Friday, July 23, 2021
Homeदेश-समाजRSS के 'सेवा विभाग' में सेवारत 4.79 लाख कार्यकर्ताओं ने अब तक तैयार किए...

RSS के ‘सेवा विभाग’ में सेवारत 4.79 लाख कार्यकर्ताओं ने अब तक तैयार किए 7 करोड़ भोजन पैकेट, 1.10 करोड़ को दिया राशन

लॉकडाउन के बीच लगाए गए रक्तदान शिविरों के माध्यम से इन लाखों सेवारत कार्यकर्ताओं ने 39,851 यूनिट रक्त दान किया है। महामारी के बीच खाद्य सामग्री के संकट से जूझ रहे 1,10,55,450 जरूरतमंदों को राशन की किट वितरित की गई हैं। 62,81,117 मास्क वितरित किए गए हैं।

देश में लगातार बढ़ते कोरोना मरीजों की संख्या की रोकथाम के लिए पूरे देश में लॉकडाउन जारी है, इसी बीच विभिन्न समस्याओं के जूझ रहे देशवासियों की सेवा में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) दिन-रात लगा हुआ है। लॉकडाउन के बीच देश भर में चलाए जा रहे सेवा कार्यों के आँकड़े एक बार फिर संघ द्वारा सोशल मीडिया पर शेयर किए गए हैं।

RSS के प्रमुख विभागों में से एक प्रचार विभाग द्वारा चलाए जा रहे ‘प्रेरणा’ केन्द्र की ओर से सोशल मीडिया पर संघ के कार्यों को लेकर कुछ प्रमुख आँकड़ें पेश किए गए हैं। संघ कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए सेवा कार्यों के यह आँकड़े 20 मई, 2020 तक हैं।

शेयर किए गए आँकड़ों के मुताबिक संघ की प्रेरणा से चलने वाले सेवा विभाग के 4,79,949 कार्यकर्ताओं ने पूरे देश में 85,701 स्थानों पर विभिन्न प्रकार से सेवा के कार्य किए हैं, जिन्होंने 27,98,091 प्रवासी मजदूरों को सीधे सहायता पहुँचाई है।

लॉकडाउन के बीच लगाए गए रक्तदान शिविरों के माध्यम से इन लाखों सेवारत कार्यकर्ताओं ने 39,851 यूनिट रक्त दान किया है। महामारी के बीच खाद्य सामग्री के संकट से जूझ रहे 1,10,55,450 जरूरतमंदों को राशन की किट वितरित की गई हैं। 62,81,117 मास्क वितरित किए गए हैं।

साथ ही इस दौरान लोगों को संघ कार्यकर्ताओं द्वारा कोरोना से बचने के उपाय भी बताए गए हैं। राशन वितरण के साथ ही पूरा भारत में 7,11,46,500 भोजन के पैकेट वितरित किए गए हैं। इतना ही नहीं 1,31,443 लोगों को अस्थाई निवास में रोका गया है।

वहीं आँकड़ों के मुताबिक सेवा विभाग द्वारा 1,36,867 घुमन्तु लोगों की सहायता की गई है। इस बीच 13,30,330 अन्य प्रांतों के लोगों को भी सहायता पहुँचाई गई है।

आपको बता दें कि देश में जारी लॉकडाउन के समय से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक और दायित्ववान कार्यकर्ता सेवा विभाग के माध्यम से विभिन्न सेवा कार्यों में लगे हुए हैं। इससे पहले पश्चिम बंगाल में आए चक्रवाती तूफान अम्फान के तबाही मचाने के बाद संघ के कार्यकर्ता सेवा करते हुए और संघ की गणवेश में रास्तों से मलबा हटाते हुए देखे गए थे। ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थीं।

इससे पहले मुंबई में फँसे बांग्लादेशियों की मदद करने से पुलिस ने इंकार कर दिया था। इस बीच उन लोगों की सहायता RSS के कार्यकर्ताओं ने की थी। इसे लेकर पश्चिम बंगाल के एक एनजीओ ने RSS की तारीफ की है।

इतना ही नहीं इससे पहले भी ‘सेवा भारती’ द्वारा लगातार जरूरतमंदों की की जा रही मदद को लेकर भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सेवा भारती के कदमों की सराहना की थी।

इसका एक वीडियो सामने आया था, जिसमें वो कोरोना वायरस महामारी के बीच दिल्ली और देश भर में संकट में फँसे लोगों की मदद करने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के संगठन ‘सेवा भारती’ के प्रयासों की तारीफ करते हुए दिखाई दे रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कौन है स्वरा भास्कर’: 15 अगस्त से पहले द वायर के दफ्तर में पुलिस, सिद्धार्थ वरदराजन ने आरफा और पेगासस से जोड़ दिया

इससे पहले द वायर की फर्जी खबरों को लेकर कश्मीर पुलिस ने उनको 'कारण बताओ नोटिस' जारी किया था। उन पर मीडिया ट्रॉयल में शामिल होने का भी आरोप है।

जिस भास्कर में स्टाफ मर्जी से ‘सूसू-पॉटी’ नहीं कर सकते, वहाँ ‘पाठकों की मर्जी’ कॉर्पोरेट शब्दों की चाशनी है बस

"भास्कर में चलेगी पाठकों की मर्जी" - इस वाक्य में ईमानदारी नहीं है। पाठक निरीह है, शब्दों का अफीम देकर उसे मानसिक तौर पर निर्जीव मत बनाइए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,862FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe