Friday, June 18, 2021
Home देश-समाज मेरी माँ को कहते थे काफिर, आशिक, अरशद समेत 7 ने उन्हें बेरहमी से...

मेरी माँ को कहते थे काफिर, आशिक, अरशद समेत 7 ने उन्हें बेरहमी से मारा: मृतका संतोला देवी के बेटे का दावा

प्रदीप कहते हैं कि उनकी दो बेटियाँ हैं और वह लंबे समय से उन्हें लेकर अपने गाँव नहीं गए थे। कारण पूछने पर वह बताते हैं कि गाँव के माहौल के कारण उन्हें हमेशा डर लगता था। संप्रदाय विशेष के 100 घरों में अब मुश्किल से 10 परिवार हिंदू बचे हैं।

तीन बेटों की माँ संतोला देवी संप्रदाय विशेष बाहुल्य गाँव जगनीपुर बाजार में अकेले रहकर अपना जीवन-यापन करती थीं। ऐसा नहीं था कि उनके बच्चे उन्हें अपने पास आकर रहने को नहीं कहते थे। लेकिन उनका ये सोचना था कि अगर वह अपने बच्चों के साथ रहने लगीं तो उनके पुरखों के घर का क्या होगा? उनकी मिठाई की दुकान का क्या होगा?

लेकिन उन्हें क्या पता था कि पुरखों की जमीन से यही मोहब्बत एक दिन उनकी जान ले लेगी। दूसरे समुदाय के लोग 4-5 साल से उन्हें लगातार सता रहे थे। कभी उन्हें ‘काफिर’ कहते तो कभी ‘इस्लाम का दुश्मन’। 26 मई 2020 को संप्रदाय विशेष के परिवार के 7 लोगों ने उन पर बेदर्दी से हमला बोला और अकेले होने के कारण वह कुछ नहीं कर पाईं।

घटना उत्तरप्रदेश के प्रतापगढ़ जिले के थाना क्षेत्र फतनपुर में एक गाँव जगनीपुर की है। ठीक ईद के एक दिन बाद इसे अंजाम दिया गया था। हालाँकि, उस दिन संतोला देवी का आसपास रहने वाले संप्रदाय विशेष के लोगों के साथ कोई झगड़ा नहीं हुआ था।

संतोला देवी
संतोला देवी

लड़ाई केवल दो आपसी पटिदारों में हुई थी और उन लोगों ने इसकी शिकायत भी करवाई थी। संतोला देवी की गलती इतनी थी कि उन्होंने एक पक्ष के समर्थन में अपना बयान दे दिया और जिसकी गलती थी उसके ख़िलाफ़ बोल गई।

बस इसी की बुनियाद पर उस परिवार के 7 लोगों ने उन पर 26 मई 2020 को हमला बोला और उन्हें अधमरा कर दिया। अगले दिन अस्पताल में संतोला देवी ने अपनी आखिरी साँस ली। घटना से नाराज परिजनों ने न्याय की गुहार की। लेकिन प्रशासन के कुछ अधिकारियों के रवैए ने उन्हें निराश कर दिया। बाद में एसपी और इलाके के विधायक के कारण इस मामले में उपयुक्त कार्रवाई हुई। हाल में ये तीन महीने पुराना मामला तब उछला जब इंटरनेट पर संतोला देवी के बेटे की वीडियो सामने आई जिसमें वह अपने लिए इंसाफ की गुहार कर रहे थे और पुलिस पर गंभीर आरोप मढ़ रहे थे।

ऑपइंडिया से संतोला देवी के बेटे प्रदीप की बातचीत

हमने इसी बाबत संतोला देवी के पुत्र प्रदीप कुमार से संपर्क किया। प्रदीप लंबे समय से गोवा में रहते हैं। लेकिन उनके दो भाई सुशील कुमार और सतीश कुमार माँ के घर के आसपास ही रहते हैं। प्रदीप से जब हमने पूरे मामले की जानकारी लेने का प्रयास किया तो उन्होंने हमें विस्तार से सारी बातें बताईं।

उन्होंने बताया कि उनकी माँ को वह लोग ‘काफिर’ और ‘इस्लाम का दुश्मन’ तक कहते थे। जिसकी वजह से माँ थाने में तहरीर भी देती थी। मगर, पुलिस कोई संतोषजनक कार्रवाई नहीं करती थी। जब वह हमसे इसकी चर्चा करती तो हम उन्हें अपने पास बुलाते या भाई के पास जाकर रहने की सलाह देते, लेकिन वह घर छोड़ना नहीं चाहती थीं।

प्रदीप ने बताया कि उनके एक भाई के दोनों पैर नहीं है। लेकिन उस दिन जब उसे हमले की खबर मिली तो वह फौरन माँ के दरवाजे पर पहुँचा। पर, लाचार होने के कारण वह कुछ कर न सका। इसके बाद उसकी बीवी ने माँ को बचाने का प्रयास किया। 

थोड़ी देर में दूसरा भाई और उसकी बीवी भी घर पर पहुँच गए और थाने में शिकायत दर्ज करवानी चाही। लेकिन थाने में पुलिस ने उन्हें दो घंटे बिठाए रखा। बाद में जाकर शिकायत लिखी गई।

इसके बाद वह लोग अपनी माँ को अस्पताल लेकर गए। जहाँ उन्हें इलाहाबाद के लिए रेफर किया गया और फिर लखनऊ। मगर, पैसे न होने कारण वह लोग अपनी माँ को वापस ले आए। प्रदीप बताते हैं कि घटना के 8-10 घंटे बाद तक माँ जीवित थीं। इसलिए उन लोगों ने इधर-उधर से पैसे का इंतजाम कर पास के अस्पताल में भर्ती करवाया, जहाँ उनकी मृत्यु हो गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी बताती है कि उन्हें तीन जगह चोटें आईं और रक्त रिसाव के कारण मौत हुई।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट

प्रदीप बताते हैं कि उनकी 65 वर्षीय माँ को आशिक अली, अरशद, मिनाज, जहानाबानो समेत 7 लोगों ने बेरहमी से मारा था। लेकिन पुलिस की कार्रवाई तब तक नहीं हुई जब तक इलाके के विधायक धीरज ओझा और एसपी ने इस मामले पर संज्ञान नहीं लिया।

संतोला देवी की मृत्यु के बाद अपने पुश्तैनी घर लौटे प्रदीप ने देखा कि इतने सब के बावजूद आरोपितों की दबंगई रुकी नहीं। अरशद नाम के आरोपित की माँ ने उन्हें गेट के बाहर आकर धमकाया, “एक बार हमारे बच्चों को छूटकर आने दो तब तुम लोगों को दिखाएँगे।” साथ ही ये भी कहा, “हमने पैसे पहुँचा दिया है।”

प्रदीप की मानें तो अब इस समय उन पर कुछ तथाकथित सेकुलर हिंदू दबाव बना रहे हैं कि वह पैसा लेकर इस केस को वापस ले लें। लेकिन वह कहते हैं, “हम लोगों को इंसाफ चाहिए पैसा नहीं। आज हमारे साथ हुआ कल किसी और के साथ होगा। इसलिए हमें इस तरह से नहीं करना चाहिए। हम हिंदुस्तान में रहते हैं।”

गौरतलब है कि संतोला देवी के पुत्र प्रदीप का आरोप है कि जब उनके भाई ने जहानाबानो की गिरफ्तारी के संबंध में पुलिस से बातचीत की तो इंस्पेक्टर ने उन्हें धमकाया और कहा “तुम चुप हो जाओ वरना तुम्हें भी फँसा देंगे और जेल में डाल देंगे।” इसके अलावा उनकी माँ की हत्या पर यह भी कहा गया, “वह औरत कभी न कभी तो मर ही जाती।”

प्रदीप द्वारा भेजी गई शिकायत जिसमें पुलिस अधिकारी पर आरोप है

प्रदीप कहते हैं कि उनकी दो बेटियाँ हैं और वह लंबे समय से उन्हें लेकर अपने गाँव नहीं गए थे। कारण पूछने पर वह बताते हैं कि गाँव के माहौल के कारण उन्हें हमेशा डर लगता था। संप्रदाय विशेष के 100 घरों में अब मुश्किल से 10 परिवार हिंदू बचे हैं। ऐसे में जब अपनी माँ के बारे में उन्हें पता चला तो वह रात भर सो नहीं पाए और जब पुलिस की निष्क्रियता देखी तो बड़े होकर पुलिस बनने का सपना देखने वाली अपनी बेटी को कहा कि कुछ भी बनना लेकिन पुलिस नहीं। और अगर, कभी बन जाओ तो भी किसी नेक इंसान की मदद करना।

कार्रवाई

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में इसे बकरी पर शुरू हुआ विवाद बताया जा रहा है। लेकिन उक्त सभी जानकारी हमने संतोला देवी के बेटे प्रदीप के हवाले से दी है। उन्होंने हमें बताया कि घटना वाले दिन हुआ बकरी का विवाद केवल एक बहाना था। दरअसल झगड़े की पृष्ठभूमि पहले से ही तैयार की जा चुकी थी।

वे कहते हैं उस दिन तो बस घर मे थूक कर और बकरियों को भेजकर झगड़ा शुरू किया गया था। जब उनकी माँ ने इसपर आवाज उठाई, विरोध किया तो घटना को अंजाम दिया गया। हम आगे इस रिपोर्ट में जहानाबानो की गिरफ्तारी पर अपडेट जानने का भी प्रयास कर रहे हैं। जैसे ही हमें इसकी सूचना मिलेगी। हम अपनी खबर अपडेट करेंगे।

फिलहाल की कार्रवाई को लेकर प्रतापगढ़ पुलिस ने ट्विटर पर यह जानकारी दी है कि मामले में 6 आरोपित गिरफ्तार हो चुके हैं और संतोला देवी के पुत्र ने भी इसी बात को बताया है। लेकिन, इसके साथ ही उनका कहना ये भी है कि आरोपित महिला बुर्के की आड़ लेकर छिपते घूम रही हैं। पीड़ित परिवार की माँग है कि उसकी गिरफ्तारी भी जल्द हो और उन्हें न्याय मिले।

सोशल मीडिया पर वीडियो में क्या?

अश्विनी श्रीवास्तव के अकाउंट से डाली गई वीडियो में हम देख सकते हैं कि संतोला देवी के पुत्र इंसाफ की गुहार लगा रहे हैं। साथ ही पुलिस पर आरोप भी लगा रहे हैं। वे कहते हैं कि पुलिस ने उनकी सहायता करने की बजाय संप्रदाय विशेष के लोगों से रिश्वत लेकर उनकी मदद कर रहे थे। लेकिन विधायक के दबाव में यह मामला लिखा गया। पर, पुलिस वाले अब भी उनके परिवार को धमका रहे हैं कि केस वापस लो, नहीं तो दूसरे केस में फँसा देंगे।

t>

प्रदीप के मुताबिक, झूठ केस में उनके भाइयों को फँसाने की कोशिश हो रही है। पुलिस कहती है कि 4 दिन का समय दे रहे हैं- सोच लो-समझ लो, नहीं तो जैसे आशा राम बापू को जेल में डाला, वैसे ही आप लोगों को भी डाल देंगे। इस वीडियो में प्रदीप आरोपितों का नाम बता रहे हैं। वे कहते हैं- आशिक अली, अरशद, हासमिन, मिन्हाज, बिटान, अन्नो, गिरफ्तार हैं जबकि जहानाबानो को पकड़ने में पुलिस नाकाम है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

7 दिन में हाजिर हो: ट्विटर इंडिया MD को UP पुलिस ने दिया आदेश, बुजुर्ग से मारपीट और फर्जी सांप्रदायिक एंगल का मामल

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में बुजुर्ग से मारपीट और दाढ़ी काटने के मामले में अब पुलिस ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर इंडिया के एमडी को...

‘अगर मरना पड़े तो 4-6 को मार के मरना’: कॉन्ग्रेस अल्पसंख्यक सेल का नया अध्यक्ष, जो बच्चों से लगवाता है ‘हिटलर की मौत मरेगा’...

इमरान प्रतापगढ़ी को देश के कई उर्दू मुशायरों और इस्लामी कार्यक्रमों में बुलाया जाता है और वो उन्हीं का सहारा लेकर अपना इस्लामी प्रोपेगंडा चलाते हैं।

दो समुद्री तटों और चार पहाड़ियों के बीच स्थित रायगढ़ का हरिहरेश्वर मंदिर, जहाँ विराजमान हैं पेशवाओं के कुलदेवता

अक्सर कालभैरव की प्रतिमा दक्षिण की ओर मुख किए हुए मिलती है लेकिन हरिहरेश्वर में स्थित मंदिर में कालभैरव की प्रतिमा उत्तरमुखी है।

मोदी कैबिनेट में वरुण गाँधी की एंट्री के आसार, राजनाथ बोले- UP में 2022 का चुनाव योगी के नाम

मोदी सरकार में जल्द फेरबदल की अटकलें कई दिनों से लग रही है। 6 नाम सामने आए हैं जिन्हें जगह मिलने की बात कही जा रही है।

ताबीज की लड़ाई को दिया जय श्रीराम का रंग: गाजियाबाद केस की पूरी डिटेल, जुबैर से लेकर बौना सद्दाम तक की बात

गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग के साथ हुई मारपीट की घटना में कब, क्या, कैसे हुआ। सब कुछ एक साथ।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

प्रचलित ख़बरें

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘भारत से ज्यादा सुखी पाकिस्तान’: विदेशी लड़की ने किया ध्रुव राठी का फैक्ट-चेक, मिल रही गाली और धमकी, परिवार भी प्रताड़ित

साथ ही कैरोलिना गोस्वामी ने उन्होंने कहा कि ध्रुव राठी अपने वीडियो को अपने चैनल से डालें, ताकि जिन लोगों को उन्होंने गुमराह किया है उन्हें सच्चाई का पता चले।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

‘चुपचाप मेरे बेटे की रखैल बन कर रह, इस्लाम कबूल कर’ – मृत्युंजय बन मुर्तजा ने फँसाया, उसके अम्मी-अब्बा ने धमकाया

मुर्तजा को धर्मान्तरण कानून-2020 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित को कोर्ट में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।

पल्लवी घोष ने गलती से तो नहीं खोल दी राहुल गाँधी की पोल? लोगों ने कहा- ‘तो इसलिए की थी बंगाल रैली रद्द’

जहाँ यूजर्स उन्हें सोनिया गाँधी को लेकर इतनी महत्तवपूर्ण जानकारी देने के लिए तंज भरे अंदाज में आभार दे रहे हैं। वहीं राहुल गाँधी को लेकर बताया जा रहा है कि कैसे उन्होंने बेवजह वाह-वाही लूट ली।

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,581FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe