Tuesday, February 27, 2024
Homeदेश-समाजकोरोना महामारी के प्रकोप के बीच पंजाब सरकार की लापरवाही, पिछले साल के मुकाबले...

कोरोना महामारी के प्रकोप के बीच पंजाब सरकार की लापरवाही, पिछले साल के मुकाबले जलाई 4 गुना ज्यादा पराली

लुधियाना के पंजाब रिमोट सेंसिंग सेटर (PRSC) के एसीएम डिविजन के प्रमुख अनिल सूद ने कहा कि पिछले साल 21 सितंबर से 12 अक्टूबर तक पंजाब में 755 पराली जलाने के मामले सामने आए जबकि 2018 में यह संख्या 510 थी। मगर इस साल इन मामलों की गिनती बढ़कर 2,873 हो गई है।

कोरोना वायरस के कारण एक ओर जहाँ स्थिति आए दिन भयावह होती जा रही है, वहीं  कुछ राज्यों में इसे रोकने के लिए किए जा रहे कार्यों में लापरवाही साफ देखने को मिल रही है। कॉन्ग्रेस शासित प्रदेश पंजाब इन्हीं राज्यों में से एक है। ताजा जानकारी के अनुसार पंजाब में इस वर्ष पिछले साले के मुकाबले अधिक खूँटी जलाई गई है जिससे कोरोना के अधिक दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते हैं।

यह जानकारी लुधियाना के पंजाब रिमोट सेंसिंग सेटर (PRSC) के एसीएम डिविजन के प्रमुख अनिल सूद ने दी है। उन्होंने कहा कि पिछले साल 21 सितंबर से 12 अक्टूबर तक पंजाब में 755 पराली जलाने के मामले सामने आए जबकि 2018 में यह संख्या 510 थी। मगर इस साल इन मामलों की गिनती बढ़कर 2,873 हो गई है। 

उन्होंने इसके पीछे का कारण बताते हुए कहा कि पहले के सालों में बारिश हो गई थी तो वहाँ कटाई देरी में हुई इसलिए पराली जलाने की घटना कम हुई, लेकिन इस वर्ष मौसम शुष्क था इसलिए ज़्यादा घटना हो रही।

वह कहते हैं, “अभी कटाई की शुरूआती है तो जब तक इसका समय पूरा नहीं होता (यानी 30 नवंबर तक) तब तक ये कहना मुश्किल है कि पिछले सालों से कितनी ज़्यादा या कम होगी। लेकिन आने दिनों में मेरा अनुमान है ये कम ही दिखेगी।”

PRSC के मुताबिक, इस साल 21 सितंबर से 12 अक्टूबर तक के दरम्यान पराली जलानी की घटना पिछले साल की इसी अवधि के मुकाबले करीब चार गुना दर्ज की गई है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों पराली जलाने के बढ़ते मामलों का असर भी सामने आ चुका है। दिल्ली-एनसीआर में सोमवार को सीजन का सबसे ज्यादा प्रदूषण पाया गया। गाजियाबाद की स्थिति तो यह है कि वह हवा के सबसे घटिया स्तर को छू गई है वहीं गुरुग्राम की हवा में भी पिछले सालों के मुकाबले सबसे खराब स्तर देखा गया है।

दिल्ली की यदि बात करें तो यहाँ का एयर क्वॉलिटी इंडेक्स 261 दर्ज किया गया। पीएम 2.5 और पीएम 10 की मात्रा सबसे अधिक रही। इसके बाद बागपत में यही इंडेक्स 333, बहादुरगढ़ में 217, बलभागढ़ में 161, भिवाड़ी में 266, फरीदाबाद में 224, गाजियाबाद का 302, ग्रेटर नोएडा का 292, गुरुग्राम का 259, जींद का 294, कुरुक्षेत्र का 315, नोएडा में 274 रिकॉर्ड किया गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लंदन में पढ़ाई, करोड़ों की नौकरी… सब छोड़ अबू धाबी के हिंदू मंदिर में सेवा कर रहे विशाल पटेल, रेगिस्तान में ढोए कंक्रीट: PM...

स्वामीनारायण मंदिर में सेवा करने का रास्ता चुनने वाले व्यक्ति का नाम विशाल पटेल है। 43 वर्षीय विशाल पटेल का जन्म एक गुजराती परिवार में लंदन में हुआ था। वह 2016 में लंदन से UAE आकर बस गए थे। वह पहले लंदन में बैंकिंग क्षेत्र में काफी अच्छी नौकरी करते थे।

आलम,अशरफ, इरफान, फुरकान… रामनवमी हिंसा में NIA ने 16 को पकड़ा, फुटेज से हुई पहचान: बंगाल में छतों से शोभा यात्रा पर बरसाए थे...

पश्चिम बंगाल में राम नवमी हिंसा मामले की जाँच के दौरान राष्ट्रीय जाँच एजेंसी ने 16 लोगों को गिरफ्तार किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe