Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजपत्नी का सर धड़ से अलग किया, रात भर बैठ कर उतारी खाल, दिख...

पत्नी का सर धड़ से अलग किया, रात भर बैठ कर उतारी खाल, दिख रही थी नसें और आँतें… रात का खाना नहीं मिला तो पति बना हैवान

शिवराम और पुष्पा 10 साल से अंतरजातीय विवाह में बंधे थे। उनके बीच छोटी-मोटी लड़ाइयाँ होती थीं। लेकिन सोमवार की रात उसने पत्नी की हत्या कर सुबह मकानमालिक को इसकी सूचना दी।

क्या कोई सिर्फ इसलिए अपनी पत्नी की हत्या कर सकता है, क्योंकि उसने रात में खाने के लिए खाना न दिया हो? कर्नाटक के तुमकुर से ऐसी ही वारदात सामने आ रही है, जहाँ खाना न देने के लिए अपनी पत्नी की हत्या करने वाले एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये वारदात सोमवार (27 मई 2024) की रात कुनिगल तालुक के हुलियुरुदुर्गा शहर में हुई। मंगलवार की सुबह जब पुलिस मौके पर पहुँची, तो 35 साल की पुष्पालता का शव पुलिस को मिला। उसके ही पति शिवराम ने न सिर्फ पुष्पलता की हत्या कर दी थी, बल्कि बड़ी ही बेरहमी से पत्नी का सिर धड़ से अलग करने के बाद पूरी रात उसके शरीर से चमड़ी यानी खाल को उतारता भी रहा। इस दौरान उनका 8 साल का बच्चा घर के अंदर ही सोता रहा।

पुलिस के मुताबिक, आरोपित शिवराम चीरघर में काम करता है और रोजाना अपनी 35 साल की पत्नी के साथ झगड़े किया करता था। सोमवार की रात पुष्पलता ने शिवराम को रात का खाना परोसने से मना कर दिया, इसे लेकर दोनों में रात खूब बहस भी हुई थी और फिर शिवराम ने चाकू से वार किया और फिर छुरी से उसका सिर काट दिया, जिससे उसके शरीर के हिस्से क्षत-विक्षत हो गए।

जानकारी मिली है कि पत्नी द्वारा रात का खाना परोसने से मना करने के बाद शिवराम ने इस वारदात को अंजाम दिया। महिला का शव खून से लथपथ जमीन पर पड़ा था और उसकी नसें और आँतें दिख रही थी, क्योंकि खाल उसने उतार दी थी। सुबह कटा हुआ सिर लेकर शिवराम शव के पास ही बैठा दिखाई दिया।

तुमकुर के पुलिस अधीक्षक अशोक वेंकट ने कहा कि हमने आरोपित को पकड़ लिया है। शिवराम और पुष्पा 10 साल से अंतरजातीय विवाह में बंधे थे। उनके बीच छोटी-मोटी लड़ाइयाँ होती थीं। लेकिन सोमवार की रात उसने पत्नी की हत्या कर सुबह मकानमालिक को इसकी सूचना दी। हमने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है और शिवराम को गिरफ्तार कर लिया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

NEET पर जिस आयुषी पटेल के दावों को प्रियंका गाँधी ने दी हवा, उसके खुद के दस्तावेज फर्जी: कहा था- NTA ने रिजल्ट नहीं...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में झूठी साबित होने के बाद आयुषी पटेल ने अपनी याचिका भी वापस लेने का अनुरोध किया। कोर्ट ने NTA को छूट दी है कि वह आयुषी पटेल के खिलाफ नियमानुसार एक्शन ले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -