Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजयूपी को $1 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बनाने की ओर CM योगी आदित्यनाथ: JNU में होगी...

यूपी को $1 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बनाने की ओर CM योगी आदित्यनाथ: JNU में होगी इस पर बृहद चर्चा, साथ ही लॉन्च होगी रिसर्च पुस्तिका

इस पुस्तिका का नाम 'योगी एट ट्रिलियन अभियान: उत्तर प्रदेश सुदृढ़ अर्थव्यवस्था की ओर' है, जिसका विमोचन किया जाने वाला है।

दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में यूपी की अर्थव्यवस्था पर एक बृहद चर्चा होने वाली है। साथ ही वन ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी पर एक शोध पुस्तिका भी लॉन्च की जाएगी। इस पुस्तिका का नाम ‘योगी एट ट्रिलियन अभियान: उत्तर प्रदेश सुदृढ़ अर्थव्यवस्था की ओर’ है, जिसका विमोचन किया जाने वाला है। नई दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में बुधवार (16 अगस्त, 2023) को इस कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा।

विशेषज्ञों का मानना है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी बनाने का लक्ष्य उत्तर प्रदेश के वन ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी के रास्ते से होकर ही गुजरेगा। इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से उत्तर प्रदेश में किये जा रहे प्रयासों को लेकर पहली शोध पुस्तिका का विमोचन आगामी 16 अगस्त को शाम साढ़े 4 बजे नई दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के कन्वेंशन सेंटर में किया जाएगा।

जेएनयू प्रोफेसर पूनम कुमारी द्वारा संपादित मूलत: अंग्रेजी में “योगी ऐट वन ट्रिलियन ड्राइव: एक्सलरेटिंग यूपी टू ए ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी” और इसके हिन्दी अनुवादित शोध पुस्तिका “योगी ऐट ट्रिलियन अभियान: उत्तर प्रदेश सुदृढ़ अर्थव्यवस्था की ओर” का विमोचन केंद्रीय राज्य मंत्री जनरल डॉ वीके सिंह करेंगे। इस दौरान इंदिरा गाँधी नेशनल सेंटर फॉर आर्ट्स के अध्यक्ष प्रोफेसर रामबहादुर राय, दिल्ली विश्वविद्यालय के डीन ऑफ कॉलेज प्रो बलराम पाणि, जेएनयू की कुलपति प्रो शांतिश्री डी. पंडित और एस एटेंसी रिसर्च सेंटर, बैंगलूरु के निदेशक संजीव निश्त्तल मौजूद रहेंगे।

शोध पुस्तिका में देश और दुनिया के चोटी के प्रोफेसर्स द्वारा अपने शोध से इस बात पर विस्तार से प्रकाश डाला गया है कि कैसे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रधानमंत्री के विजन को मिशन के रूप में लेते हुए ना केवल उत्तर प्रदेश को लेकर देश-दुनिया के परसेप्शन को बदल रहे हैं, बल्कि 2027 तक यूपी को वन ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी बनाने के उनके लक्ष्य का भी इसमें सूक्ष्मता के साथ परीक्षण किया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -