Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाजसलमान खान, फरहान अख्तर के खिलाफ केस, कोर्ट में भी याचिका: रेप के बाद...

सलमान खान, फरहान अख्तर के खिलाफ केस, कोर्ट में भी याचिका: रेप के बाद जला देने वाली पीड़िता का नाम-फोटो मामला

डॉक्टर 'प्रीति रेड्डी' की पहचान उजागर करने के कारण सलमान खान, फरहान अख्तर, अजय देवगन, अक्षय कुमार और अनुपम खेर समेत कुल 38 मशूहर हस्तियों के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है।

हैदराबाद की डॉक्टर ‘प्रीति रेड्डी’ (बदला हुआ नाम) के साथ गैंगरेप और उन्हें जला देने वाली खबर याद है? वही जिसके सभी आरोपित (मोहम्मद पाशा, नवीन, चिंताकुंता केशावुलु और शिवा) पुलिस एनकाउंटर में मारे गए थे? इस मामले में नई खबर है। खबर बॉलीवुड-एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री से जुड़ी है।

डॉक्टर ‘प्रीति रेड्डी’ की पहचान उजागर करने के कारण सलमान खान, फरहान अख्तर, अजय देवगन, अक्षय कुमार और अनुपम खेर समेत कुल 38 मशूहर हस्तियों के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है। एक रेप पीड़िता की पहचान उजागर करना कानूनन अपराध है और इससे संबंधित एक याचिका दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में दाखिल की गई है।

दिल्ली स्थित गौरव गुलाटी नाम के वकील ने सब्जी मंडी पुलिस थाने में IPC की धारा 228A के तहत मामला दर्ज करवाया है। इसके साथ ही उन्होंने तीस हजारी कोर्ट में एक याचिका भी दाखिल की है। अपनी शिकायत में वकील गौरव गुलाटी ने कहा कि हीरो हों या सिलेब्रिटीज, उन्होंने नियमों को तोड़ते हुए पीड़िता की पहचान उजागर की है। सभी 38 लोगों को तुरंत गिरफ्तारी करने की माँग भी उनकी याचिका में है।

मरने के बाद भी रेप करते रहे थे

डॉक्टर ‘प्रीति रेड्डी’ से दरिंदगी से पहले आरोपितों ने जमकर शराब पी थी। पीड़िता को भी जबरन शराब पिलाई थी। इसके बाद आरिफ (एक आरोपित) ने उनका मुँह दबा दिया था ताकि वो चिल्ला न सकें। इसके बाद चारों आरोपितों ने बारी-बारी से उनके साथ रेप किया था। सॉंस नहीं ले पाने के कारण पीड़िता का दम घुट गया और उनकी मौत हो गई थी।

वहीं एनकाउंटर, जहाँ किया था जघन्य अपराध

हैदराबाद में पशु चिकित्सक ‘प्रीति रेड्डी’ (बदला हुआ नाम) के साथ गैंगरेप कर निर्मम हत्या करने वाले चारों आरोपित पुलिस एनकाउंटर में मारे गए थे। यह एनकाउंटर उसी जगह पर हुआ था, जहाँ उन दरिंदों ने पीड़िता के शव को जलाया था।

पुलिस पूरे क्राइम सीन को रिक्रिएट करने के लिए चारों आरोपितों को लेकर गई थी। लेकिन, वहाँ पर चारों पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश करने लगे थे। तभी एनकाउंटर करना पड़ा और सभी मारे गए।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,823FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe