Saturday, October 16, 2021
Homeदेश-समाजIS के आतंकी दम्पति के बाद अब PFI का दानिश अली गिरफ़्तार: दिल्ली दंगों...

IS के आतंकी दम्पति के बाद अब PFI का दानिश अली गिरफ़्तार: दिल्ली दंगों व जामिया से जुड़े हैं तार

दिल्ली पुलिस, पिछले दिनों हुई हिंसा में अब तक PFI के दर्जनभर सदस्यों के शामिल होने की बात कह चुकी है। इसी के साथ वह काफी समय से साइबर सेल की मदद से इनके सक्रिय सदस्यों की कॉल डिटेल खंगाल रही थी।

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनपीआर) के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शन की जाँच कर रही दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को आज बड़ी सफलता हाथ लगी। जाँच में जुटी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने आज सोमवार (मार्च 9, 2020) को दानिश नाम के PFI सदस्य को गिरफ्तार किया। दानिश पर आरोप है कि सीएए के ख़िलाफ़ वो पोस्टर बाँटने के साथ-साथ गलत प्रोपगेंडा फैला रहा था।

https://platform.twitter.com/widgets.js

दिल्ली पुलिस के अनुसार, दानिश अली दिल्ली के त्रिलोकपुरी इलाके का रहने वाला है। पुलिस इससे पूछताछ करने के बाद अब इसके बाकी साथियों का भी पता लगाने में जुटी है। पुलिस इस बात का पता लगा रही है कि आखिरकार इनका नेटवर्क किस प्रकार से जामिया में सीएए के ख़िलाफ़ चल रहे प्रोटेस्ट में काम कर रहा था व किस प्रकार से इन्हें फंंडिंग हो रही थी और दिल्ली में चल रहे सीएए के विरोध प्रदर्शन में इसका इस्तेमाल कैसे किया गया।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस, पिछले दिनों हुई हिंसा में अब तक PFI के दर्जनभर सदस्यों के शामिल होने की बात कह चुकी है। इसी के साथ वह काफी समय से साइबर सेल की मदद से इनके सक्रिय सदस्यों की कॉल डिटेल खंगाल रही थी। जिसके मद्देनजर ही रविवार को जामिया इलाके से ISIS से जुड़े दो संदिग्ध आतंकियों (दंपत्ति) की गिरफ्तारी हुई।

ये दोनों सीएए खिलाफ धरने पर बैठे लोगों को भड़काने और उकसाने का काम कर रहे थे। साथ ही सीएए के विरोध में गलत प्रोपेगेंडा चला रहे थे। पुलिस ने इनके पास से काफी सामान भी बरामद किया था। पड़ताल में ये भी पता चला था कि इनकी कोशिश सीएए के विरोध के जरिए भारत में दंगे कराने की थी।

बता दें कि पिछले साल दिसंबर में सीएए, एनआरसी के ख़िलाफ़ प्रदर्शन के दौरान दिल्ली में आगजनी, पथराव और मारपीट की कई घटनाएँ हुईं थीं। जाँच पड़ताल में दिल्ली पुलिस के विशेष जाँच दल ने पाया था कि दक्षिण के जामिया नगर के अलावा उत्तर पूर्वी दिल्ली के सीलमपुर, जाफराबाद, सीमापुर, दरियागंद में हुए दंगो में बांग्लादेशी शामिल थे। साथ ही पीएफआई की भी इसमें सक्रिय भूमिका थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

मुस्लिम बहुल किशनगंज के सरपंच से बनवाया था आईडी कार्ड, पश्चिमी यूपी के युवक करते थे मदद: Pak आतंकी अशरफ ने किए कई खुलासे

पाकिस्तानी आतंकी ने 2010 में तुर्कमागन गेट में हैंडीक्राफ्ट का काम शुरू किया। 2012 में उसने ज्वेलरी शॉप भी ओपन की थी। 2014 में जादू-टोना करना भी सीखा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,004FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe