Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजDRDO के 1.50 लाख ऑक्सीकेयर सिस्टम की खरीद को PM CARES ने दी मंजूरी,...

DRDO के 1.50 लाख ऑक्सीकेयर सिस्टम की खरीद को PM CARES ने दी मंजूरी, ₹322.5 करोड़ होंगे खर्च

डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) के मुताबिक, यह एक SpO2 आधारित ऑक्सीजन सप्लाई सिस्टम है, जो आक्सीजन को नियंत्रित करता है, जो महसूस किए SpO2 स्तर के आधार पर मरीज तक ऑक्सीजन पहुँचाता है।

पीएम केयर फंड ने डीआरडीओ की तरफ से तैयार किए गए ऑक्सीकेयर सिस्टम को मंजूरी दे दी है। डीआरडीओ ने बुधवार (12 मई 2021) को इस बात की जानकारी दी। इसके मुताबिक जल्द ही इसकी सप्लाई की प्रक्रिया शुरू की जा सकती है।

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पीएम केयर्स फंड ने डीआरडीओ के विकसित किए ऑक्सीकेयर सिस्टम के 1 लाख 50 हजार यूनिट्स के खरीद की मंजूरी दे दी है। इसकी कीमत 322.5 करोड़ रुपए बताई जा रही है।

डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) के मुताबिक, यह एक SpO2 आधारित ऑक्सीजन सप्लाई सिस्टम है, जो आक्सीजन को नियंत्रित करता है, जो महसूस किए SpO2 स्तर के आधार पर मरीज तक ऑक्सीजन पहुँचाता है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोरोना संकट काल में देश के कई बड़े शहरों को ऑक्सीजन की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में ऑक्सीकेयर सिस्टम की खरीद का फैसला राहत भरा है। बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई एक हाई-लेवल मीटिंग के बाद यह सिस्टम खरीदने का यह फैसला लिया गया है। पीएम मोदी ने अधिकारियों को ज्यादा मामलों वाले राज्यों में इन ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर्स को जल्द से जल्द पहुँचाने का आदेश दिया है।

मालूम हो कि इस डील के तहत NRBM मास्क के साथ 1 लाख मैन्युअल और 50 हजार ऑटोमैटिक ऑक्सीकेयर सिस्टम खरीदे जा रहे हैं। DRDO ने जानकारी दी है कि इस सिस्टम को बेंगलुरु स्थित डिफेंस बायो-इंजीनियरिंग एंड इलेक्ट्रो मेडिकल लैबोरेट्री (DEBEL) ने ऊँचाई पर तैनात सैनिकों के लिए तैयार किया था। बताया जा रहा है कि यह सिस्टम फील्ड पर ऑपरेशन्स को पूरा करने के लिए तैयार किया गया है और मजबूत है।

बता दें कि डीआरडीओ के कोविड ड्रग 2-deoxy-D-glucose (2-DG) को भी हाल ही में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिली है। इस दवा के तीसरे फेज के ट्रायल के बाद यह परिणाम प्राप्त हुआ कि दवा की सहायता से कोरोना वायरस से गंभीर रूप से संक्रमित मरीजों के उपचार में सहायता मिली, साथ ही संक्रमितों में अतिरिक्त ऑक्सीजन की निर्भरता भी कम हुई है।

एंटी कोविड ड्रग 2-डिऑक्सी-D-ग्लूकोज या 2-DG को डीआरडीओ की लैब इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एण्ड एलाइड साइंस (INMAS) ने डॉ. रेड्डी लैब के साथ मिलकर बनाया है। इस दवा के उपयोग से कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों में गंभीर लक्षणों के बाद भी शीघ्रता से सुधार देखने को मिला और कई मरीजों की आरटी-पीसीआर रिपोर्ट भी निगेटिव आई। यह दवा पाउडर के रूप में उपलब्ध होगी, जिसे पानी में घोलकर लिया जा सकेगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe