Friday, January 21, 2022
Homeदेश-समाज'प्रीति रेड्डी' पढ़ी-लिखी थी, उसने अपनी बहन को क्यों किया फोन, पुलिस को क्यों...

‘प्रीति रेड्डी’ पढ़ी-लिखी थी, उसने अपनी बहन को क्यों किया फोन, पुलिस को क्यों नहीं’ – मंत्री महमूद अली

बहन को कॉल न करके पुलिस को फोन करने से प्रीति रेड्डी (बदला हुआ नाम) को कितना फायदा पहुँचता? शायद कुछ भी नहीं! क्यों? क्योंकि उसी पुलिस ने "बेटी किसी लड़के के साथ तो नहीं भाग गई" से लेकर "इलाका मेरे अंदर नहीं" तक का बहाना बनाया।

हैदराबाद के शमसाबाद में हुए प्रीति रेड्डी (बदला हुआ नाम) हत्याकांड पर जहाँ आज पूरा देश आक्रोशित है और गुनहगारों के लिए कड़ी सी कड़ी सजा की माँग कर रहा है। वहीं, तेलंगाना के गृहमंत्री महमूद अली ने इस मामले पर ऐसा बयान दे दिया है, जिसे सुनकर सोशल मीडिया पर हर ओर उनकी थू-थू हो रही है। दरअसल, इस पूरे मामले को महमूद अली ने अपने बयान से एक नया एंगल देने की कोशिश की है।

उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, “मुझे इस घटना का दुख है। लेकिन ये दुर्भाग्य की बात है कि पीड़िता एक डॉक्टर थी, पढ़ी-लिखी थी, फिर भी उसने ऐसे समय में पहले अपनी बहन को कॉल क्यों किया? उसने 100 नंबर पर कॉल क्यों नहीं किया। अगर वो 100 नंबर पर कॉल करती तो शायद उसे बचाया जा सकता था।”

गृहमंत्री ने अपने राज्य की पुलिस के लिए तो बोल दिया लेकिन बहन को कॉल न करके पुलिस को फोन करने से प्रीति रेड्डी (बदला हुआ नाम) को कितना फायदा पहुँचता? शायद कुछ भी नहीं! क्यों? क्योंकि उसी पुलिस ने बाद में प्रीति के परिवार वालों की कोई मदद नहीं की। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जब प्रीति की बहन ने उसका नंबर न मिलने पर पुलिस को सबसे पहले इसकी जानकारी देने की कोशिश की तो पुलिस द्वारा उसे ये कहकर टाला जाता रहा कि ये इलाका उनके अंतर्गत नहीं आता है। जबकि पिता ने जब अपनी बेटी की गुमशुदगी की शिकायत करवानी चाही, तो कथित तौर पुलिस ने उनसे पूछा कि कहीं उनकी बेटी किसी लड़के के साथ तो नहीं भाग गई?

सोचिए, ऐसी गंभीर स्थिति में जिस पुलिस के पास इतनी अनर्गल बातें करने का समय है क्या वो उस समय पर प्रीति की मदद के लिए त्वरित कार्रवाई करती? महमूद अली के अनुसार लड़की को अपनी बहन को नहीं, पुलिस को कॉल करना चाहिए था, ताकि उन्हें बचाया जा सके, लेकिन अगर राज्य की पुलिस इतनी ही सचेत है, तो क्या टॉल प्लाजा जैसी जगह पर कोई सुरक्षा व्यवस्था का इंतजाम नहीं होना चाहिए था?

महमूद अली के इस बयान ने आज उन लोगों को भी शर्मिंदा कर दिया है, जो राज्य में महिला सुरक्षा की दुहाई देते फिरते हैं, लेकिन जब ऐसी कोई घटना घट जाती है, तो फौरन लड़की पर इल्जाम मढ़ने से नहीं चूकते।

इस बयान के सामने आने के बाद प्रीति रेड्डी के लिए न्याय की गुहार लगाने वाले लोग अपनी अलग-अलग प्रतिक्रिया दे रहे हैं। लोगों का अली के बयान को आधार बनाकर कहना है कि त्वरित कार्रवाई और महिला सुरक्षा मानदंडो पर बात करने वाले लोग मानें चाहे न मानें, लेकिन 90 प्रतिशत भारतीयों का भरोसा 100 नंबर मिलाने से उठ चुका है।

इसके अलावा कुछ यूजर्स इस बयान को अतिसंवेदनशील करार देते हुए ये भी कह रहे हैं कि उन्हें इस बयान से कोई हैरानी नहीं है। ऐसे ही लोग महिला सुरक्षा की ऐसी बदतर स्थिति के लिए उत्तरदायी हैं।

एक यूजर ने भाजपा तेलंगाना को ये बयान टैग करते हुए लिखा है कि इस प्रकार के मंत्रियों पर तुरंत कार्रवाई की जानी चाहिए।

यहाँ बता दें कि शमसाबाद पुलिस थाने में जहाँ प्रीति की बहन से कहा गया था कि ये मामला उनके क्षेत्र में नहीं आता, उन्हें भी सस्पेंड किए जाने की माँग सोशल मीडिया पर उठ रही है और कहा जा रहा है कि सुरक्षा के नाम पर लोगों को बेवकूफ बनाने का खेल अब बंद होना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि मामले के तूल पकड़ने के बाद तेलंगाना पुलिस ने इस मामले को सुलझा लेने का दावा किया है। उनके मुताबिक गिरफ्तार आरोपित मोहम्मद पाशा और अन्य तीन बहुत दिन से प्रीति के साथ बलात्कार करने की योजना बना रहे थे और टोल प्लाजा पर खड़ी पीड़िता की स्कूटी को भी उन्होंने जान-बूझकर पंचर किया था। 

इसके अलावा प्रीति के पोस्टमार्टम में पता चला है कि उनके साथ बलात्कार ही नहीं हुआ बल्कि उन्हें गला दबाकर हत्या करने के पहले बुरी तरह टॉर्चर भी किया गया था। उनकी लाश को मोहम्मद पाशा की लॉरी में भरकर टोल प्लाजा से 30-40 (विभिन्न मीडिया रिपोर्टों में सटीक दूरी का अंतर है) किलोमीटर दूर ले जाकर आग लगा दी गई। पुलिस को जाँच में प्रीति के अंतःवस्त्र और उनके पास ही शराब की बोतलें भी मिली।

मो. पाशा ने पहले से ही प्लानिंग करके किया डॉ. प्रियंका का रेप और मर्डर, जलाई लाश: पुलिस का दावा

26 साल की डॉ. प्रियंका का रेप, मर्डर: शमसाबाद में मिली आधी जली लाश, सोशल मीडिया पर फूटा गुस्सा

गाय के पैर बाँध मो. अंसारी ने किया दुष्कर्म, नारियल तेल के साथ गाँव वालों ने रंगे हाथ पकड़ा: देखें Video

अरबाज ने प्रेमजाल में फॅंसाया, फिर 3 दोस्तों के साथ किया गैंगरेप: कैमूर में लोगों ने जला डाला आरोपित का घर

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सपा सरकार है और सीएम हमारी जेब मैं है, जो चाहेंगे वही होगा’: कॉन्ग्रेस को समर्थन का ऐलान करने वाले तौकीर रजा पर बहू...

निदा खान कॉन्ग्रेस के समर्थक मौलाना तौकीर रजा खान की बहू हैं। उन्हें उनके शौहर ने कहा था कि वो नहीं चाहते कि परिवार की महिलाएं पढ़े।

शहजाद अली के 6 दुकानों पर चला शिवराज सरकार का बुलडोजर, कार्रवाई के बाद सुराना गाँव के हिंदुओं ने हटाई मकान बेचने वाली सूचना

मध्य प्रदेश प्रशासन की कार्रवाई के बाद रतलाम में हिंदू समुदाय ने अपने घरों पर लिखी गई मकान बेचने की सूचना को मिटा दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,458FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe