Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजतेलंगाना के भैंसा में कट्टरपंथी भीड़ के हमले में बेघर हुए हिंदू परिवारों के...

तेलंगाना के भैंसा में कट्टरपंथी भीड़ के हमले में बेघर हुए हिंदू परिवारों के लिए घर बनवा रही सेवा भारती

12 जनवरी को, तेलंगाना के भैंसा शहर में संप्रदाय विशेष की भीड़ ने हिंदू समुदाय के सदस्यों पर हमला किया और उनकी संपत्ति को लूट लिया और जला दिया। उग्र भीड़ ने हिंदुओं के 18 घर जला दिए गए और उनकी संपत्तियों को लूट लिया गया। भीड़ ने घटनास्थल पर पहुँची पुलिस के ऊपर भी पथराव किया।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) से जुड़ी संस्था ‘सेवा भारती’ ने तेलंगाना के आदिलाबाद जिले के भैंसा शहर में जनवरी 2020 में इस्लामी भीड़ द्वारा विस्थापित हिंदू परिवारों की मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया है। इस्लामी भीड़ ने हिंदू परिवार के घरों को जला दिया था।

इन परिवारों का समर्थन करने के लिए, सेवा भारती ने विस्थापित परिवारों के लिए नए घरों के निर्माण के लिए 24 अगस्त को एक भूमि पूजा का आयोजन किया।

इस कार्यक्रम में आरएसएस के प्रांत प्रचारक श्री देवेंद्र जी, सेवा भारती के श्री दुर्गारेड्डी के साथ ही विभिन्न सामाजिक एवं स्वयंसेवी संगठनों और स्वयंसेवकों ने भाग लिया।

गौरतलब है कि 12 जनवरी को, तेलंगाना के भैंसा शहर में संप्रदाय विशेष की भीड़ ने हिंदू समुदाय के सदस्यों पर हमला किया और उनकी संपत्ति को लूट लिया और जला दिया। संप्रदाय विशेष की उग्र भीड़ ने हिंदुओं के 18 घर जला दिए गए और उनकी संपत्तियों को लूट लिया गया। भीड़ ने घटनास्थल पर पहुँची पुलिस के ऊपर भी पथराव किया।

मुसीबत तब शुरू हुई जब संप्रदाय विशेष के एक युवक को बुजुर्गों ने भैंसा नगर में कोरबा गली के निवासियों के खिलाफ गाली-गलौज और अपशब्द के लिए टोका। स्थानीय निवासियों के अनुसार संप्रदाय विशेष का युवक रात 9 बजे के बाद लगभग 400-500 की भीड़ के साथ वहाँ पर आए और हिंसा शुरू कर दी। भीड़ ने पहले पास में खड़े दोपहिया वाहनों को जलाना शुरू किया और बाद में निवासियों पर पथराव करने लगे।

भाजपा विधायक राजा सिंह ने आरोप लगाया कि असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने लोगों को भड़का कर हिंसा को बढ़ावा दिया। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव पी मुरलीधर राव ने कहा कि ओवैसी की पार्टी पिछले कई दिनों से इलाक़े में गुटबंदी करके हिंसा की साज़िश रच रही थी। उन्होंने दावा किया कि राज्य की सत्ताधारी पार्टी टीआरएस ने भी एआईएमआईएम की करतूतों में पूरा सहयोग दिया। 

इलाक़े में कर्फ्यू लगा कर स्थिति को नियंत्रित किया गया। 2008 में इसी इलाक़े में एक मस्जिद के आगे हिंसा भड़क गई थी। दुर्गा पूजा के विसर्जन के दौरान जुलुस जैसे ही मस्जिद के पास पहुँचा, हिंसा भड़क गई।

तेलंगाना स्थित निज़ामाबाद के सांसद अरविन्द धर्मपुरी ने भी आरोप लगाया कि आगजनी व पत्थरबाजी करने वाली हिंसक भीड़ ने हिन्दुओं की संपत्ति व उनके घरों को निशाना बनाया। उन्होंने स्थानीय पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस भी एआईएमआईएम के साथ है क्योंकि उसे केसीआर की पार्टी का समर्थन प्राप्त है। 

बता दें कि कोरोना कहर के बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ी संगठन ‘सेवा भारती’ लगातार जरूरतमंदों तक मदद पहुँचा रही है। गौरतलब है कि दिल्ली में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ काफ़ी काम कर रहा है और लगातार जनसेवा में लगा हुआ है। संघ के संगठन ‘सेवा भारती’ ने पूरी दिल्ली में ग़रीबों को खाना खिलाने से लेकर बेसहारा लोगों को ज़रूरी संसाधन मुहैया कराने के लिए दिन-रात एक किया हुआ है। 

दिल्ली में 5000 संघ कार्यकर्ता लगातार लोगों के बीच भोजन बाँटने में लगे रहे। विषम परिस्थिति आने पर रोजाना डेढ़ लाख भोजन के पैकेट वितरित किए गए। रोजाना तकरीबन 75 हज़ार भोजन के पैकेट रोज बाँटे गए।

पूरी दिल्ली में 45 किचेन काम में लगे रहे। समाजसेवा में डॉक्टरों और सरकार की सलाहों का भी पूरा ध्यान रखा गया। सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन किया गया। प्रत्येक कार्यकर्ता की जिम्मेदारी थी कि वो एक स्थानीय बुजुर्ग की पूरी जिम्मेदारी उठाए और उनकी दवाओं से लेकर भोजन तक का इंतजाम करे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe