Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाज'हम सब लंग्स के साथ साँस लेता है': पटाखा विरोधी 'कार्यकर्ता' रोशनी अली ने...

‘हम सब लंग्स के साथ साँस लेता है’: पटाखा विरोधी ‘कार्यकर्ता’ रोशनी अली ने ‘रक्तहीन ईद’ को समर्थन देने वाले यूजर को दिया ‘ज्ञान’

रोशनी अली एक टीवी डिबेट में हवा की गुणवत्ता के साथ महामारी के दौरान मेडिकल ऑक्सीजन की आवश्यकता को आपस में लिंक कर रही थीं। हालाँकि, पैनल में शामिल अन्य लोगों ने उन्हें बीच में ही रोक दिया, तभी वह 'नागिन डांस' करने लगीं।

हाल ही में एक ट्विटर यूजर ने ईद को निशाने पर लेते हुए ‘रक्तहीन ईद’ (‘Bloodless Eid’) मनाने का आह्वान किया। उन्होंने इसके लिए पटाखा विरोधी एक्टिविस्ट रोशनी अली को समर्थन देने का भी वचन दिया। ट्विटर यूजर रमणीक सिंह मान ने कहा, “पटाखा रहित दिवाली के असफल प्रयास के बाद मैं #BloodlessEid के लिए रोशनी अली को अपना समर्थन देने का वचन देता हूँ।”

इसके बाद रोशनी अली ने शनिवार (6 नवंबर 2021) को 34 सेकेंड का एक वीडियो शेयर कर यूजर को जवाब दिया। उन्होंने वीडियो में कहा, “जब कुछ ही महीने पहले ऑक्सीजन नहीं मिल रहा था, जब आदमी लोग मर रहा था रस्ता पे, फिर क्या कोविड पूछा कि आप हिंदू हैं, मुस्लिम हैं, क्रिश्चियन हैं, बुद्धिस्ट हैं? ये नहीं पूछा ना? हम लोग सब लंग्स (फेफड़े) के साथ साँस लेता है। ये एक सच्चाई है।”

उन्होंने आगे कहा, “आप इस मामले को ज्यादा पॉलिटिकल या कम्युनल मत कीजिए। सबके लिए सोचिए न कि कैसे हम एक नया भारत लेकर जा सकते हैं। जहाँ पर क्लिन, रिनुएवल एर्जी और अच्छा नया सोच रहे।”

बता दें कि तथाकथित ‘कार्यकर्ता’ रोशनी अली हाल ही में एक न्यूज चैनल पर डिबेट के दौरान ‘नागिन डांस’ करने लगी थीं। रिपब्लिक बांग्ला पर एक पैनल में शामिल अली को जब अपनी बात रखने का मौका नहीं मिला तो उन्होंने डांस करना (31:50 मिनट पर) शुरू कर दिया।

उस डिबेट में अली ने पटाखों पर प्रतिबंध की जरूरत के बारे में बताते हुए कहा था, “कुछ महीने पहले हम ऑक्सीजन के लिए परेशान थे और ऑक्सीमीटर पर अपने ऑक्सीजन के स्तर की जाँच कर रहे थे।” वह हवा की गुणवत्ता के साथ महामारी के दौरान मेडिकल ऑक्सीजन की आवश्यकता को आपस में लिंक कर रही थीं। हालाँकि, पैनल में शामिल अन्य लोगों ने उन्हें बीच में ही रोक दिया, तभी वह डांस करने लगीं।

उल्लेखनीय है कि अली पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध को खारिज करने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश से नाराज हैं। उन्होंने कहा कि वह फिर से पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने के लिए कलकत्ता हाईकोर्ट में अपील करने वाली हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,742FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe