई मस्जिद हैं। इलाक़े के हिन्दुओं को इसका भान है कि उन मस्जिदों से हिंसा भड़काई जा रही है। इस नक़्शे को देखिए:

मौजपुर के आसपास के मस्जिद, जिनसे डर रहे हैं स्थानीय हिन्दू

दिल्ली में मुस्लिम भीड़ जिस तरह से हिन्दुओं पर कहर बरपा रही है, हिन्दुओं के पास ज्यादा विकल्प नहीं बचे हैं। वो एकदम बेचारे हो चुके हैं। गोपाल भी मौजपुर के निवासी हैं। उनके घर में उनकी माँ, पत्नी, छोटा भाई और एक 6 साल की बेटी। मुस्लिम बहुल जाफराबाद और ब्रह्मपुरी से उठी हिंसा की लपटों ने मौजपुर को भी अपने आगोश में ले लिया और वहाँ के हिन्दुओं की स्थिति भी दयनीय है। गोपाल के घर से कुछ ही दूरी पर विनोद कुमार को मार डाला गया था। उनके बेटे नितिन के सामने ही। क्यों? क्योंकि उनकी बाइक पर ‘जय श्री राम’ का स्टिकर लगा हुआ था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

‘अल्लाहु अकबर’ और ‘नारा-ए-तकबीर’ जैसे मजहबी नारों के बीच विनोद को मार डाला गया। वायरल हुए विडियो में उनके शव को सड़क पर पड़े हुए देखा जा सकता है। उससे कुछ ही दूरी पर आग से झुलसी हुई उनकी बाइक भी पड़ी थी। उनके बेटे नितिन बताते हैं कि इस्लामी टोपी पहनी मुस्लिम भीड़ कुल 40 की संख्या में थी, जिसने लाठी-डंडों से पीट-पीट कर विनोद को मार डाला। एक लाचार हिन्दू ने वीडियो शूट करते समय कहा:

“देखिए, मुस्लिमों का ये हाल। हिन्दुओं का जीना बेहाल कर दिया है। एक लाश भेजी गई है मुसलमानों की तरफ़ से हमारे हिन्दू भाई की। ये घटना ब्रह्मपुरी गली नंबर एक की है। वो सन्देश दे रहे हैं- ले जाओ लाश, ऐसी लाशें तो रात भर उठती ही रहेंगी।”

इलाक़े में डर का माहौल है और हिन्दू पलायन की सोच रहे हैं। गोपाल का परिवार उससे अलग नहीं है। उनके पास अब भागने या घर में दुबके रहने के सिवा कोई चारा नहीं बचा है। अव्वल तो ये कि ये दोनों उपाय भी रिस्की हैं। गोपाल ने भी जाने से पहले अपनी बाइक पर लगे ‘जय श्री राम’ स्टीकर को खुरच के हटाया। गोपाल कहते हैं- “छोटी सी बच्ची है मेरी। आपने देखा ना ‘जय श्री राम’ वाला स्टीकर देख कर मुसलमानों ने विनोद का क्या किया? आज हम हिन्दुओं का ये हाल है कि हम राम का नाम भी नहीं ले सकते। जला कर मार डालते हैं।” गोपाल की काँपती हुए आवाज़ उस इलाक़े के हिन्दुओं का डर बता रही थी।

ख़ुफ़िया एजेंसियों की मानें तो ‘भीम आर्मी’ और पीएफआई ने हिन्दुओं के ख़िलाफ़ हिंसा को भड़काने की पूरी साज़िश रची है। निशाना अधिकतर हिन्दू ही बने हैं, भले ही मीडिया ये दिखाने का ग़लत प्रयास कर रहा हो कि मुस्लिम ही पीड़ित हैं। मौजपुर से कुछ ही दूरी पर आईबी अधिकारी अंकित शर्मा को मार डाला गया था। आरोप है कि आम आदमी पार्टी के निगम पार्षद ताहिर हुसैन के गुंडे अंकित सहित 4 लोगों को घसीट पर ले गए और उन्हें मार डाला। इसके बाद उनके शवों को नाले में फेंक दिया।

मोहम्मद शाहरुख़ का वायरल विडियो तो अपने देखा ही होगा, जिसने भजनपुरा में पुलिस पर 8 राउंड फायरिंग की थी। वो इलाक़ा भी शाहदरा से ज्यादा दूर नहीं है। एक और हिन्दू परिवार से हमने बात की, जो काफ़ी डरा हुआ था। हर्ष ने अपने हाथ पर बँधे हुए कलावे को काट कर हटा दिया, जो उसकी दादी उसे रोज बाँधा करती थीं। मज़बूरी है, मुस्लिम भीड़ यही सब देख कर भड़क रही है। हर्ष कहते हैं अंकित की तरह उन्हें भी मारा जा सकता है, अगर उन्होंने कलावा नहीं हटाया तो। वो कहते हैं कि जो कलावा उनकी रक्षा के लिए बाँधा जाता था, वो उनकी मौत का कारण भी बन सकता है।

हर्ष ने बताया कि उनके एक दोस्त ने रुद्राक्ष हटा दिया है, क्योंकि आस्था के ऊपर अभी अपनी रक्षा को रखना सबसे बड़ी प्राथमिकता है। हर्ष चाकू के साथ सोते हैं क्योंकि आत्मरक्षा के लिए कोई न कोई उपाय तो रखना ही पड़ेगा। हर्ष ने कहा- “हमारी बहन-बेटियों को भी लाठी उठानी पड़ी है। मुसलमान आएँगे तो सबसे ज्यादा ख़तरा उन्हें ही है। हमने अपनी बहन-बेटियों को कह रखा है कि अगर हमें कुछ हो जाएँ तो वो पहले अपनी जान बचाएँ या ख़ुद मर जाएँ।” दिल्ली के दंगा प्रभावित इलाक़ों में यही हाल है हिन्दुओं का।

(मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा लेख पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। मृतकों के अलावा अन्य पीड़ितों का नाम बदल दिए गए हैं।)

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

Nupur J Sharma
Editor, OpIndia.com since October 2017

ताज़ा ख़बरें

तबलीगी मरकज से निकले 72 विदे‍शियों सहित 503 जमातियों ने हरियाणा में मारी एंट्री, मस्जिदों में छापेमारी से मचा हड़कंप

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने बताया कि सभी की मेडिकल जाँच की जाएगी। उन्होंने बताया कि सभी 503 लोगों के बारे में पूरी जानकारी मिल चुकी है, लेकिन उनकी जानकारी को पुख्ता करने के लिए गृह विभाग अपने ढंग से काम करने में जुटा हुआ है।

फैक्ट चेक: क्या तबलीगी मरकज की नौटंकी के बाद चुपके से बंद हुआ तिरुमला तिरुपति मंदिर?

मरकज बंद करने के फ़ौरन बाद सोशल मीडिया पर एक खबर यह कहकर फैलाई गई कि आंध्रप्रदेश में स्थित तिरुमाला के भगवान वेंकेटेश्वर मंदिर को तबलीगी जमात मामला के जलसे के सामने आने के बाद बंद किया गया है।

इंदौर: कोरोनो वायरस संदिग्ध की जाँच करने गई मेडिकल टीम पर ‘मुस्लिम भीड़’ ने किया पथराव, पुलिस पर भी हमला

मध्य प्रदेश का इंदौर शहर सबसे अधिक कोरोना महामारी की चपेट में है, जहाँ मंगलवार को एक ही दिन में 20 नए मामले सामने आए, जिनमें 11 महिलाएँ और शेष बच्चे शामिल थे। साथ ही मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 6 हो गई है।

योगी सरकार के खिलाफ फर्जी खबर फैलानी पड़ी महँगी: ‘द वायर’ पर दर्ज हुई FIR

"हमारी चेतावनी के बावजूद इन्होंने अपने झूठ को ना डिलीट किया ना माफ़ी माँगी। कार्रवाई की बात कही थी, FIR दर्ज हो चुकी है आगे की कार्यवाही की जा रही है। अगर आप भी योगी सरकार के बारे में झूठ फैलाने के की सोच रहे है तो कृपया ऐसे ख़्याल दिमाग़ से निकाल दें।"

बिहार की एक मस्जिद में जाँच करने पहुँची पुलिस पर हमले का Video, औरतों-बच्चों ने भी बरसाए पत्थर

विडियो में दिख रही कई औरतों के हाथ में लाठी है। एक लड़के के हाथ में बल्ला दिख रहा है और वह लगातार मार, मार... चिल्ला रहा। भीड़ में शामिल लोग लगातार पत्थरबाजी कर रहे हैं। खेतों से किसी तरह पुलिसकर्मी जान बचाकर भागते हैं और...

तबलीगी जमात वालों ने अस्पताल के क्वारंटाइन में भी डॉक्टरों पर थूका, बदतमीजी जारी है

ये लोग सुबह से किसी की नहीं सुन रहे थे और खाने की चीजों की अनुचित माँग कर रहे थे। उन्होंने क्वारंटाइन सेंटर में कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार किया। यही नहीं, उन्होंने वहाँ पर मौजूद डॉक्टरों समेत अन्य काम करने वाले सभी लोगों पर थूकने लगे।

प्रचलित ख़बरें

रवीश है खोदी पत्रकार, BHU प्रोफेसर ने भोजपुरी में विडियो बनाके रगड़ दी मिर्ची (लाल वाली)

प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार को सलाह देते हुए कहा कि वो थोड़ी सकारात्मक बातें भी करें। जब प्रधानमंत्री देश की जनता की परेशानी के लिए क्षमा माँग रहे हैं, ऐसे में रवीश क्या कहते हैं कि देश की सारी जनता मर जाए?

800 विदेशी इस्लामिक प्रचारक होंगे ब्लैकलिस्ट: गृह मंत्रालय का फैसला, नियम के खिलाफ घूम-घूम कर रहे थे प्रचार

“वे पर्यटक वीजा पर यहाँ आए थे लेकिन मजहबी सम्मेलनों में भाग ले रहे थे, यह वीजा नियमों के शर्तों का उल्लंघन है। हम लगभग 800 इंडोनेशियाई प्रचारकों को ब्लैकलिस्ट करने जा रहे हैं ताकि भविष्य में वे देश में प्रवेश न कर सकें।”

जान-बूझकर इधर-उधर थूक रहे तबलीग़ी जमात के लोग, डॉक्टर भी परेशान: निजामुद्दीन से जाँच के लिए ले जाया गया

निजामुद्दीन में मिले विदेशियों ने वीजा नियमों का भी उल्लंघन किया है, ऐसा गृह मंत्रालय ने बताया है। यहाँ तबलीगी जमात के मजहबी कार्यक्रम में न सिर्फ़ सैकड़ों लोग शामिल हुए बल्कि उन्होंने एम्बुलेंस को भी लौटा दिया था। इन्होने सतर्कता और सोशल डिस्टन्सिंग की सलाहों को भी जम कर ठेंगा दिखाया।

बिहार के मधुबनी की मस्जिद में थे 100 जमाती, सामूहिक नमाज रोकने पहुँची पुलिस टीम पर हमला

पुलिस को एक किमी तक समुदाय विशेष के लोगों ने खदेड़ा। उनकी जीप तालाब में पलट दी। छतों से पत्थर फेंके गए। फायरिंग की बात भी कही जा रही। सब कुछ ऐसे हुआ जैसे हमले की तैयारी पहले से ही हो। उपद्रव के बीच जमाती भाग निकले।

मंदिर और सेवा भारती के कम्युनिटी किचेन को ‘आज तक’ ने बताया केजरीवाल का, रोज 30 हजार लोगों को मिल रहा खाना

सच्चाई ये है कि इस कम्युनिटी किचेन को 'झंडेवालान मंदिर कमिटी' और समाजसेवा संगठन 'सेवा भारती' मिल कर रही है। इसीलिए आजतक ने बाद में हेडिंग को बदल दिया और 'कैसा है केजरीवाल का कम्युनिटी किचेन' की जगह 'कैसा है मंदिर का कम्युनिटी किचेन' कर दिया।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

170,197FansLike
52,766FollowersFollow
209,000SubscribersSubscribe
Advertisements