श्रीलंका से घुसे लश्कर आतंकी, कोयंबटूर और कोच्चि से 4 पकड़े गए, 1 महिला भी

कोच्चि की एक अदालत परिसर से पुलिस ने आतंकी संगठनों से संबंध रखने के संदिग्ध व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। वह दो दिन पहले ही बहरीन से लौटा था। एक महिला भी हिरासत में ली गई है।

श्रीलंका के रास्ते भारत में छह लश्कर आतंकियों की घुसपैठ की खुफिया रिपोर्ट के बाद चार संदिग्ध हिरासत में लिए गए हैं। इनमें से एक महिला भी है।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक तमिलनाडु के कोयंबटूर और केरल के कोच्चि से दो-दो लोगों को पकड़ा गया है। इनसे पूछताछ की जा रही है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक केरल पुलिस ने 2 दिन पहले लश्कर-ए-तैयबा से संबंध रखने वाले एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था। अब कोयंबटूर पुलिस ने 2 और संदिग्धों के उससे संबंध रखने के में हिरासत में लिया है।

वहीं, कोच्चि की एक अदालत परिसर से पुलिस ने शनिवार को आतंकी संगठनों से संबंध रखने के संदिग्ध व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। उसकी पहचान अब्दुल रहीम के तौर पर हुई है। एक महिला भी हिरासत में ली गई है। मलयालम समाचार चैनलों ने एक वीडियो प्रसारित किया है जिसमें पुलिस संदिग्ध व्यक्ति को जिला अदालत परिसर से ले जा रही है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

संदिग्ध के वकील ने एक चैनल को बताया कि वह त्रिशूर जिले के कोदुन्गल्लुर का रहने वाला है। दो दिन पहले ही वह बहरीन से लौटा था। वकील के मुताबिक संदिग्ध अपनी बेगुनाही साबित करने के लिए एक याचिका दायर करने अदालत आया था, क्योंकि इस तरह की खबरें थीं कि उसका संबंध लश्कर के उन सदस्यों से है जो श्रीलंका के रास्ते तमिलनाडु में घुसे हैं। वकील का दावा है कि संदिग्ध का इससे कोई लेना-देना नहीं है। कोई उसके पहचान पत्र का गलत इस्तेमाल कर उसे फँसा रहा है।

गौरतलब है कि, लश्कर के 6 आतंकवादियों के तमिलनाडु में घुसने को लेकर खुफिया एजेंसियों की चेतावनी के बाद कोयंबटूर समेत पूरे राज्य में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया था। इन आतंकियों में 1 पाकिस्तानी और 5 श्रीलंकाई तमिल शामिल हैं। इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) ने श्रीलंका के रास्ते तमिलनाडु में घुसने वाले आतंकवादियों के वेश बदलकर दाखिल होने की बात भी कही थी। कहा गया था कि ये सभी आतंकवादी मुस्लिम हैं, लेकिन हिंदुओं की वेशभूषा में ये भारत में घुसे हैं। इन्होंने तिलक और भभूत लगा रखा है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राम मंदिर
"साल 1855 के दंगों में 75 मुस्लिम मारे गए थे और सभी को यहीं दफन किया गया था। ऐसे में क्या राम मंदिर की नींव मुस्लिमों की कब्र पर रखी जा सकती है? इसका फैसला ट्रस्ट के मैनेजमेंट को करना होगा।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,155फैंसलाइक करें
41,428फॉलोवर्सफॉलो करें
178,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: