Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजUP में RSS कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या, हथियार मौके पर ही छोड़कर बदमाश...

UP में RSS कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या, हथियार मौके पर ही छोड़कर बदमाश फरार

स्थानीय आदर्श इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉक्टर सुरेश यादव (62) को अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। सुरेश यादव राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुए थे।

उत्तर प्रदेश में आम चुनाव से ठीक पहले एक संघ कार्यकर्ता की हत्या का मामला सामने आया है। उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले के राबर्ट्सगंज कोतवाली क्षेत्र में शनिवार (मार्च 30, 2019) सुबह सैर करने के लिए निकले RSS के एक कार्यकर्ता डॉक्टर सुरेश यादव (62) की गोली मारकर हत्या कर दी गई। बताया जा रहा है कि वे एक इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य भी थे। घटना सोनभद्र जिले के राबर्ट्सगंज कोतवाली क्षेत्र का है।

पुलिस अधीक्षक एसटी पाटिल ने मीडिया को बताया कि स्थानीय आदर्श इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉक्टर सुरेश यादव (62) को अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। सुरेश यादव राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुए थे। परिजनों के अनुसार वे रॉबर्ट्सगंज के छपका स्थित वन विभाग कार्यालय के पास सुबह करीब साढ़े पाँच बजे टहलने के लिए निकले थे, इसी दौरान रास्ते में कुछ मोटरसाइकिल सवार बदमाशों ने उन्हें गोली मारी और हथियार वहीं छोड़कर भाग गए।

पुलिस ने जब घर वालों से पूछताछ की तो यादव के दामाद कृष्ण कांत ने बताया कि उनके ससुर का किसी से कोई विवाद नहीं था। एक तरफ पुलिस जहाँ इस हत्या को आपसी रंजिश के तौर पर देख रही है, वहीं संघ से संबंध के चलते इसे राजनीतिक दृष्टिकोण से भी देखा जा रहा है। पुलिस ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जाँच शुरू कर दी है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -