जिस वकील ने कुरान बाँटने के मामले में ऋचा पटेल को दिलाई थी जमानत, उनकी गोली मारकर हत्या

परिजनों का कहना है कि एक ज़मीन पर क़ब्ज़े के प्रयास को लेकर रामप्रवेश सिंह निशाने पर थे। डेढ़ महीने पहले ज़मीन पर क़ब्ज़ा करने के मामले में रमेश गाड़ी और उसके साले छोटू लकड़ा ने दो दर्जन से अधिक गुर्गों के ज़रिए राम प्रवेश सिंह पर हमला करवाया था।

हत्या की वारदात को अंजाम देने वाले हमलावर बेखौफ़ घूमते हुए किस तरह से घटनाओं को अंजाम देते हैं, इस बात का अंदाज़ा सामने आए एक CCTV फुटेज को देखकर लगाया जा सकता है। झारखंड के रांची में सिविल कोर्ट के अधिवक्ता रामप्रवेश सिंह की गोली मारकर हत्या करने वाले शख़्स का वीडियो सामने आया है। इसमें हमलावर ने हाथ पीछे करके पिस्तौल छिपा रखी थी और वो बड़े आराम से अधिवक्ता की ओर चलकर आ रहा था। इसके बाद बिलकुल नज़दीक जाकर उसने अधिवक्ता की आँख के पास गोली मार दी, इससे वो वहीं ज़मीन पर गिर गए और मौक़े पर ही उनकी मौत हो गई। 

हिंदुस्तान अखबार में प्रकाशित खबर

बता दें कि रामप्रवेश सिंह वही अधिवक्ता थे, जिन्होंने 19 साल की ऋचा भारती के उस मामले की पैरवी की थी, जिसमें कोर्ट द्वारा उन्हें (ऋचा भारती) सोशल मीडिया पर साम्प्रदायिक पोस्ट की सज़ा के रूप में क़ुरान बाँटने का आदेश दिया गया था। इस मामले में ऋचा भारती को ज़मानत दिलाने के बाद वो चर्चा में आ गए थे।

इंडिया टुडे की ख़बर

दरअसल, यह घटना बीते सोमवार (9 दिसंबर) को रात के क़रीब सात बजे कांके थाना क्षेत्र के सर्वोदय नगर रोड नंबर पाँच में घटी। मृत अधिवक्ता का घर भी वहीं है। घटना के बाद मौक़े पर पहुँची पुलिस को घटनास्थल से 7.65 बोर की गोली का एक खोखा मिला, जिसे ज़ब्त कर लिया गया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ख़बर के अनुसार, बाइक सवार दो बदमाशों ने अधिवक्ता को एक गोली आँख के नीचे मारी। गोली उनके सिर को भेदते हुए आर-पार हो गई। इसके बाद आसपास के लोग उन्हें इलाज के लिए रिम्स ले गए, जहाँ डॉक्टर्स ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। विधानसभा चुनाव की गहमा-गहमी और सुरक्षा अलर्ट के बाद भी राजधानी रांची के पॉश इलाक़े में हुई इस तरह की वारदात ने क़ानून-व्यवस्था पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं। 

आसपास के CCTV फुटेज खँगालने से पुलिस को बाइक पर सवार एक अन्य अपराधी का भी पता चला नज़र आया। दरअसल, वो हत्या की वारदात को अंजाम देने के बाद हमलावर को वहाँ से ले जाने के लिए उसके इंतज़ार में खड़ा था। जैसे ही हमलावर ने अधिवक्ता को गोली मारी, उसके तुरंत बाद इंतज़ार कर रहे दूसरा अपराधी उसे वहाँ से लेकर भाग जाता है।

अधिवक्ता के परिजनों का कहना है कि सर्वोदय नगर की एक ज़मीन पर क़ब्ज़े के प्रयास को लेकर रामप्रवेश सिंह निशाने पर थे। उन्होंने बताया कि क़रीब डेढ़ महीने पहले सर्वोदय नगर की 81 डिसमिल ज़मीन पर क़ब्ज़ा करने के मामले में रमेश गाड़ी और उसके साले छोटू लकड़ा ने दो दर्जन से अधिक गुर्गों के ज़रिए राम प्रवेश सिंह पर हमला करवाया था।

यह भी पढ़ें: ऋचा भारती पर अभद्र टिप्पणी करने वाले अबु आजमी वसीम खान के ख़िलाफ़ FIR दर्ज, अभी है फरार

‘बाँटनी होगी कुरान’- जमानत के लिए कोर्ट के इस शर्त को मानने से ऋचा भारती ने किया इनकार

मुस्लिम वकीलों ने भी ऋचा भारती पर ‘कुरान जजमेंट’ को बताया आश्चर्यजनक, तबादले तक जज का बहिष्कार

ऋचा भारती को नहीं बाँटनी होगी कुरान की प्रतियाँ, राँची कोर्ट ने वापस लिया फैसला

कुरान बाँटने वाला आदेश सही, ऋचा को इस्लाम समझने का मौक़ा मिलेगा: एडवोकेट जनरल, झारखण्ड

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

लोहरदगा हिंसा
मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक हिंदुओं के घरों और संपत्ति को चुन-चुन कर निशाना बनाया गया। पथराव करने वालों में 8 से 12 साल तक के मुस्लिम बच्चे भी शामिल थे। 100 से ज्यादा घायलों में से कई की हालत गंभीर।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,804फैंसलाइक करें
35,951फॉलोवर्सफॉलो करें
163,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: