कांचीपुरम में मंदिर के पास धमाका, आतंकी हमलों को लेकर हाई अलर्ट है तमिलनाडु

श्रीलंका के रास्ते भारत में 6 लश्कर आतंकियों की घुसपैठ की खुफिया रिपोर्ट के बाद अब तक 4 संदिग्ध हिरासत में लिए जा चुके हैं। इनमें एक महिला भी है।

श्रीलंका से लश्कर आतंकियों की घुसपैठ के मद्देनजर तमिलनाडु हाई अलर्ट है। इस बीच, राज्य के कांचीपुरम में एक मंदिर के पास धमाके से एक की मौत हो गई और पॉंच अन्य जख्मी हो गए।

धमाका कैसे हुआ यह स्पष्ट नहीं है। हालॉंकि पुलिस का कहना है कि फिलहाल इस धमाके को हाई अलर्ट से जोड़कर नहीं देखा जा रहा।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक मनमपति मंदिर के एक टैंक की सफाई के दौरान धमाका हुआ। सफाई के दौरान एक अज्ञात वस्तु के अचानक फटने से रविवार (अगस्त 25, 2019) को धमाका हुआ। बम निरोधक दस्ता इस बात की जाँच कर रहा है कि किस कारण से धमाका हुआ और उसमें कौन सा विस्फोटक पदार्थ था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, “मनमपति में मंदिर के पास एक टैंक से गाद निकाला जा रहा था। इसी दौरान वहाँ के मजदूरों को एक अज्ञात वस्तु मिली। उन्होंने उसे खोलने की कोशिश तो वह फट गया, जिसमें के. सूर्या नामक एक शख्स की मौत हो गई और 5 अन्य लोग घायल हो गए।”

कुछ मीडिया रिपोर्टों में एक प्रत्यक्षदर्शी के हवाले से बताया गया है कि मंदिर के पास पांच संदिग्ध लोग घूम रहे थे। इनमें से एक के पास बॉक्स था। जब उसने बॉक्स को खोलने की कोशिश की, तो धमाका हो गया।

बता दें कि, प्रदेश में आतंकियों के घुसने की खबर के बाद अलर्ट जारी किया गया है, लेकिन पुलिस ने इस आतंकवादी को लेकर जारी अलर्ट से इसका किसी तरह का संबंध होने से इनकार किया है।

पुलिस अधिकारी का कहना है कि शुरू में तो धमाके की बात सुनकर वो भी हैरान थे, लेकिन जब घटनास्थल पर जाकर देखा तो यह अलग तरह का धमाका था। उन्होंने बताया कि घायलों को सरकारी अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है।

गौरतलब है कि, श्रीलंका के रास्ते भारत में 6 लश्कर आतंकियों की घुसपैठ की खुफिया रिपोर्ट के बाद 4 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। जिसमें से एक महिला भी शामिल है। तमिलनाडु के कोयंबटूर और केरल के कोच्चि से दो-दो लोगों को पकड़ा गया था। केरल पुलिस ने इससे पहले लश्कर-ए-तैयबा से संबंध रखने वाले एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था। और फिर कोयंबटूर पुलिस ने 2 और संदिग्धों के उससे संबंध रखने के में हिरासत में लिया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: