Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजशाहजहाँ शेख का भाई आलमगीर 2 दोस्तों के साथ गिरफ्तार, पूछताछ में सब CBI...

शाहजहाँ शेख का भाई आलमगीर 2 दोस्तों के साथ गिरफ्तार, पूछताछ में सब CBI को भटका रहे थे: खेती लायक नहीं रहे संदेशखाली में कब्ज़ा किए गए जमीन, राज्यपाल ने बनाई कमिटी

आलमगीर और उसके दोनों साथियों को CBI ने समन जारी किया था। 5 जनवरी, 2024 को ED अधिकारियों के खिलाफ हुई हिंसा में उन पर कार्रवाई की गई है।

पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में महिलाओं के यौन शोषण का मुद्दा पूरे देश में चर्चा में रहा, जिसमें राज्य की सत्ताधारी पार्टी TMC (तृणमूल कॉन्ग्रेस) का नेता शाहजहाँ शेख मुख्य आरोपित था। शाहजहाँ शेख ED अधिकारियों पर हमले के बाद से ही फरार रहा, जो अब CBI की गिरफ्त में है। अब उसके भाई आलमगीर और दो अन्य सहयोगियों को भी गिरफ्तार किया गया है। न सिर्फ यौन शोषण, बल्कि इन सब पर अवैध जमीन कब्जे के भी आरोप हैं। पीड़िताओं में अधिकतर जनजातीय समाज के हैं।

आलमगीर और उसके दोनों साथियों को CBI ने समन जारी किया था। 5 जनवरी, 2024 को ED अधिकारियों के खिलाफ हुई हिंसा में उन पर कार्रवाई की गई है। अब शनिवार (16 मार्च, 2024) को गिरफ्तार किया गया है। महिलाओं के विरोध प्रदर्शन के बाद संदेशखाली का मुद्दा चर्चा में आया था। भाजपा ने भी इसे उठाया था। लोकसभा चुनाव 2024 से पहले बंगाल में ये मुद्दा गर्म है। गिरफ़्तारी से पहले आलमगीर से CBI के कार्यालय में 9 घंटे पूछताछ की गई।

बताया गया है कि पूछताछ के दौरान न सिर्फ आलमगीर, बल्कि उसके साथी माफीजुल मोल्ला और सिराजुल मोल्ला भी CBI के अधिकारियों को गुमराह कर रहे थे। ये लोग सवालों का अलग-अलग जवाब दे रहे थे। अंततः रात के करीब 9 बजे CBI ने उनकी गिरफ़्तारी की कार्रवाई की। अगले दिन रविवार (17 मार्च, 2024) को इन सभी को गिरफ्तार कर लिया गया। संदेशखाली मामले में अब तक 14 गिरफ्तारियाँ हो चुकी हैं। कई ED अधिकारी हमले में गंभीर रूप से घायल हुए थे।

उधर पश्चिम बंगाल के राज्यपाल CV आनंद बोस ने विशेषज्ञों की एक समिति बनाई है, जो संदेशखाली में कब्जा किए गए जमीनों का सही उपयोग कैसे किया जाए इस संबंध में अध्ययन करेगी। इन जमीनों को कब्ज़ा कर के अवैध रूप से मछलीपालन किया जा रहा था। ये जमीन उनके मालिकों को लौटा दी गई है, लेकिन अब ये खेती के लायक नहीं रह गई है। मिट्टी की ऊपरी परत को रिप्लेस करना पड़ेगा, ताकि इसमें खेती हो। दिल्ली के कृषि विशेषज्ञों से बोस ने इस संबंध में बात की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -