Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजRSS नेता की हत्या के मामले में अब तक 20 गिरफ्तारियाँ, सभी आरोपित PFI-SDPI...

RSS नेता की हत्या के मामले में अब तक 20 गिरफ्तारियाँ, सभी आरोपित PFI-SDPI के कार्यकर्ता: केरल में हुई थी घटना

एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया था कि श्रीनिवासन पर 20 बार तलवार से वार किए गए थे। लोगों का कहना था कि उनके पूरे शरीर में जख्म के निशान थे। 

केरल के पलक्कड़ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के नेता एसके श्रीनिवासन हत्याकांड मामले में चार और लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इस गिरफ्तारी के बाद घटनाकांड में गिरफ्तार कुल आरोपितों की संख्या 20 हो गई है। हैरानी की बात यह है कि गिरफ्तार किए गए सभी 20 आरोपित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) या उसकी शाखा सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) के कार्यकर्ता हैं या उससे जुड़े हैं

बता दें कि 16 अप्रैल को, पूर्व जिला नेता और आरएसएस के पदाधिकारी श्रीनिवासन पर एक गिरोह ने मेलमुरी में उनकी मोटरसाइकिल की दुकान पर तलवार और चाकुओं से हमला कर दिया था। एडीजीपी (कानून व्यवस्था) विजय सखारे ने बताया कि मंगलवार (3 मई, 2022) शाम को गिरफ्तार किए गए चार लोगों में से एक कथित तौर पर उस छह सदस्यीय समूह का हिस्सा था जिसने 16 अप्रैल को आरएसएस नेता एस के श्रीनिवासन की हत्या को अंजाम दिया था। उन्होंने बताया कि हत्या करने वाले सदस्यों में से दो को गिरफ्तार किया जाना अभी बाकी है। 

आरएसएस नेता की हत्या के बाद स्थानीय लोगों ने आसपास के इलाकों में दुकानें बंद करा दी और पुलिस ने सुरक्षा बढ़ा दी थी। टीवी चैनल द्वारा प्रसारित आस-पास की दुकानों के सीसीटीवी फुटेज से पता चला था कि हमलावर तीन मोटरसाइकिल पर सवार होकर दुकान पर पहुँचे थे और उनमें से तीन ने श्रीनिवासन पर हमला किया था। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया था कि श्रीनिवासन पर 20 बार तलवार से वार किए गए थे। लोगों का कहना था कि उनके पूरे शरीर में जख्म के निशान थे। 

वहीं पुलिस के मुताबिक, श्रीनिवासन की हत्या पीएफआई नेता सुबैर की हत्या के प्रतिशोध में की गई थी। बता दें कि श्रीनिवासन की हत्या से एक दिन पहले 15 अप्रैल को जिले में पीएफआई के नेता सुबैर की हत्या का मामला सामने आया था। गौरतलब है कि केरल हाल के वर्षों में कई राजनीतिक प्रतिशोध वाली हत्याओं का गवाह रहा है। इससे पहले, 15 नवंबर, 2021 को, आरएसएस कार्यकर्ता संजीत पर SDPI के कार्यकर्ताओं ने हमला कर दिया था। उस समय वह अपनी पत्नी के साथ बाइक पर जा रहे थे। पलक्कड़ जिले के एल्लापल्ली में चार लोगों ने उनकी बेरहमी से हत्या कर दी।

जब एडीजीपी (लॉ एंड ऑर्डर) को राजनीतिक बदला या जवाबी हत्याओं को रोकने के लिए पुलिस की योजनाओं के बारे में विस्तार से बताने के लिए कहा गया, तो विजय सखारे ने कबूल किया कि पूर्व नियोजित हत्याओं को रोकना बहुत मुश्किल है। उन्होंने कहा कि सांप्रदायिक मुद्दों के प्रति उनकी जीरो टॉलरेंस है। टॉप पुलिस अधिकारी ने आश्वासन दिया कि पुलिस हिस्ट्रीशीटरों और विशेष रूप से सांप्रदायिक मामलों में शामिल लोगों पर लगातार नजर रख रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -