Wednesday, June 29, 2022
Homeदेश-समाजCBI ने सुबह किया जाँच को आगे बढ़ाने से इनकार, शाम को कहा बोफोर्स...

CBI ने सुबह किया जाँच को आगे बढ़ाने से इनकार, शाम को कहा बोफोर्स से है ‘प्यार’

सुबह खबर आई थी कि देश की शीर्ष जाँच एजेंसी सीबीआई ने दिल्ली में चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट नवीन कुमार कश्यप की अदालत में बोफोर्स तोप दलाली जाँच को आगे बढ़ाने वाली याचिका वापस ले ली है जिसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि बोफोर्स दलाली कांड की जाँच बंद हो जाएगी।

केंद्रीय जाँच एजेंसी सीबीआई ने सुबह दिल्ली की एक कोर्ट को सूचित किया था कि वो बोफोर्स दलाली केस में चल रही जाँच को आगे बढ़ाने वाली अर्ज़ी को वापस लेना चाहते हैं। लेकिन ताजा समाचार मिला है कि सीबीआई ने ट्रायल कोर्ट के समक्ष 64 करोड़ की बोफोर्स तोप दलाली वाली जाँच जारी रखने की अर्जी पुनः दायर की है।

दरअसल सुबह खबर आई थी कि देश की शीर्ष जाँच एजेंसी सीबीआई ने आज (मई 16, 2019) दिल्ली में चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट नवीन कुमार कश्यप की अदालत में बोफोर्स तोप दलाली जाँच को आगे बढ़ाने वाली याचिका वापस ले ली है जिसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि बोफोर्स दलाली कांड की जाँच बंद हो जाएगी। प्राइवेट पिटीशनर अजय अग्रवाल ने भी जाँच को आगे बढ़ाने वाली याचिका वापस ले ली थी।

परंतु शाम होते-होते खबर आई कि सीबीआई ने मजिस्ट्रेट कोर्ट में जाँच को आगे बढ़ाने के लिए फिर से याचिका दायर की है। कोर्ट ने कहा कि सीबीआई स्वतंत्र जाँच एजेंसी है और उसे जाँच के लिए पूछने की आवश्यकता नहीं है। सीबीआई को केवल कोर्ट को सूचित करना होता है कि वह जाँच को आगे बढ़ाएगी या नहीं।

बोफोर्स तोप दलाली केस देश का बहुचर्चित भ्रष्टाचार का मामला है जिसमें प्रधानमंत्री राजीव का नाम आया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘इस्लाम ज़िंदाबाद! नबी की शान में गुस्ताखी बर्दाश्त नहीं’: कन्हैया लाल का सिर कलम करने का जश्न मना रहे कट्टरवादी, कह रहे – गुड...

ट्विटर पर एमडी आलमगिर रज्वी मोहम्मद रफीक और अब्दुल जब्बार के समर्थन में लिखता है, "नबी की शान में गुस्ताखी बर्दाश्त नहीं।"

कमलेश तिवारी होते हुए कन्हैया लाल तक पहुँचा हकीकत राय से शुरू हुआ सिलसिला, कातिल ‘मासूम भटके हुए जवान’: जुबैर समर्थकों के पंजों पर...

कन्हैयालाल की हत्या राजस्थान की ये घटना राज्य की कोई पहली घटना भी नहीं है। रामनवमी के शांतिपूर्ण जुलूसों पर इस राज्य में पथराव किए गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
200,225FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe