Thursday, July 29, 2021
Homeदेश-समाज‘कागज नहीं दिखाएँगे’ वाले अनुराग कश्यप कागजों का पुलिंदा लेकर पहुँचे पुलिस स्टेशन: अभिनेत्री...

‘कागज नहीं दिखाएँगे’ वाले अनुराग कश्यप कागजों का पुलिंदा लेकर पहुँचे पुलिस स्टेशन: अभिनेत्री के यौन शोषण का मामला

सीएए विरोधी प्रदर्शनों के समय अनुराग कश्यप के कई ट्वीट ऐसे सामने आए थे, जिनमें डॉक्यूमेंट्स किसी भी कीमत पर नहीं दिखाने की बात कही गई थी। मेनका गुरुस्वामी ने जब 10 जनवरी को यह जानकारी दी थी कि सीएए प्रभाव में आ गया है, उस समय अनुराग कश्यप ने कहा था, "आने दो हम कागज नहीं दिखाएँगे।"

बॉलीवुड के मशहूर फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप आज (अक्टूबर 1, 2020) सुबह 10 बजे वर्सोवा पुलिस थाने पहुँचे। अभिनेत्री पायल घोष की शिकायत के मद्देनजर उन्हें मुंबई पुलिस ने कल समन जारी कर थाने में 11 बजे हाजिर होने के आदेश दिए थे

थाने पहुँचने के दौरान अनुराग कश्यप के हाथ में कागजों का बंडल नजर आया। इस बंडल के साथ वह पुलिस थाने में घुस रहे थे। फिल्म निर्माता की हालिया तस्वीरें सामने आने के बाद ट्विटर पर एक पुरानी बहस छिड़ गई है। यह बहस कागज नहीं दिखाने की है।

दरअसल, जिस समय सीएए के विरोध में प्रदर्शन हो रहे थे और प्रदर्शनकारी ‘कागज नहीं दिखाएँगे’ जैसे नारे लगा रहे थे, उस समय अनुराग बॉलीवुड की उन शख्सियतों में से थे जो सोशल मीडिया पर जोर-शोर से इसका समर्थन कर रहे थे और ज्यादातर ट्वीट के जवाब में लिखते थे, ‘कागज नहीं दिखाएँ।’

अब सोशल मीडिया यूजर्स उनके ऐसे ही ट्वीट को उनकी हालिया तस्वीर के साथ शेयर करके मजाक उड़ा रहे हैं। कोई पूछ रहा है कि अनुराग ने जब अपने सारे डॉक्यूमेंट्स जला दिए थे तो कागज कहाँ से आए। कोई कह रहा है कि अभी तो एनआरसी भी नहीं आई, अभी से क्यों कागज निकाल लिए। इसके अलावा कोई अनुराग के हाथों में बंडल देखकर उसे फिल्म की स्क्रिप्ट बता रहा है तो कोई उन्हें ही झूठा बता रहा है।

सत्येंद्र तिवारी लिखते हैं, “ध्यान से देखो ये वही अनुराग कश्यप है नफरत फैलाने वाला। जो 4 दिन पहले कहता था कि कागज नहीं दिखाएँगे। ये केवल घर में बैठकर बेकसूर लोगों की मानसिकता में जहर घोलकर लोगों से दंगा करवाते हैं और खुद कागज लेकर घूमते हैं। कब तक इनके भड़काने पर आग लगाओगे?”

एक यूजर ने अनुराग का पुराना ट्वीट शेयर करते हुए लिखता है, “अनुराग कश्यप बोल रहा था कागज नहीं दिखाएगा। एनआरसी तो आई नहीं। कागज पहले निकल आए तेरे।”

सौरभ सिंह कहते हैं, “कागज नहीं दिखाने वालों का ये हाल हो गया है। खुद ही कागज दिखाने जा रहे हैं।” विजय गुप्ता कहते हैं, “हम भी देखेंगे। बस तब मत कहना कि कागज नहीं दिखाएँगे।” एक यूजर लिखता है कि ये सब वही गैंग है जो कह रहे थे, कागज नहीं दिखाएँगे। लेकिन अब कागज भी पैदा हो गया।”

गौरतलब है कि सीएए विरोधी प्रदर्शनों के समय अनुराग कश्यप के कई ट्वीट ऐसे सामने आए थे, जिनमें डॉक्यूमेंट्स किसी भी कीमत पर नहीं दिखाने की बात कही गई थी। मेनका गुरुस्वामी ने जब 10 जनवरी को यह जानकारी दी थी कि सीएए प्रभाव में आ गया है, उस समय अनुराग कश्यप ने कहा था, “आने दो हम कागज नहीं दिखाएँगे।”

इसके बाद एक ट्वीट में उन्होंने हर्ष गुप्ता को जवाब दिया था। हर्ष ने उन्हें कहा था, “तेरा बाप भी कागज दिखाएगा।” इस पर उन्होंने कहा, “अपने बाप की बात कर। जला दिए कागज सारे और औकात है किसी कि तो निकाल दे यहाँ से।”

यहाँ बता दें कि 19 सितंबर को अनुराग कश्यप पर अभिनेत्री ने यौन शोषण का आरोप लगाया था। इसके बाद पिछले हफ्ते निर्माता के ख़िलाफ़ मामला दर्ज हुआ। केस में अनुराग पर दुष्कर्म, गलत इरादे से रोकने और महिलाओं का अपमान करने पर आईपीसी की यू/एस 376 (1), 354, 341, 342 सहित कई धाराएँ लगीं। इन्हीं पर कार्रवाई करते हुए फिल्ममेकर अनुराग से आज वर्सोवा थाने में पूछताछ हो रही है।

जानकारी के मुताबिक, अनुराग कश्यप अपने वकील के साथ लगभग 10 बजे वर्सोवा पुलिस स्टेशन पहुँचे। थाने के बाहर भारी पुलिस बंदोबस्त तैनात किया गया था। जैसे ही उनकी कार ने पुलिस स्टेशन के परिसर में प्रवेश किया अधिकारियों ने पुलिस स्टेशन के गेट को बंद कर दिया।

परिसर में सिर्फ उन्हीं लोगों को प्रवेश की अनुमति है, जिन्हें पुलिस ने बुलाया था। किसी अन्य व्यक्ति को उन लोगों के अलावा प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी गई है। वहीं वर्सोवा पुलिस अधिकारी महिला शिकायतकर्ता को मेडिकल परीक्षण के लिए कूपर अस्पताल ले गए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,743FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe